SEX SLAVE बनाकर मौत देने वाले सनकी SERIAL KILLERS

वो साल 1984 की गर्मियां थीं जब हिंदुस्तान की ज़मीन से करीब 13,142 km दूर अमेरिका का सैन फ्रांसिस्को शहर डर की चपेट में था.क्योंकि वहां के लोगों के पड़ोसी उनके परिवार और दोस्त बिना किसी निशान के गायब हो रहे थे.पुलिस भी हैरान थी कि ऐसे लोगों के ग़ायब होने के पीछे वजह क्या है.
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीरPhotographer:Gualtiero Boffi

वो साल 1984 की गर्मियां थीं जब हिंदुस्तान की ज़मीन से करीब 13,142 km दूर अमेरिका का सैन फ्रांसिस्को शहर डर की चपेट में था...क्योंकि वहां के लोगों के पड़ोसी उनके परिवार और दोस्त बिना किसी निशान के गायब हो रहे थे.पुलिस भी हैरान थी कि ऐसे लोगों के ग़ायब होने के पीछे वजह क्या है..और इसी बीच पुलिस को सैन फ्रांसिस्को शहर के ऊपरी इलाके में ज़मीन में दबी एक लाश मिलती है.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

जब अमेरिका के कैलिफोर्निया शहर के इतिहास का चला सबसे लंबा और महंगा आपराधिक मुक़दमा

26 अक्टूबर 1998

ये वो तारिख थी जब कैलिफोर्निया शहर के इतिहास का सबसे लंबा और महंगा आपराधिक मुक़दमा चल रहा था.ये वो इंवेस्टिगेशन थी जो करीब 13 साल चली.और इस बीच फाइलों पर फाइलें जमा होती गई.जिनका कुल वज़न था करीब 2 टन.इन फाइलों में उस हत्यारें की हैवानियत क़ैद थी जिसने एक दो नहीं ब्लकि करीब 25 लोगों को अपना शिकार बनाया था

2 जून 1985

ये वो तारिख थी जब दक्षिण सैन फ़्रांसिस्को डिस्पैच ऑपरेटर को एक कॉल आती है की साउथ सिटी लम्बर पर चोरी हो रही है.ऑपरेटर वो कॉल उस वक़्त उस इलाके में मौजूद ऑफिसर डेनियल राइट को ट्रांसफर करती है.और ऑफिसर डेनियल फौरन मौके पर पहुंचते है.वहां पहुंचने पर ऑफिसर डेनियल को चश्मदीद ने बताया कि उसने एक एशियाई मूल के एक शख्स को चोरी करते देखा था. चश्मदीद ने बताया की जब उन्होंने चोर को रोका था वो झगड़ा करने लगा और मौके से फरार हो गया.इसके बाद जब उन्होंने उस शख्स की कार के पास देखा तो पाया की उसमें ब्राउन कलर का एक पाउच था जिसमें एक बंदूक थी.जिस पर साइलेंसर लगा था.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

अभी ऑफिसर डेनियल राइट गाड़ी की छान बीन ही कर रहे थे की अचानक एक अधेड़ उम्र का शख़्स आता है और बोलता है की उसके दोस्त ने जो सामान लिया था उसकी क़िमत वो अदा कर चुका है.. तभी वहां सार्जेंट पॉल ज़िमर पहुंचते है. मौक़ा-ए-वारदात पर पहुंचने के बाद उन्हें उस अधेड़ उम्र के शख़्स पर कुछ शक होता है, तो फिर वो उस शख़्स को अपने साथ पुलिस, स्टेशन लेकर जाते है साथ ही गाड़ी और बंदूक को ज़ब्त कर लेते है.

