छत्तीसगढ़ में 8 लाख की इनामी महिला माओवादी एनकांटर में ढेर! जंगल में हुआ खूंखार लेडी कमांडर का खात्मा

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Chhattisgarh Maoists: छत्तीसगढ़ में कोरंजेड़ -बंदेपारा के जंगल में पुलिस और माओवादियों के बीच मुठभेड़ हुई। इस मुठभेड़ में एक महिला और एक पुरुष माओवादी ढेर हो गए। इनके पास से पुलिस ने हथियार, विस्फोटक, वायरलेस सेट, 30 हजार रुपए, पिट्ठू बैग, माओवादी वर्दी, दवाइयां, प्रतिबंधित माओवादी संगठन के प्रचार-प्रसार की सामग्री, साहित्य एवं रोजमर्रा में काम आने वाली सामग्री बरामद की है। 

कैसे हुआ आपरेशन?

ये घटना थाना मद्देड़ क्षेत्र में कोरंजेड़ के जंगलों में 27 मई को हुई। यहां सुरक्षा बलों को ये जानकारी थी कि जंगल में माओवादी मौजूद है। इसी जानकारी पर ये ऑपरेशन शुरु किया गया। पुलिस ने जंगल में माओवादियों को घेर लिया। जवाबी कार्रवाई में माओवादी ढेर हो गए। इनके पास से 7.66 एमएम पिस्टल, 12 बोर सिंगल शॉट बंदूक, टिफिन बम, 12 जिलेटीन स्टीक, 8 मीटर कार्डेक्स वायर, सेफ्टी फ्यूज, 30 हजार रुपए और अन्य सामग्रियां मिली है।

महिला माओवादी ढेर

नक्सली लेडी कमांडर की पहचान मनीला पूनेम ऊर्फ मनीला के तौर पर हुई। वो मद्देड़ एरिया कमेटी की सदस्य (डीव्हीसीएम) थी। उस पर प्रशासन ने 8 लाख रुपए का ईनाम घोषित कर रखा था। पूनेम 2006 से माओवादी संगठन में सक्रिय रूप से जुड़ी थी। उस पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, आजगनी, अपहरण समेत विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धाराओं में एक दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज है। 

ADVERTISEMENT

आरोपी दंतेवाड़ा जेल ब्रेक में था शामिल

दूसरे आरोपी की पहचान मंगलू कुड़ियम के रूप में हुई। वो 40 साल का था। वो मद्देड़ एरिया कमेटी मिलिशिया प्लाटून कमाण्डर का पार्टी सदस्य था। उस पर 1 लाख रुपए का ईनाम था। वो साल 1999 से माओवादी संगठन में सक्रिय रूप से कार्यरत था। आरोपी साल 2007 में दंतेवाड़ा जेल ब्रेक की घटना में शामिल था। मंगलू पर हत्या, हत्या का प्रयास, लूट, आजगनी, अपहरण, बल्वा, आर्म्स एक्ट एवं विस्फोटक पदार्थ अधिनियम की धाराओं में कई केस दर्ज है। 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT