Shraddha Murder: नोट बुक में आफताब लिखता था श्रद्धा के टुकड़ो का हिसाब, कहा गुस्से में हो गया कत्ल

Shraddha Murder Case: श्रद्धा मर्डर केस में आफताब (Aftab) ने जज के सामने ये कबूल कर लिया है कि गुस्से मेंं उसने श्रद्धा को जान से मार डाला.
Shraddha Murder Case
Shraddha Murder Case

Shraddha Murder Case: दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने साकेत कोर्ट में जज के सामने लेटर रखा। ये एक रिमांड लेटर है। दरअसल, मंगलवार को आफताब की पांच दिन की पुलिस हिरासत खत्म हो रही थी। लिहाजा पुलिस ने इस अर्जी के जरिए अदालत से आफताब (Aftab) की चार दिनों की और पुलिस हिरासत की मांग की। अगले चार दिनों के लिए आफताब की पुलिस हिरासत क्यों चाहिए, इसका जवाब पुलिस को अदालत में देना था। और इसी जवाब के साथ पुलिस ने पहली बार रिकॉर्ड पर ये कबूल किया कि श्रद्धा (Shraddha Walker) की लाश के टुकडे, कुछ हड्डियां और जबडे का कुछ हिस्सा पुलिस बरामद कर चुकी है। बाकी बचे हिस्से और आरी को बरामद करने के लिए चार दिनों की रिमांड और चाहिए। अदालत ने दिल्ली पुलिस की इस अर्जी को मंजूर कर लिया और आफताब को चार दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया।

Shraddha Murder Case: दो किश्तों में पांच-पांच दिन की पुलिस हिरासत खत्म होने के बाद अब दिल्ली पुलिस के पास आफताब को अपनी हिरासत में रखने के लिए सिर्फ चार ही दिन बचे हैं। क्योंकि पुलिस हिरासत की मियाद 14 दिन ही होती है। हालांकि पिछली बार की तरह ही इस बार भी आफताब को वीडियो कांफेंसिंग के जरिए जज साहब के सामने पेश किया गया था। इसी पेशी के दौरान आफताब ने जज के सामने ये कबूल किया कि श्रद्धा का कत्ल उसी ने किया और ये कत्ल उसने गुस्से में अचानक किया था। हालांकि आफताब का ये इकरार ए जुर्म कहीं कोर्ट के रिकॉर्ड पर नहीं लिखा गया।

Aftab Amin Poonawalla confession
Aftab Amin Poonawalla confession

Shraddha Murder Case: इस रिमांड लेटर के जरिए दिल्ली पुलिस ने अदालत के सामने दो सनसनीखेज खुलासे किए। पहला ये-- कि आफताब के घर से एक रफ साइट प्लान मिला है। साथ ही एक नोट बुक भी मिला है। पुलिस के हाथ जो रफ साइट प्लान लगा है, उसमें कुछ नक्शे, ड्राइंग और जगहों के नाम लिखे हैं। इनमें महरौली के जंगल, मैदानगढ़ी, मैदानगढ़ी के तालाब, महरौली का सौ फुटा रोड और गुरुग्राम की डीएलएफ फेस-3 की कुछ जगहों के नाम लिखे हैं। पुलिस को पुख्ता यकीन है कि आफताब ने इन्हीं जगहों पर श्रद्धा की लाश के टुकडे और हथियारों को ठिकाने लगाया है। इसी नक्शे के हाथ लगने के बाद पुलिस की टीम पहली बार महरौली से जंगल से निकल मैदानगढ़ी के तालाब तक पहुंची थी। तालाब में तलाशी का काम गोताखोरों की मदद से भी शुरू हो रहा है।

Shraddha Murder case
Shraddha Murder case

Shraddha Murder Case: रफ नक्शे में दिल्ली के अलावा गुरुग्राम की डीएलएफ फेस-3 का भी जिक्र है। पुलिस को शक है कि आफताब ने लाश के टुकडे करनेवाली आरी और ब्लेड को गुरुग्राम में ही डीएलएफ फेस-3 की झाड़ियों में फेंका है। जबकि चापड़ महरौली के सौ फुटा रोड पर मौजूद एक कूडेदान में फेंका था। कत्ल के बाद श्रद्धा के कपडे आफताब ने छतरपुर पहाड़ी के कूडा गाडी में फेंका था। दिल्ली पुलिस का दूसरा सनसनीखेज खुलासा आफताब के घर से बरामद एक नोट बुक के बारे में है। इस नोट बुक में बाकायदा श्रद्धा की लाशों के टुकडों का हिसाब किताब लिखा है।

इस नोट बुक में लाश के अलग-अलग टुकडों को किन किन अलग-अलग जगहों पर ठिकाने लगाया गया, उसकी जानकारी लिखी है। दिल्ली पुलिस के मुताबिक इसी नोटबुक की मदद से उसने महरौली के जंगलों से श्रद्धा की लाश के कई टुकडे बरामद किए। जिनमें कुछ हड्डियां थी, जबडे का हिस्सा था। इन हड्डियों और बाकी सबूतों को जांच के लिए सीबीआई की सीएफएसएल में भेज दिया गया है। हालांकि रिपोर्ट आने में अभी वक्त लगेगा, लेकिन आफताब के बयान और नोट बुक के मुताबिक जहां-जहां श्रद्धा की लाश के टुकडे फेंके गए थे, ठीक वहीं-वहीं से ये सबूत पुलिस ने बरामद किए हैं। इससे साफ हो जाता है कि हड्डियां श्रद्धा की लाश का ही हिस्सा है.

Shraddha Murder Case | Aftab Amin |Crime Tak
Shraddha Murder Case | Aftab Amin |Crime Tak

Shraddha Murder Case: दिल्ली पुलिस के मुताबिक इसी नोट बुक और रफ साइट प्लान की मदद से श्रद्धा की लाश के बाकी टुकडों को भी वो जल्द ही बरामद कर लेगी। उम्मीद है कि मैदानगढी के तालाब से भी कुछ सबूत जरूर हाथ लगेंगे। हालांकि आरी को लेकर पुलिस का ये कहना है कि गुरुग्राम में डीएलएफ फेस-3 की जिन झाड़ियों में आफताब ने उसे फेंकने की बात कही है, बहुत मुमकिन है वहां से कोई राहगीर उसे उठा ले गया हो। घर के बाहर जो सबूत मिल रहे हैं वो तो मिल ही रहे हैं, घर के अंदर भी सबूत तलाशने में पुलिस को कामयाबी हाथ लग गई है। आफताब के घर रोहिणी फॉरेंसिक लैब की टीम पहले ही जांच कर चुकी थी। घर के किचन से तब उन्हें खून का एक नमूना मिला था।

अब बेहतर उपकरण से लैस सीबीआई की सीएफएसएल टीम की मदद से दिल्ली पुलिस ने आफताब के घर से कुछ और सबूत इकट्ठा कर लिए हैं। खास कर आफताब के घर के अंदर फर्श पर लगी टाइल्स के गैप से सीएफएसएल ने खून के कुछ धब्बे बरामद किए हैं। कमरे और किचन के अलावा पुलिस ने उस बाथरूम के भी कुछ टाइल्स उखाडे, जिस बाथरूम में श्रद्धा की लाश के आफताब ने टुकडे किए थे। बाथरूम की टाइल्स के गैप से भी खून के कुछ नमूने हाथ लगे हैं। इन सारे सबूतों को जांच के लिए सीबीआई की सीएफएसएल में भेज दिया गया है। हालांकि रिपोर्ट आने में दस से पंद्रह दिन का वक्त लग सकता है।

