हथियारों का ज़ख़ीरा और PLAN A, B और C लेकर निकले थे सिद्धू मूसेवाला के छह शूटर

Moose Wale Murder: मूसेवाला मर्डर मामले में अब तक जो बातें उजागर हुई हैं उससे ये बात साफ हो जाती है कि क़ातिलों की टोली (Shooters) ने बाकायदा एक दो नहीं बल्कि तीन प्लान (Plan A B & C) बना रखे थे।
हथियारों का ज़ख़ीरा और PLAN A, B और C लेकर निकले थे सिद्धू मूसेवाला के छह शूटर
दिल्ली पुलिस की गिरफ़्त में शूटर प्रियव्रत फौजी उसका साथी कशिश और केशव

Sidhu Moosewala Murder: दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल (SPECIAL CELL) ने जैसे ही सिद्धू मूसेवाला के हत्याकांड का पूरा सच उजागर किया तो हर कोई सोच में पड़ गया। हर किसी के ज़ेहन में ये बात कौंध रही थी कि आखिर सिद्धू मूसेवाला की हत्या (MURDER) के लिए निकले क़ातिल कैसे इतने दिनों तक इतने हथियारों (WEAPON) के साथ सिद्धू की रेकी करते रहे...कैसे उन क़ातिलों पर किसी भी पुलिसवाले (POLICE FORCE) की निगाह नहीं पड़ी...आखिर इतने दिन तक कैसे वो लोग सिद्धू मूसेवाला की रेकी (RECCE) करते रहे और किसी को भनक तक नहीं मिली।

वाकई सिद्धू मूसेवाला के मर्डर में शामिल शूटर प्रियव्रत फौजी की गिरफ़्तारी के बाद कातिलों की टोली से जिन हथियारों की बरामदगी दिल्ली पुलिस ने दिखाई है...वो अपने आप में अलग कहानी सुना देती है।

आखिर इतने खतरनाक हथियारों के साथ एक सिंगर को मौत के घाट उतारने के लिए निकले थे मूसेवाला के क़ातिल। हालांकि इत्तेफाक से ये सच भी है।

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के स्पेशल कमिश्नर की बातों पर यकीन किया जाए तो

8 हाई एक्सप्लोसिव ग्रेनेड्स

अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर्स

एके-47 राइफल से माउंट होने वाले लॉन्चर

9 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर

असॉल्ट राइफल, 20 राउंड

3 पिस्टल स्टार पिस्टल .30 बोर

36 राउंड 7.62 मिमी के कारतूस

एके राइफल का एक हिस्सा

ये सब कुछ मूसेवाला के क़ातिलों की धरपकड़ के दौरान पुलिस ने बरामद किया है। लेकिन इसके अलावा इतने हथियारों के पीछे के मकसद का खुलासा किया, वो भी अपने आप में कम हैरतअंगेज नहीं है।

हथियारों के ज़ख़ीरे के साथ तीन प्लान लेकर निकले थे शूटर

Delhi Police Special Cell: दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के स्पेशल कमिश्नर HGS धारीवाल के मुताबिक शूटरों ने मूसेवाला के क़त्ल के लिए कई प्लान तैयार कर रखे थे।

कातिलों का प्लान A- स्पेशल पुलिस कमिश्नर के मुताबिक प्रियव्रत उर्फ फौजी ने पूछताछ में ये साफ कर दिया कि सिद्धू की रेकी करने के बाद AK सीरीज की राइफलों से ही सिद्धू मूसेवाला पर गोलियां बरसाई जाएंगी, ताकि उसके बचने की कोई गुंजाइश न रहे। उसके लिए उन लोगों ने यही प्लान तैयार किया था कि सिद्धू मूसेवाला की गाड़ी को एक मॉड्यूल ओवरटेक करके रोकेगा और गोली बरसाना शुरू कर देगा। जबकि दूसरा मॉड्यूल भी मौके पर पहुँचकर पहले मॉड्यूल के साथ शूटआउट को पूरी तरह से अंजाम तक पहुँचाएगा।

क़ातिलों का प्लान B- स्पेशल सेल के स्पेशल कमिश्नर HGS धारीवाल के मुताबिक शूटरों ने इस बात का पुख़्ता बंदोबस्त कर लिया था कि अगर किसी भी सूरत में शूटआउट में इस्तेमाल होने वाली बंदूकें दगा दे जाती हैं...यानी AK सीरीज की असॉल्ट राइफलें चलने से इनकार कर देती और उनके पास मौजूद पिस्तौल भी जाम हो जाती, उस सूरत में कातिलों ने ग्रेनेड मारकर सिद्धू मूसेवाला को मारने की प्लानिंग कर रखी थी।

इसके लिए न सिर्फ ग्रेनेड लॉन्चर तक उन लोगों ने तैयार कर रखे थे, बल्कि AK 47 से भी ग्रेनेड को मारने का इंतज़ाम कर रखा था। पुलिस ने क़ातिलों के पास मिले 8 ग्रेनेड इस बात की गवाही दे रहे हैं कि क़ातिलों की तैयारी कितनी ज़बरदस्त थी।

पुलिस की वर्दी की आड़ में भी मारने का था 'प्लान'

क़ातिलों का प्लान C- स्पेशल सेल के स्पेशल कमिश्नर HGS धारीवाल के मुताबिक प्रियव्रत उर्फ फौजी से पूछताछ में ये बात उजागर हुई है कि इन लोगों ने बाक़ायदा पंजाब पुलिस की वर्दी का भी इंतज़ाम कर लिया था। प्लान ये था कि अगर किसी सूरत में इस बार सिद्धू मूसेवाला को निशाना बनाने में चूक जाते हैं तो पुलिस की वर्दी पहनकर भी सिद्धू मूसेवाला पर निशाना साधा जा सकता है।

क्योंकि 15 दिनों में नौ बार की गई रेकी में प्रियव्रत और उसके साथी सिद्धू मूसेवाला के बारे में इतना तो जान ही गए थे कि वो कब कहां आता जाता है और कौन कौन लोग उसके आस पास जा सकते हैं। ऐसे में पंजाब पुलिस की वर्दी की आड़ में कातिलों का उसके नज़दीक पहुँचने का रास्ता साफ सकता था।

दिल्ली पुलिस के मुताबिक शूटरों को अपने अगले प्लान को आज़माने की ज़रूरत नहीं पड़ी क्योंकि उनकी मुखबिरी और उनकी रेकी से पहला प्लान में ही वो सिद्धू मूसेवाला को निशाना बनाने में कामयाब हो गए।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in