अधूरी मौत की खौफनाक साजिश, एक लाश की कीमत दो करोड़ रुपये, गर्लफ्रेंड की दीवानगी में आशिक ने खेला ये खेल!     

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

न्यूज़ हाइलाइट्स

point

कार में जलते इंसान ने खोले राज़

point

गर्लफ्रेंड और दो करोड़ के लिए साजिश

point

हैरान करने वाली हाफ मर्डर की कहानी

Uttar Pradesh: यूपी का छोटा सा जिला बिजनौर। ये साल 2022 में 29/30 नवंबर की दरमियानी रात थी। अचानक थानेदार का मोबाइल फोन घनघना उठा। किसी कॉलर ने पुलिस को खबर दी थी कि चांदपुर रोड पर गांव सिरधनी के पास एक कार धू-धू कर जल रही है और कार सवार भी कार की ड्राइविंग सीट पर मौजूद है। देखते ही देखते फायर ब्रिगेड व पुलिस की पीसीआर मौके पर पहुंच गईं। कार में बुरी तरह जल चुके युवक को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती करा दिया।

सड़क के किनारे दिखी जलती कार

चालक बुरी तरह घायल था कार में रखा एक पर्स और मोबाइल फोन पुलिस ने बरामद कर लिया। शुरु में तो कार में अचानक लगी आग एक हादसा नजर आ रहा था लेकिन पुलिस तब हैरान रह गई जब जलने वाले ने बताया कि ना तो वो कार उसकी है और ना ही पर्स और मोबाइल उसके हैं। कार में सवार युवक ने पुलिस को बताया कि उसका नाम मदन सिंह है। नशे और बेहोशी की हालत में उसे कार में बैठाकर कार में आग लगा दी गई थी। पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई तो पता चला कि ये कार बिजनौर के चांदपुर में रहने वाले कारोबारी सुशील कुमार की है। मदन सिंह के बयान के बाद पुलिस ने सुशील कुमार को हिरासत में ले लिया। हिरासत में सुशील कुमार से पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने इस अधूरी साजिश का पूरा खुलासा कर दिया।

एक अधूरे कत्ल की साजिश

खुलासा ये हुआ कि सुशील कुमार ने ही कार में मदन सिंह को बैठाकर आग लगा दी थी और कार में अपनी मोबाइल व पर्स रख दिया था। सुशील मदन सिंह को मारकर ये जताना चाहता था कि वो खुद मर गया है। दरअसल सुशील गुप्ता एक बड़ा व्यापारी है। उसने बैंक से पौने दो करोड़ का लोन लिया हुआ था जिसे वो व्यापर में घाटे के चलते वक्त से अदा नहीं कर पा रहा था। इसी बीच सुशील के हरिद्वार की रहने वाली रानी नाम की महिला से अवैध सम्बन्ध हो गए थे। व्यापारिक और पारिवारिक उलझनों से बचने के लिये शातिर दिमाग़ सुशील ने एक योजना बनाई। सुशील ने टीवी सीरियल देखकर प्लान किया कि अगर वो खुद को मारा हुआ घोषित कर दे तो बैंक के लोन से भी उसका पीछा छूट जायेगा और वो नाम बदलकर अपनी प्रेमिका के साथ अपनी बाकी की ज़िन्दगी भी गुज़ार सकेगा।

ADVERTISEMENT

रानी नाम की महिला से अवैध सम्बन्ध

इस योजना को अंजाम देने के लिए उसने अपने दोस्त लाल बहादुर सैनी की मदद से शराब की दुकान के सामने से मदन सिंह को शराब पिलाने का लालच देकर अपनी कार में बैठाया और उसे खूब शराब पिलाई। मदन सिंह नामक यह व्यक्ति  जो गांव बकैना का रहने वाला और नशे का आदि है। जब खूब नशे में हो गया तो सुशील गुप्ता उसे अपनी गाड़ी में बैठाकर चांदपुर से बिजनौर लेकर आए और चांदपुर रोड पर गांव सिरधनी के पास उसे ड्राइवर सीट पर बैठाकर सीट बेल्ट से बांधकर उसे ज़िंदा जला दिया। इस काम के लिए उसने कार के अंदर एक पेट्रोल की कैन भी भरकर रख दी थी। साथ ही अपना मोबाइल व पर्स भी कार के अंदर ही छोड़ दिये थे ताकि वो भी जल जाए।

कार में आग लगाकर गाड़ी स्टार्ट छोड़कर फरार

सुशील कार में आग लगाकर गाड़ी स्टार्ट छोड़कर फरार हो गया लेकिन सुशील की योजना तब फेल हो गई जब सड़क चलते लोगो ने पुलिस को कॉल करके बताया की सड़क किनारे खड़ी गाड़ी में एक व्यक्ति ज़िदा जल रहा है, पुलिस ने तुरंत मौके पहुंचकर मदन सिंह को अस्पताल में भर्ती कराया और वो जिंदा बच गया। इस खुलासे के बाद बिजनौर पुलिस ने हत्या की कोशिश और साजिश के मामले में सुशील, उसके दोस्त लाल बहादुर सैनी और प्रेमिका रानी को गिरफ्तार कर लिया है। हैरानी की बात ये है कि कर्ज से छुटकारा पाने के लिए उसने यह पूरी योजना बनाई थी और इसके लिए उसने बाकायदा अपना फर्जी आधार कार्ड भी पप्पू खान के नाम से बनवाया ताकि बाद में वह रानी के साथ शादी कर सके क्योंकि रानी मुस्लिम समाज से है और अपना आगे का पूरा जीवन अच्छे से बिता सकें।

ADVERTISEMENT

गर्लफ्रेंड के लिए ये खौफनाक साजिश

इसके लिए उसने बैंक से दो बार अलग अलग 13 लाख 50 हजार रुपये भी निकाले और साथ ही 35 बैंक के चेक भी अपने पास रख लिए और अपना पिस्टल भी साथ ले लिया और घर से भी बड़ी मात्रा में सोने के गहने पहले ले लिए उसके साथ दो अलग-अलग जो पैन कार्ड बने थे वह भी ले लिए थे। इसके अलावा इस पूरी घटना को अंजाम देने से पहले इस शातिर सुशील गुप्ता ने सात अलग-अलग नाम से आधार कार्ड भी बनवाए जिसमें इसका असली नाम सुशील गुप्ता का कार्ड भी शामिल है। सुशील ने अपनी प्रेमिका का भी फर्जी कार्ड बनाया था जिसमें रानी पत्नी बबलू खान की नाम दर्ज था।  तब इसने पूरी घटना को अंजाम दिया और वहां से फरार हो गया।

ADVERTISEMENT

बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड पहुंचे सलाखों के पीछे 

फिलहाल पुलिस ने इस शातिर दिमाग बदमाश को उसके सहयोगी और प्रेमिका सहित गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। इस कहानी में आरोपी सुशील एक योजना बनता है। योजना के अनुसार पहले वो अपना जीवन बीमा कराता है। फिर खुद को मरा हुआ दिखाकर बीमे के पैसे हड़पने की कोशिश करता है। खुद को मरा दिखाने के पीछे उसकी योजना यह भी थी की वो नाम बदलकर अपनी प्रेमिका के साथ बाकी की ज़िन्दगी गुज़ार सके, लेकिन इस कहानी में बिजनौर के रहने वाले सुशील गुप्ता की किस्मत उसे दग़ा दे गई और वो प्रेमिका समेत सलाखों के पीछे पहुंच गया।

    और देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...