पुलिस स्टेशन जाते वक़्त वो रास्ते में ज़िमर को बताता है की उसके साथी का नाम चार्ल्स है.जिसके बाद सार्जेंट पॉल रेडियो पर कंट्रोल रूम को उस शख़्स का बैग्राउंड पता करने के लिए बोलते हैं जिसका नाम चार्ल्स है. बाद में पुलिस को पता चलता है की चार्ल्स हांगकांग में पैदा हुए एक पूर्व मरीन था, जिसे सेना में दोषी ठहराया गया था. क्योंकि उसने हवाई में एक सैन्य अड्डे से हथियार चोरी किया था जिसकी वजह से उसे अदालत ने एक बार सैन्य जेल भेजा था जहां से वो भाग निकला था.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

इतने में अब सार्जेंट पॉल ज़िमर उस अधेड़ उम्र के आदमी को लेकर दक्षिण सैन फ्रांसिस्को पुलिस स्टेशन पहुंचते है. जहं उसने अधिकारी को बताया कि उसका नाम लियोनार्ड लेक था.उसने पुलिस को बताया की वो एक धोखेबाज़ और भगोड़ा है और वो अपना बयान देना चाहता है जिसके लिए उसने एक कागज़, पेंसिल और एक गिलास पानी मांगा.एक पुलिस अधिकारी ने ये सब लेक को दिए और किसी काम से वहां से बाहर चले जाते है.जब वो वापस लौटते है दो देखते है की लेक ज़मीन पर गीरा हुआ है और जैसे एक मछली को पानी से बाहर निकलने पर तड़पती है वैसे ही लेक तड़प रहा है.किसी के कुछ समझ नहीं आ रहा था की आख़िर इसे हुआ क्या इतने में लेक को अस्पताल ले जाया जाता है जहां जाकर पता चलता है की वो मर चुका है.सब लोक हैरान थे की आख़िर लेक को हुआ क्या था.लेकिन जब लेक की पोस्मर्टम रिपोर्ट आई तो पूरा पुलिस डिपार्टमेंट हैरान था क्योंकि रिपोर्ट में आया की लेक ने साइनाइड कैप्सूल निगला था.अब ये गुत्थी उलझ गई थी की आख़िर लेक ने अपनी जान क्यों दी.आखिर लेक किसे और क्यों बचाना चाहता था.पुलिस को अब ये सारे सवालों के जवाब चाहिए थे.तभी एक पुलिस अधिरी को याद आया की लेक ने मरने से पहले काग़ज़ और पेंसिल मांगी थी.जब पुलिस ने उस काग़ज़ को देखा तो उस पर लिख था.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

मौत से पहले एक सीरियल किलर का दर्द

डियर लिन,

आई लव यू.मैंने तुम्हें माफ किया.फ्रीडम बाकी सब से बेहतर है.आई एम सॉरी मॉम पैटी और सब लोग.आई एम सॉरी सारी प्रॉब्लम के लिए..

लव लियोनार्ड

लियोनार्ड पुलिस हैरान थी कि संदिग्ध ने खुद की जान क्यों ली? लियोनार्ड लेक जो भी जानता था अब वो उसके साथ कब्र में दफन हो गया था.मगर पुलिस को इतना पता था की कहीं ना कहीं लेक की मौत के तार उसके साथी जींग से जुड़े है लिहाज़ा उन्होंने उसकी तलाश शुरू की.उन्होंने लेक की कार के इंजन नंबर से पता लगाया की वो कहा रहता था.मगर उनको हैरानी हुई की वो कार किसी पॉल की थी जो करीब 7 महीने से लापाता था.

