दो बच्चों को कार में छोड़कर शाॉपिंग को गए पापा मम्मी, कार समेत हो गई बच्चों की किडनैपिंग, सावधान रहें! 

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

दिल्ली से हिमांशु मिश्रा की रिपोर्ट

Delhi: अगर आप भी कार में अपने बच्चों को कार में छोड़ कर शॉपिंग करने उतर जाते हैं तो सावधान हो जाइए। दिल्ली के लक्ष्मी नगर का ये हादसा आपको डरा देगा। वाकया यूं है कि शुक्रवार रात तकरीबन 10:30 बजे के आसपास दिल्ली पुलिस के कंट्रोल रूम में एक शख्स ने कॉल किया और जानकारी दी कि उनके दो बच्चे गाड़ी में बैठे थे गाड़ी समेत उनको किसी ने अगवा कर लिया है। कार मे एक 11 साल बच्च्ची और एक 3 साल का बच्चा था जो कार समेत गायब हो चुके थे। 

कार समेत हो गई बच्चों की किडनैपिंग

ये जानकारी मिलते ही आला अधिकारी तुरंत एक्शन में आए और एक साथ अलग अलग दिशाओं में पुलिस की 20 टीमें रवाना कर दी गईं। दिल्ली के बॉर्डर पर पुलिस को एक्टिव कर दिया गया। दरअसल पीड़ित परिवार फरीदाबाद का रहने वाला था, किसी काम से दिल्ली आया था और इसके बाद कड़कड़डूमा में शिव टिक्की की दुकान पर वह कार से रुके। यहां से माता-पिता मिठाई लेने के लिए दुकान में चले गए और बच्चे दोनों जिसमें 11 साल की बेटी और 3 साल का बेटा एक स्पोर्ट्स गाड़ी में बैठे थे।  

ADVERTISEMENT

बच्चों की जान के बदले मांगे 50 लाख

महज 5 मिनट में ही जब माता-पिता सामान लेकर कार की तरफ वापस आए तो उन्होंने देखा कि वहां पर गाड़ी है ही नहीं। तभी पिता के मोबाइल पर किडनैपर का कॉल आया और उसने कहा कि गाड़ी समेत तुम्हारे दोनों बच्चों को मैंने अगवा कर लिया है जिंदा देखना है तो 50 लाख रुपए का इंतजाम कर लो। आनन फानन में घबराए पिता ने पुलिस को जानकारी दी और पुलिस ने कंट्रोल रूम की तमाम पीसीआर के साथ लोकल पुलिस को भी एक्टिव कर दिया। गाड़ी के अंदर जीपीआरएस लगा था जो इस मौके पर पुलिस के लिए बेहद कारगर साबित हुआ।

दिल्ली में बच्चों को लेकर घूमता रहा किडनैपर

बच्चों के पिता ने पुलिस को बताया की बच्चों की मां का फोन गाड़ी में ही है और इसके बाद पुलिस ने गाड़ी में रखे फोन पर कॉल करने के लिए कहा, फोन करने पर किडनैपर ने बच्चों के पिता से बात की और 50 लाख रुपए की फिरौती मांगी। 11 साल की बच्ची को डराने के लिए उसने 2 साल के बच्चे को ड्राइवर की बगल की सीट पर बैठा लिया और 25 से बोला कि अगर उसने शोर मचाया या पेट्रोल पंप पर किसी से भी कुछ भी कहा तो वह तुरंत उसके भाई के पैर काट देगा।

ADVERTISEMENT

बच्चे के पैर काटने की धमकी दी

उधर पुलिस लगातार यह कोशिश कर रही थी की बच्ची के पिता और किडनैपर के बीच बार-बार और लंबी बातचीत हो ताकि ट्रैक करने में आसानी हो। पुलिस की टीम जब शकरपुर से निकली तो उन्होंने जब पहले ट्रैक किया तो पता चला कि आरोपी वजीराबाद इलाके में है यानि शकरपुर से रात के वक्त भी वजीरपुर पहुंचने में आधे घंटे का वक्त लगता है। पुलिस इस गैप को खत्म करना चाहती थी इसके लिए पुलिस डेढ़ सौ की रफ्तार में गाड़ी चलाते हुए वजीराबाद तक पहुंची। 

