राजधानी दिल्ली में लगता था लड़कियों का बाज़ार इतनी मामूली रकम में होता था मासूमों का सौदा

Delhi Crime: राजधानी दिल्ली के एक इलाके में पिछले कई दिनों से लड़कियों (Girls) का बाज़ार (Market) सजता था जहां महज 30 हजार की मामूली रकम पर मासूम लड़कियों की खरीदफरोख्त होती थी।
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

Delhi Crime: दिल्ली के भलस्वा डेयरी (Bhalasva Dairy) से जो खबर सामने आई है उसे सुनकर देश की राजधानी (Capital) सन्न रह गई। जो बात क़िस्से कहानियों तक की हद में रहते थे, उसे यहां गुनाह (Crime) की दलदली ज़मीन पर पनपते देखा गया। तरक्कीपसंद मुल्क (Developing Nation) हिन्दुस्तान (India) की राजधानी के पास लगता था लड़कियों का बाज़ार। सुनकर आप बुरी तरह चौंक सकते हैं।

क्योंकि ये वाकया है ही चौंकानें वाला। 18वीं सदी के किस्से कहानियों में जिस तरह के बाज़ार का ज़िक्र हम सुनते आए हैं ठीक उसी तर्ज पर दिल्ली के भलस्वा डेयरी के पास लड़कियों की खरीदफरोख्त होती थी।

यहां मासुम बच्चियों को प्लेसमेंट कराने के नाम पर खरीद फरोख़्त की जाती थी। आपको बता दें कि इस मामले कि जानकारी मिलते ही इस इलाके के मुकुंदपुर में NCPCR और BBA के साथ मिलकर दिल्ली पुलिस ने छापेमारी की है। छापेमारी कर भलस्वा डेयरी थाना इलाके के जनता विहार के एक घर से 10 नाबालिग बच्चियों को छुड़वाया गया।

बीते तीन साल से सज रहा था लड़कियों का बाज़ार

Delhi Crime: इस छापेमारी में पुलिस ने इस प्लेसमेंट एजेंसी को चलाने वाले मालिक को भी गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी के बाद आरोपी मालिक से पूछताछ करने पर पता चला कि प्लेसमेंट एजेंसी चलाने वाले आरोपी 3 साल से कृष्ण जयंती के नाम पर मासुम लड़कियों का धंधा चला रहा था।फिलहाल पुलिस इस पूरे मामले को खंगालने में जुटी हुई है।

इन सब के बीच एक बड़ा सवाल ये भी है कि इस इलाके में सैकड़ों घर होने के बावजुद यहां किसी का ध्यान क्यों नहीं गया। वैसे ये भी कहा जा सकता है कि इस धंधे को करने वाले इतने शातिर थे कि उनके काले कारनामों की किसी को भनक तक नहीं लगी।

दुष्कर्म का हिसाब किताब रजिस्टर में दर्ज

Delhi Crime: इस पूरे मामले की तफ्तीश के दौरान जिस बात ने सबसे ज़्यादा चौंकाया वो ये था कि यहां मासूम लड़कियों के साथ किए जा रहे दुष्कर्मों का सारा हिसाब किताब पैसों के हिसाब से रखा जाता था। यानी लड़कियों को अपनी हवस का शिकार बनाने वालों का नाम रजिस्टर के पन्नों में दर्ज होता था।

पुलिस को तलाशी के दौरान कई लोगों के आधार कार्ड और बैंक अकाउंट की डिटेल हासिल हुई है। पुलिस की तफ्तीश में ये भी खुलासा हुआ है कि यहां महज 30 हज़ार की मामूली रकम में लड़कियों का सौदा होता था।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in