अब ये गुत्थी उलझती जा रही थी.एक के बाद एक कई लोगों के ग़ायब होने की बात सामने आई, और सब लोगों का कहीं न कहीं लिंक लेक और उसके साथी चार्ल्स से जुड़े थे.पुलिस जांच करते करते एक घर तक पहुंचे जहां उन्हें एक घर के पास एक छोटा सा कैबिन मिला जिसकी तलाशी में उन्हें कुछ ऐसे सबूत मिले जिसे देख कर उनके पैरों तले ज़मीन खिसक गई.असल में उस कैबिन में रखे बैड पर रस्सियां बंधी थी.जैसे की उससे किसी को बंधा जाता हो, और साथ ही उस कैबिन में एक कैमरा भी मिला.जांच करने पर पता चला की वो कैमरा जिस इंसान का है उसका पूरा परिवार पिछले एक साल से लापता था.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

वो कैबिन जहां खेला जाता मौत का खेल

उस कैबिन की छानबीन करके पुलिस और ज़्यादा उलझ गई थी मगर उस कैबिन के साथ में एक बंकर नूमा जगह थी जिसकी जांच की तो पुलिस को होश फाख़्ता हो गए थे क्योंकि वो जगह किसी नर्क से कम नहीं थी. पुलिस जब उस बंकर के अंदर गई तो पुलिस को बंकर की दिवार पर 21 तस्वीरें लटकी मिली उन तस्वीरें कुछ लड़कियों की थी जिनकी उम्र 18 से 23 साल के बीच थी. तस्वीरों को देख कर पुलिस को लगह रहा था की मानों ये तस्वीरे किसी सीरियल किलर की ट्रॉपी हो जो वो अमूमन यादगार के तौर पर रखते है किसी को मौत के घाठ उतारने के बाद.पुलिस को बंकर से एक डायरी भी मिली जो लियोनार्ड लेक ने लिखी थी.पुलिस को बंकर से 100 क़दम की दूरी पर किसी चीज़ को जलाने के निशान मिले, तफतीश में पता चला की वहां किसी इंसान को जलाया गया था.क्योंकि राख में इंसानी हड्डी भी मिली थी.

पुलिस को हैरानी तो तब हुई जब उन्हों उस बंकर के अंदर एक छुपा हुआ कमरा मिला जहां एक बैड डाल रखा था. लेकर की मिली डायरी से पता चलता था कि उसकी फैंटेसी थी की वो सेक्स सलेव बनाकर लड़कियों को रखता था.पुलिस को बंकर से कुछ वीडियो टेप भी मिले थे जिन्हें देखने के बाद पुलिस को पूरा मामला समझ आ गया था उन वीडियो में लेक और उसका साथी लड़कियों के कपड़े चाकू से फाड़ रहे थे.वहीं दूसरी तरफ आसपास की खुदाई में पुलिस को काफी सबूत हाथ लगे, अब ये तो साफ था की वहां सीरियल किलर रहते था जो उस बंकर में हैवानियत को अंजाम दे रहे थे.लेक मर चुका था, मगर उसके साथी का कुछ पता नहीं था इसी बीच पुलिस को ख़बर लगी की चार्ल्स कनाडा में है.असल में जो ग़लती चार्ल्स ने पहली करी थी वोही ग़लती फिर की मगर इस बार कनाडा में की.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

चार्ल्स को कनाडा में लूटपाट और गैरकानूनी तरीके से बंदूक रखने के आरोप में पकड़ा गया.आपको बतादें की चार्ल्स एनजी और लियोनार्ड लैक साल 1983 से 85 तक दोनों ने मिलकर करीब 25 लोगों मौत के घाट उतारा था.लैक का शिकार हुए लोगों में वो महिलाएं शामिल थीं जिन्हें वो पहले से जानता था। दोनों मिलकर महिलाओं का रेप करते थे और वीडियो बनाते थे. बाद में उनकी गोली मारकर हत्या कर देते थे.आपको बतादें की चार्ल्स को अदालत ने मौत का सज़ा सुनाई थी.कहते है की लियोनार्ड लैक पॉर्न फिल्मों की वजह से उसका जीवन तबाह हो गया था.उसने बचपन में पॉर्न फिल्में देखना शुरू किया, बाद में अपनी बहन की नंगी तस्वीरें खींचकर अपने पास रखता था.यहां तक कि लैक की दादी भी सबकुछ जानकर उसका प्रोत्साहन करती थी

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in