अयोध्या में पकड़े गए संदिग्ध खालिस्तानी समर्थक, रेकी कर रहे थे ये तीनों, प्राण प्रतिष्ठा में गड़बड़ी का था मकसद?

ADVERTISEMENT

Crime Tak
Crime Tak
social share
google news

UP Ram Mandir News: यूपी एटीएस ने देर रात राजस्थान से तीन बदमाशों झुंझुनू के अजीत कुमार शर्मा, सीकर के शंकरलाल दुसाद और अयोध्या से प्रदीप पूनिया को गिरफ्तार किया है. गैंगस्टर शंकर लाल से पूछताछ में पता चला कि 7 साल जेल में रहने के दौरान उसकी मुलाकात खालिस्तानी समर्थकों से हुई थी. उसी के जरिए वह खालिस्तानी संगठन के संपर्क में आया और जब जून माह में वह जमानत से बाहर आया तो उसे अयोध्या की रेकी कर नक्शा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया. खालिस्तानी समर्थक उन्हें राजू ठेहट की हत्या का बदला लेने के लिए उकसा रहे थे. हालांकि, एटीएस की जांच अभी भी जारी है. शंकरलाल ने पूछताछ में अजीत और प्रदीप को अपना साथी बताया है.

आतंकी गुरपतवंत उर्फ पन्नू ने रेकी के लिए कहा था

पूछताछ और जांच में पता चला है कि शंकर लाल कनाडा में मौजूद खालिस्तानी समर्थक हरमिंदर उर्फ लांडा के संपर्क में था. हरमिंदर ने शंकर को बताया था कि खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत ने अयोध्या की रेकी करने को कहा था. इसके साथ ही आतंकी पन्नू ने अयोध्या का नक्शा भी भेजने को कहा था.

पूछताछ में पता चला है कि तीनों कनाडा में बैठे शख्स के निर्देश पर ही अयोध्या पहुंचे थे और यहां रेकी कर रहे थे. बताया जा रहा है कि खालिस्तानी आतंकी अयोध्या में किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने की फिराक में थे. पता चला है कि रेकी के बाद तीनों को अयोध्या में रुकना था और फिर आगे निर्देश मिलने पर किसी बड़ी घटना को अंजाम देना था.

ADVERTISEMENT

शंकर लाल के खिलाफ कई मामले दर्ज हैं

आपको बता दें कि शंकल लाल राजस्थान के सीकर के रहने वाला है. उसके खिलाफ राजस्थान में हत्या और लूट के कई मामले दर्ज हैं. जांच में पता चला है कि बीकानेर जेल में रहने के दौरान उसकी मुलाकात गैंगस्टर लखविंदर से हुई थी. तभी से दोनों संपर्क में थे.

मिली जानकारी के मुताबिक, जेल से छूटने के बाद शंकल लाल लखविंदर के भतीजे पम्मा के जरिए खालिस्तान समर्थक और गैंगस्टर सुखविंदर गिल के संपर्क में आया. गिरफ्तार किए गए तीनों लोग अब आतंकी हरमिंदर सिंह उर्फ लांडा के भी संपर्क में थे. आपको बता दें कि हरमिंदर सिंह उर्फ लांडा आतंकी गुरपतवंत उर्फ पन्नू का भी करीबी है. फिलहाल अयोध्या की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है. इस मामले की जांच यूपी एटीएस और सुरक्षा एजेंसियां कर रही हैं.

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...