ADVERTISEMENT

पुलिस अफसर ने डेढ़ सौ की रफ्तार में चलाई गाड़ी 

पुलिस ने उस फोन को सर्विलांस पर लगवा दिया जिसके चलते एक-एक पल की लोकेशन पुलिस को मिल रही थी। किडनैपर कही रुक नहीं रहा था। वो वजीराबाद से निरंकारी कॉलोनी निरंकारी कॉलोनी से अशोक विहार और अशोक विहार से आरोपी ने यू टर्न लेकर गाड़ी शालीमार बाग की तरफ मोड दी। कुछ ही समय में वो शालीमार बाग से होता हुआ बच्चों को लेकर बुराड़ी चौक पहुंचा, बुराड़ी चौक से गाड़ी मुकरबा चौक पहुंची और मुकरबा चौक से किडनैपर अलीपुर जा पहुंचा। फिर अलीपुर से होते हुए सीधा बादली रेलवे स्टेशन पहुंचा।

फोन से मिल रही थी लोकेशन

इस बीच जितनी बार भी किडनैपर ने बच्चों के पिता से बात की वह लगातार धमकी देता था गाली देता था और जल्द से जल्द पैसों की मांग कर रहा था। आरोपी ने इस बीच गाड़ी में दो हजार का पेट्रोल भी डलवाया और बच्चों के पिता से बात करते हुए कहा कि वह गाड़ी में तेल डलवा चुका है और गोवा जा रहा है। लेकिन किडनैपर जिस भी रास्ते पर जाता है उसे कहीं ना कहीं पुलिस की गाड़ी नजर आ जाती इसलिए वह बादली रेलवे स्टेशन के पास बच्चों को और गाड़ी को छोड़ दिया और करीब 3 घंटे बाद रात 1:30 बजे बच्चों और गाड़ी को वहीं पर छोड़कर फरार हो गया।

बच्चों को लेकर गोवा जा रहा हूं

जानकारी के मुताबिक आरोपी तक पहुंचने के लिए तीन घंटे में पुलिस की 20 गाड़ियों ने 200 किलोमीटर तक आरोपी का पीछा किया। वह दिल्ली में गोल-गोल घूमता रहा और पुलिस हर जगह ट्रैप लगाती रही और आखिर में बादली में वह फरार हुआ। पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी के जरिए आरोपी की पहचान करने की कोशिश की जा रही है और जल्द ही उसे गिरफ्तार कर लिया जाएगा। जानकारी के मुताबिक जब बच्चे गाड़ी में थे तो आरोपी आया और पिस्टल दिखा कर उन्हे डरा दिया और गाड़ी समेत बच्चों को अगवा कर लिया था।

पुलिस की 20 गाड़ियों ने 200 किलोमीटर तक किया पीछा

पुलिस के मुताबिक किडनैपर के निकलने के चंद सेकेंड के बाद ही पुलिस की टीम वहां पर पहुंच गई बच्ची गाड़ी के अंदर बैठी थी जबकि घबराए बच्चा गाड़ी से निकलकर फुटपाथ पर बैठ गया था जब माता-पिता ने अपने बच्चों को सही सलामत देखा तो उन्होंने राहत की सांस ली। आज तक से बातचीत करते हुए बच्ची के पिता ने कहा कि उनकी बेटी ने उनसे कहा कि इस बार वह कहीं घूमने गई नहीं गए थे इसलिए चलिए कहीं कुछ खा पी कर लॉन्ग ड्राइव करके आते हैं जिसके बाद परिवार फरीदाबाद से निकल करकडूमा पहुंचे। गोलगप्पे खाए फिर हीरा स्वीट्स के बाहर जब वह मिठाई लेने के लिए उतरे ही थे कि यह हादसा हो गया। अब उनका कहना है कि अपने बच्चों को गाड़ी में कभी ना छोड़ेंगे यह खतरनाक हो सकता है।

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...