समीर वानखेड़े का दावा, घर में मिले 18 हजार रुपए, मुझे मिल रही है देशभक्त होने की सज़ा!

ADVERTISEMENT

CBI Wankhede Raids: समीर वानखेड़े ने बताया कि सीबीआई ने देर रात उनके आवास पर छापा मारा और 12 घंटे से अधिक समय तक तलाशी ली है। जहां उन्हें 18000 रुपये और 4 संपत्ति के कागजात मिले हैं।

social share
google news

CBI Wankhede Raids: आईआरएस अधिकारी व एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े के खिलाफ सीबीआई ने ताबड़तोड़ छापेमारी की है। इस बीच आजतक से बात करते हुए समीर वानखेड़े ने अपनी सफाई दी है। समीर वानखेड़े ने बताया कि सीबीआई ने देर रात उनके आवास पर छापा मारा और 12 घंटे से अधिक समय तक तलाशी ली है। जहां उन्हें 18000 रुपये और 4 संपत्ति के कागजात मिले हैं। 

समीर वानखेड़े ने कहा कि जिस संपत्ति के कागजात मिले है मेरे नौकरी में शामिल होने से पहले की हैं। समीर वानखेड़े ने कहा कि ये भी कहा कि उन्हे देशभक्त होने की सजा दी जा रही है। समीर वानखेड़े ने आजतक को बताया कि सीबीआई ने उनके ससुराल में भी छापा मारा है जहां 7 सीबीआई अधिकारी मौजूद थे। इसके अलावा सीबीआई के 6 अधिकारियों ने अंधेरी में मेरे पिता के घर पर भी छापा मारा जहां उन्हें कुछ नहीं मिला है।

आर्यन खान केस में 25 करोड़ रुपए की मांग का आरोप 

आरोप है कि एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े ने शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को क्रूज ड्रग्स केस में ना फंसाने के एवज में 25 करोड़ रुपए की कथित तौर पर रिश्वत की मांग की थी। इसी मामले में CBI ने समीर वानखेड़े समेत 4 लोगों पर मामला दर्ज किया था। एजेंसी ने समीर वानखेड़े के मुम्बई आवास सहित दिल्ली, रांची और कानपुर में कुल 29 जगहों पर छापेमारी की है। 

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

 

डीडीजी एनसीबी की रिपोर्ट में खुलासा

 

कॉर्डेलिया क्रूज में रेव पार्टी केस

आपको बता दें कि समीर वानखेड़े और उनकी टीम ने ही 2 अक्टूबर 2021 को मुंबई से गोवा जा रहे कॉर्डेलिया क्रूज में रेव पार्टी (Rave Party) की जानकारी मिलने के बाद छापेमारी की थी। जहां से आर्यन खान की गिरफ्तारी हुई थी। इसके बाद आर्यन 26 दिन तक पुलिस की कस्टडी में रहे। इस दौरान उन्हें आर्थर रोड जेल भी भेजा गया था। आर्यन के खिलाफ पुख्ता सबूत न मिलने की वजह से कोर्ट ने उन्हें 28 अक्टूबर को रिहा कर दिया था। मामले में गिरफ्तार अरबाज मर्चेंट ने कोर्ट में गवाही दी थी कि आर्यन के पास ड्रग्स नहीं थी और उन्होंने अरबाज को भी ड्रग कैरी करने से मना किया था। 

ADVERTISEMENT

डीडीजी एनसीबी की रिपोर्ट में खुलासा

वानखेड़े एनसीबी के जोनल डायरेक्टर थे जब आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था। एक गवाह के खुलासे के बाद एनसीबी द्वारा सतर्कता कार्यवाही शुरू की गई और ज्ञानेश्वर सिंह डीडीजी एनसीबी द्वारा सतर्कता कार्यवाही की गई। जांच शुरु होते ही वानखेड़े को होम कैडर में वापस भेज दिया गया था और वर्तमान में वे टैक्स पेयर्स सर्विस चेन्नई में तैनात हैं। डीडीजी ज्ञानेश्वर सिंह ने अपनी जांच रिपोर्ट में सुझाव दिया था कि वानखेड़े के खिलाफ भ्रष्टाचार विरोधी अधिनियम के अनुसार कार्रवाई की जाए क्योंकि उनकी ओर से खामियां पाई गईं हैं। 

 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...