Ankita Murder Case: जहां मिली थी अंकिता की लाश , वहां से मिले ये सबूत कई राज खोलेंगे

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Ankita Bhandari Murder Case: उत्तराखंड की अंकिता भंडारी (Ankita Bhandari of Uttarakhand) की हत्या के मामले में लगातार नए खुलासे हो रहे हैं. अंकिता भंडारी हत्याकांड की जांच कर रही उत्तराखंड पुलिस की एसआईटी ने आरोपी को रिमांड पर लिया है और मौके से एक मोबाइल फोन भी बरामद किया है.

सोशल मीडिया पर अफवाह उड़ी कि पुलिस अधिकारी को पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया गया है. हालांकि, जब Crimetak ने वैभव प्रताप से संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि उनसे पूछताछ की गई लेकिन उनकी गिरफ्तारी की खबर पूरी तरह गलत थी.

सब इंस्पेक्टर 18 सितंबर की घटना के बाद से छुट्टी पर है. अंकिता भंडारी हत्याकांड की जांच में खुलासा हुआ है कि मुख्य आरोपी पुलकित आर्य ने पीड़िता की हत्या के एक दिन बाद पटवारी वैभव से मुलाकात की थी. पटवारी एक गाँव का प्रशासनिक अधिकारी होता है जो भूमि अभिलेखों के रखरखाव के लिए जिम्मेदार होता है.

ADVERTISEMENT

वैभव वही है जिसके पास सबसे पहले अंकिता के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई गई थी. आरोपों के बाद उन्हें उनके पद (पटवारी) से निलंबित कर दिया गया है.

क्या है मामला?

ADVERTISEMENT

उत्तराखंड में ऋषिकेश के पास एक रिसॉर्ट में 19 वर्षीय रिसेप्शनिस्ट अंकिता भंडारी की कथित तौर पर रिसॉर्ट मालिक और उसके दो साथियों ने हत्या कर दी थी.

ADVERTISEMENT

इससे पहले, 18 सितंबर को संदिग्ध हालात में अंकिता लापता हो गई थी. इस मामले में अंकिता के दोस्त पुष्प ने उसके परिवार और पुलिस को सूचना दी थी. पर पुलिस ने त्वरित कार्रवाई नहीं की थी. इसके बाद अंकिता केस को लोगों ने सोशल मीडिया पर उठाया. जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ा तब 23 सितंबर को पूर्व मंत्री के बेटे पुलकित आर्य समेत 3 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT