Ropeway Accident : 20 घंटे से हवा में लटके 48 लोग, चॉपर की मदद से शुरू हुआ फंसे लोगों का रेस्क्यू

Deoghar Rope Way Accident: त्रिकूट पर्वत दुमका रोड पर देवघर से लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.
Ropeway Accident : 20 घंटे से हवा में लटके 48 लोग, चॉपर की मदद से शुरू हुआ फंसे लोगों का रेस्क्यू
Deoghar Rope Way Acciden

Deoghar Rope Way Accident: झारखंड (Jharkhand) के सबसे ऊंचे रोपवे (Ropeway) पर हुए हादसे में फिलहाल 48 लोग फंसे हुए हैं. रविवार शाम 5 बजे त्रिकूट रोपवे ट्रॉलियों की टक्कर हो गई। इससे लोग पहाड़ी पर फंस गए। एनडीआरएफ (NDRF) ने देर रात से ही रेस्क्यू ऑपरेशन (rescue operation) शुरू कर दिया था।

इसके बाद सेना को भी मदद के लिए बुलाया गया, लेकिन अभी तक लोगों को सुरक्षित वापस नहीं लाया जा सका है.

Rope Way Accident Live Update: दरअसल, रविवार को रामनवमी पर सैकड़ों की संख्या में पर्यटक यहां पूजा-अर्चना करने पहुंचे थे. रोपवे की एक ट्राली नीचे आ रही थी, जो ऊपर जा रही ट्राली से टकरा गई। इस हादसे में ट्राली में सवार लोग घायल हो गए। जब यह हादसा हुआ उस वक्त करीब दो दर्जन ट्रालियां हवा में थीं. आनन-फानन में कई लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया।

ALSO READ : झारखंड में रोपवे हादसा इस वजह से हुआ, देखें हादसे से जुड़ी अब तक की बड़ी तस्वीरें

Rope Way Accident In Jharkhand: हालांकि हादसे के 20 घंटे बाद भी 48 लोग अभी भी हवा में लटके हुए हैं. वे 18 ट्रॉलियों में सवार हैं। इन लोगों को बचाने के लिए जैसे ही सेना का हेलीकॉप्टर पहुंच रहा है, हेलीकॉप्टर के पंखे की तेज हवा से 18 ट्रॉलियां हिलने लगी हैं और सवार लोगों की जान पर बन रही हैं.

ड्रोन के जरिए दिया जा रहा खाना और पानी

रोपवे में फंसे लोगों को निकालने का प्रयास किया जा रहा है। घंटों मशक्कत के बाद भी रेस्क्यू टीम को कोई सफलता नहीं मिली है। हेलीकॉप्टर से लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। ऊपर फंसे लोगों को ड्रोन के जरिए खाना-पानी दिया जा रहा है. ट्रॉलियों में छोटे बच्चे, पुरुष और कुछ महिलाएं फंसी हुई हैं। इसके साथ ही गाइड और फोटोग्राफर भी फंस गए हैं।

इस मामले में जिला कलेक्टर मंजूनाथ भाईजंत्री ने कहा, 'फिलहाल रोपवे बंद है, हादसा ट्रॉली के प्रदर्शन से हुआ है. घायलों को अस्पताल भेजा गया है। ट्रॉली में फंसे लोगों को निकालने के प्रयास जारी हैं, इसके लिए एनडीआरएफ के साथ-साथ सेना की भी मदद ली जा रही है. किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें।

कैसे हुई दुर्घटना?

तीन रोपवे ट्रॉलियों के प्रदर्शन और आपस में टकराने से ऊपर की ट्रॉलियां भी हिलने लगीं। इस वजह से वे भी पत्थरों से टकरा गए, जिससे हादसा हो गया। इधर घायलों को इलाज के लिए देवघर सदर अस्पताल भेजा गया है. बाकी लोगों को निकालने का काम जारी है.

हादसे में इतने लोगों की मौत

इस हादसे में कई लोग घायल हो गए, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है. बताया जा रहा है कि हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई है. फिलहाल रोपवे की ट्रॉलियों में फंसे लोगों को निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है. सेना के सामने सबसे बड़ी चुनौती फंसे हुए लोगों तक पहुंचना है.

Related Stories

No stories found.