नर्सिंग घोटाले की जांच कर रहे CBI अफसर ही लेने लगे रिश्वत, फिर सीबीआई की ही टीम ने जाल बिछा ऐसे रंगे हाथ पकड़ा

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Mp News: मध्य प्रदेश के नर्सिंग घोटाले की जांच में एक नया मोड़ आया है, जिसने सभी को चौंका दिया है. मप्र नर्सिंग घोटाले की जांच हाईकोर्ट के आदेश पर पिछले दो साल से सीबीआई कर रही है. रविवार 19 मई को इसमें एक नया मोड़ आ गया, जब दिल्ली से आई सीबीआई अधिकारियों की एक टीम ने भोपाल के चार सीबीआई अधिकारियों को मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों से रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया.

CBI अफसरों को किया गिरफ्तार

गिरफ्तार किए गए लोगों में से एक सीबीआई इंस्पेक्टर है, जबकि अन्य दो एमपी पुलिस अधिकारी हैं, जो वर्तमान में डेपुटेशन पर सीबीआई मे काम कर रहे हैं. इसके अलावा एक निजी नर्सिंग कॉलेज के चेयरमैन, प्रिंसिपल और एक बिचौलिए को भी रिश्वत देने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है.

आरोपी को रिमांड पर भेजा

गिरफ्तार आरोपियों को रविवार रात ही भोपाल की विशेष सीबीआई अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 29 मई तक रिमांड पर भेज दिया गया है. आरोपियों के खिलाफ सीबीआई ने धारा 7, 7ए, 8, 9, 10 और 12 के तहत मामला दर्ज किया है. भ्रष्टाचार अधिनियम के. इंस्पेक्टर राहुल राज पर जांच रिपोर्ट को प्रभावित करने के लिए मलय नर्सिंग कॉलेज के चेयरमैन और प्रिंसिपल से 10 लाख रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप है.

ADVERTISEMENT

व्यापमं के बाद दूसरा बड़ा घोटाला

व्यापमं घोटाले के बाद मध्य प्रदेश नर्सिंग घोटाला राज्य का दूसरा बड़ा घोटाला है, जिसकी जांच सीबीआई कर रही है. मध्य प्रदेश के कुल 364 नर्सिंग कॉलेजों की जांच सीबीआई द्वारा की जा रही है. आपको बता दें कि नर्सिंग कॉलेजों में अनियमितता की शिकायत के बाद यह मामला मध्य प्रदेश हाई कोर्ट तक पहुंच गया था. हाई कोर्ट के आदेश के आधार पर अक्टूबर 2022 में सीबीआई ने इस मामले की जांच शुरू की.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT