सगी चाची ने डेढ़ साल के मासूम को मार डाला, जेठ से थी रंजिश, पुलिस को बताई थी ये वजह

राजस्थान के कोटा में एक डेढ़ साल के मासूम की हत्या की गुत्थी जैसे ही सुलझी तो पुलिस से लेकर पब्लिक तक चौंक गई क्योंकि उस मासूम को जिसने मौत के घाट उतारा, उस पर किसी को शक भी नहीं हो सकता था। मगर जलन किसी को भी इंसान से शैतान बना देती है, बस इस क़िस्से में भी यही हुआ
सगी चाची ने डेढ़ साल के मासूम को मार डाला, जेठ से थी रंजिश, पुलिस को बताई थी ये वजह
कोटा पुलिस ने सुलझाई डेढ़ साल के मासूम अबीर की मौत की गुत्थी

Latest Crime News: कोटा पुलिस ने पूरे 15 दिनों की तगड़ी जद्दोजहद के बाद आखिरकार डेढ़ साल के मासूम बच्चे की मौत की उलझी हुई गुत्थी को सुलझाने में कामयाबी हासिल की। लेकिन इस क़िस्से का जो सच सामने आया उसने खुद कोटा पुलिस को भी बुरी तरह चौंका दिया। क्योंकि उस मासूम की मौत के पीछे जलन और खुन्नस की मिली जुली शक्ल दिखाई दी। और साथ ही वो बेरहम चेहरा भी नज़र आया जिसने शराफ़त और मासूमियत का नक़ाब ओढ़ रखा था।

25 अप्रैल को कोटा के रामपुरा कोतवाली इलाक़े में एक बच्चे की रहस्यमयी हालत में मौत की इत्तेला पाकर पुलिस भी हैरान हो गई थी। डेढ़ साल के मासूम अबीर अंसारी का शव दो मंजिला मकान की छत पर रखी एक पानी की टंकी में पड़ा मिला था। पुलिस को यही बात हैरत में डाले हुए थी कि जिस बच्चे का शव पानी की टंकी के भीतर मिला है, वो खुद टंकी के ऊपर चढ़ नहीं सकता था। अगर किसी तरह चढ़ भी जाए तो पानी की टंकी के ढक्कन को खोल नहीं सकता था।

क़त्ल की आरोपी सोबिया पुलिस की हिरासत में
क़त्ल की आरोपी सोबिया पुलिस की हिरासत में

ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी सुलझाने में लगे 15 दिन

Kota Crime News: लेकिन पुलिस को आस पास कोई ऐसा निशान भी नहीं मिला जिससे ये पता चल सके कि आखिर उस मासूम का दुश्मन कौन हो सकता है और वो यहां उसे लेकर पानी की टंकी तक कैसे पहुँच सकता है। लिहाजा इस ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी को सुलझाने के लिए पुलिस ने सबसे पहले उसी परिवार के लोगों को खंगालना शुरू कर दिया। तफ़्तीश के दौरान पुलिस को कई बातों ने चौंकाया तो लेकिन कोई ऐसा पुख़्ता सुराग़ न होने की वजह से उसकी और गहराई से तहकीक़ात करनी शुरू कर दी।

इसी बीच पुलिस ने उस मासूम बच्चे की चाची पर अपनी नज़र गड़ा दी। क्योंकि उसकी हरकतें और बातचीत के साथ साथ उसका नज़रों को चुराना पुलिस को खटक रहा था। तब पुलिस ने 23 साल की महिला सोबिया से पूछताछ का इरादा किया। लेकिन सोबिया इसी बीच मौका पाकर वहां से फरार हो गई। तब पुलिस ने उसके घर के आस पास महिला पुलिस का पहरा बढ़ा दिया। और जैसे ही सोबिया के घर पहुँचने की इत्तेला पुलिस को मिली तो उसे फौरन हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू हो गई।

क़त्ल के तरीक़े ने पुलिस को भी चौंका दिया

Kota Murder Case: पुलिस की पूछताछ में सोबिया टूट गई और उसके बाद जब पुलिस के सामने उसने अपना मुंह खोला तो पुलिस भी हैरत में पड़ गई। असल में सोबिया उस मासूम अबीर अंसारी की चाची थी लेकिन उसने रंजिश की वजह से इस वारदात को अंजाम दिला। पुलिस के मुताबिक सोबिया ने बड़े ही शातिर तरीक़े से इस वारदात को अंजाम देने का तरीक़ा चुना।

उसने तीन मासूम नाबालिग बच्चों के जरिए इस वारदात को अंजाम दिला। तीन बच्चों से उसने पहले तो डेढ़ साल के अबीर को पानी की टंकी में फिकवाया और फिर पानी की टंकी का ढक्कन उसके ऊपर रखवा दिया। जब पुलिस ने सोबिया से ये जानना चाहा कि आखिर ऐसी रंजिश कैसी थी जिसमें उसने एक मासूम की जान ले ली, जिसमें उसका कोई कसूर भी नहीं था।

जलकर इतनी राख हुई कि बच्चे की जान ले ली

Murder Case Solve: पुलिस की पूछताछ में सोबिया ने बताया कि उसकी अपने जेठ यानी मासूम अबीर के पिता इमरान और उनकी पत्नी अंजुम से बिलकुल भी नहीं पटती थी। लेकिन कोटा नगर निगम में जब अनुकंपा के आधार पर इमरान को नौकीर मिल गई तो सोबिया खार खा गई। हालांकि सोबिया के मुताबिक परिवार में यही सहमति बनी थी कि नौकरी पाने के बाद इमरान अपने छोटे भाई और सोबिया के पति जीशान की आर्थिक मदद करते रहेंगे।

हालांकि सोबिया ये चाहती थी कि जो नौकरी इमरान को मिली वो उसके पति जीशान को मिलनी चाहिए। लिहाजा इसी बात पर खुन्नस खाकर सोबिया ने इमरान और उसकी पत्नी अंजुम को सबक सिखाने के लिए ही उसने डेढ़ साल के मासूम को मार डालने की प्लानिंग कर ली और उसे तीन नाबालिग लड़कों के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया।

Related Stories

No stories found.