मूसेवाला मर्डर में एक और सनसनीखेज़ खुलासा, कनाडा में बैठे गैंग्स्टर लिपिन ने भिजवाए थे दो शूटर

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Sidhu Moosewala Murder: सिद्धु मुसावाला हत्याकांड की जांच में एक और सनसनीखेज़ खुलासा सामने आया है। जांच में ये बात पता चली है कि कनाडा (Canada) में बैठे एक और शख्स का नाम सामने आया है जिसने गोल्डी बराड़ (Goldy Barar) को दो शूटर (Shooters) मुहैया करवाए थे।

सिद्धू मुसावला हत्याकांड में जहां एक तरह पंजाब पुलिस चार्जशीट तैयार करने में जुटी है तो वहीं हत्याकांड में नए नए खुलासों का सिलसिला भी जारी है। सिद्धू मुसावाला हत्याकांड में कनाडा में बैठे एक और शख्स का नाम सामने आया है। सूत्रों के मुताबिक सिद्धू मुसेवला की हत्या के लिए कनाडा में मौजूद गोल्डी बराड़ के पास दो शूटर कनाडा में ही मौजूद लिपिन नेहरा ने ही भिजवाए थे।

सूत्रों के मुताबिक सिद्धू पर गोली चलाने वाले दो मेन शूटर दीपक मुंडी और कशिश कुलदीप उर्फ का इंतजाम लिपिन नेहरा ने कनाडा में बैठे बैठे करवाया था। लिपिन नेहरा के बारे में पता चला है कि लिपिन हरियाणा के गुरुग्राम का रहने वाला है और फिलहाल कनाडा में मौजूद है।

ADVERTISEMENT

Sidhu Moosewala Murder: सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद जांच जुटी पंजाब पुलिस ने लिपिन नेहरा के बड़े भाई पवन नेहरा को जेल से रिमांड पर लेकर पूछताछ की थी। बताया जा रहा है कि पवन नेहरा कुख्यात गैंगस्टर है। पवन नेहरा पर एक दर्जन से ज़्यादा हत्या के मामले दर्ज हैं। गुरुग्राम पुलिस ने पवन नेहरा को उत्तराखंड से गिरफ्तार किया था फिलहाल वह जेल में बंद है।

पवन के बारे में ये भी कहा जा रहा है कि वो भी लारेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ा हुआ है। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने जब सिद्धू की हत्या में शामिल शूटर को पकड़ा था तब उनसे पूछताछ में लिपिन नेहरा का नाम लिया था।

ADVERTISEMENT

स्पेशल सेल के हाथों गिरफ्तार कशिश उर्फ कुलदीप ने खुलासा किया था की लिपिन नेहरा ने उसका और दीपक मुंडी का संपर्क गोल्डी बराड़ से करवाया था और गोल्डी बराड़ ने ही फिर सिद्धू की हत्या का टास्क दिया था। आपको बता दें की शूटर दीपक मुंडी अभी तक फरार चल रहा है।

ADVERTISEMENT

सिद्धू मुसावला की हत्या के लिए जेल में बंद लारेंस बिश्नोई और कनाडा में बैठे गोल्डी बराड़ ने सिद्धू की हत्या की ऐसी साजिश रची थी की अगर दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल हत्याकांड में शामिल शूटरों को जल्दी गिरफ्तार नहीं करती तो शायद पूरी साजिश से पर्दा कभी नहीं हट पता।

Sidhu Moosewala Murder: जांच एजेंसियों से जुड़े सूत्र इसलिए ऐसा दावा कर रहे हैं क्योंकि बिश्नोई के करीबी गोल्डी ने अलग अलग गैंग से एक या दो शूटर ही लिए और सभी अलग अलग राज्यों के शूटर और सबको एक साथ एक प्लेटफार्म पर लाया गया और हत्याकांड के बाद सबको अलग अलग तरीके से भागने को कहा गया।

सभी शूटर की उम्र 20 से 25 साल और ज्यादातर का कोई ऐसा आपराधिक रिकार्ड नहीं की पुलिस कड़ाई से उनकी निगरानी करे। बहरहाल सिद्धू हत्याकांड की साजिश भारत से बाहर कनाडा में बैठे एक और शख्स का नाम जुड़ना ये बताता है की बिश्नोई गैंग से जुड़े कई लोग प्लान के तहत भारत के बाहर बैठ कर गैंग को ऑपरेट कर रहे हैं।

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...