Shraddha Murder Case
Shraddha Murder Case

Shraddha Murder Case: रफ साइट प्लान और नोट बुक की मदद से पुलिस के हाथ एक और बडी कामयाबी लगी है। इस कामयाबी का जिक्र भी पुलिस ने अपने रिमांड लेटर में किया है। दरअसल इसी नक्शे और नोट बुक की मदद से पुलिस के हाथ एक इंसानी जबड़ा और खोपडी के टुकडे लगे हैं। पुलिस को यकीन है कि ये जबडा श्रद्धा का ही है। इस जबडे के साथ कुछ दांत भी हैं। इनमें एक दो दांतों का रूट कनाल भी हुआ है। दिल्ली पुलिस ने इस सिलसिले में जब श्रद्धा के पिता और भाई से बात की, तो पता चला कि श्रद्धा की दो दांतों का रूट कनाल हो चुका है। इस जबडे और दांतों की तस्वीरें दिल्ली पुलिस ने दिल्ली में दांतों के एक एक्सपर्ट डॉक्टर को भी दिखाई।

घर के अंदर और बाहर के सबूतों के अलावा आफताब के दिमाग़ में झांकने का कानूनी रास्ता भी अब पूरी तरह साफ हो चुका है। आफताब के नार्को टेस्ट की इजाजत खुद आफताब और अदालत ने पहले ही दे रखी है। लेकिन नार्को से पहले फॉरेंसिक एक्सपर्ट आफताब का पॉलीग्राफी टेस्ट करना चाहते थे। इस टेस्ट के लिए भी आफताब की सहमति और अदालत की इजाजत जरूरी होती है। दिल्ली पुलिस ने आफताब की सहमति का पत्र अदालत को दिखाते हुए अदालत से आफताब के पॉलीग्राफ टेस्ट के लिए भी जरूरी इजाजत ले ली है।

Shraddha Case
Shraddha Case Social Media

Shraddha Murder Case: हालांकि चार दिन की पुलिस हिरासत में रहते हुए अब आफताब का नार्को टेस्ट कराना थोडा मुश्किल नजर आ रहा है। क्योंकि नार्को से पहले आफताब को कई मेडिकल टेस्ट से गुजरना होगा। इसके बाद पॉलीग्राफ टेस्ट होगा। पॉलीग्राफ टेस्ट के बाद नार्को टेस्ट के लिए कुछ दिनों की मोहलत जरूरी होती है। ऐसे में बहुत मुमकिन है कि आफताब जब न्यायिक हिरासत में जेल पहुंच जाए, तब उसे जेल से निकाल कर नार्को टेस्ट के लिए रोहिणी के फॉरेंसिक लैब लाया जाए। यहां आपको बता दूं कि आफताब का पॉलीग्राफ और नार्को टेस्ट रोहिणी के फॉरेंसिक लैब में होगा। जबकि श्रद्धा की लाश के जितने टुकडे अब तक मिले हैं, उन सभी की जांच सीबीआई की फॉरेंसिक लैब में होगी।

सबूतों को जुटाने और आफताब के दिमाग में झांकने के अलावा दिल्ली पुलिस की एक टीम उन गवाहों की भी लिस्ट तैयार कर रही है, जिनकी मदद से अदालत में एक मजबूत केस खडा किया जाएगा। इस सिलसिले में अभी तक पुलिस ने कुल 11 लोगों की सूची तैयार की है। इनमें से ज्यादातर वो गवाह हैं, जो आफताब और श्रद्धा दोनों को जानते हैं। कुछ गवाह छतरपुर पहाडी के भी हैं। जहां श्रद्धा ने अपने आखिरी दिन गुजारे। गवाहों के अलावा पुलिस अलग-अलग इलाकों के सीसीटीवी कैमरों की तस्वीरों को भी इलेक्टॉनिक एविडेंस के तौर पर जमा करने की कोशिश में जुटी है। सीसीटीवी फुटेज के अलावा आफताब और श्रद्धा की मोबाइल की कॉल डिटेल रिकॉर्ड से भी बहुत सारी जानकारी पुलिस के हाथ लगी है। दोनों के फोन के लोकेशन इस केस में एक अहम सबूत साबित होंगे।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in