VARDAAT: 'बूचा'ड़ख़ाना'.. मैदान-ए-जंग से आई कचोटने वाली तस्वीरें

SHAMS TAHIR KHAN: बूचा की ये तस्वीरें वहां हुई दरिंदगी की गवाही देती हैं... रूस बेशक की इस ज़्यादती की ज़िम्मेदारी ख़ुद पर लेने सेबच रहा हो, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन तो खुल कर बूचा नरसंहार के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन को युद्ध अपराधी क़रार देने में लगे हैं.
VARDAAT: 'बूचा'ड़ख़ाना'.. मैदान-ए-जंग से आई कचोटने वाली तस्वीरें

VARDAAT: दुनिया की तारीख में ऐसा लाशों का अंबार, और ना ऐसा नरसंहार कभी देखा गया और ना शायद कभी देखा जाएगा. जिस बेरहमी से रूसी सैनिकों ने यूक्रेन की राजधानी कीव के नज़दीकी शहर बूचा को बूचड़खाना बना दिया वो यकीनन शब्दों में बयान कर पाना मुश्किल है.

SHAMS TAHIR KHAN: ये तो उन ज़ख्मों की तस्वीरें हैं जिनके निशान बाकी हैं, मगर उन ज़ख्मों का क्या जो यूक्रेनी लोगों के ज़मीर पर लगाए गए हैं. उन बेकसूर महिलाओं की अस्मत का क्या जिसे रूसी सैनिकों ने बड़ी बेरहमी से तार तार किया. उन घरौंदों का क्या जिन्हें बेदर्दी से मलबे के ढेर में तब्दील किया गया. उन आंसुओं का क्या जो आंखों से बहते बहते खुश्क हो गए. रूस ने जंग के नाम पर इस देश को इतने गहरे जख्म दिए हैं, जिन्हें याद कर आने वाली पीढ़ियां भी सिहर उठेंगी.

VARDAAT: कहते हैं जितनी दूर से देखा जाए.. तस्वीर उतनी ही धुंधली नज़र आती है. मगर बूचा में ये कैसी तबाही है जो आसमान से भी बिलकुल साफ़ साफ़ नज़र आती है. यूक्रेन में ये सामूहिक कब्रगाह की सैटेलाइट तस्वीरें है, बूचा के चर्च में पूरा इलाका लाशों से पट गया है. लोग बताते हैं कि अब तक 400 से ज़्यादा लोगों को 45 फीट के इस गढ्ढे में दफ़नाया जा चुका है, मगर लाशों का आना अभी भी थम नहीं रहा है.

SHAMS TAHIR KHAN: इन इंसानों को लाशे बनाने वालों ने बड़ी बेरहमी से इनके जिस्म के एक-एक हिस्से को रूह से महरूम किया है। किसी के हाथ बंधे हैं तो किसी के हाथ ही कटे हैं। कोई पैरों के बल उलटा पड़ा है तो कोई बिना पैरों के ही दिवार का सहारा लिए खड़ा। किसी के ठीक माथे के बीचोबीच गोली का निशान है, तो किसी के दिल से बंदूक सटा कर गोली मारी गई है।

बूचा में औरतों को जो बेरहम मौत दी गई उसका अंदाज़ा इसी बात से लगाइये कि उनके जिस्म पर कपड़े नहीं हैं, अंदरूनी अंगों को काट दिया गया, या उन्हें इस तरह ज़ख्मी किया गया जैसा कोई कसाई भी जानवरों के साथ नहीं करता है।

Related Stories

No stories found.