Crime Story: इस क्राइम मास्टर के आगे क्राइम थ्रिलर फिल्म भी फेल, इस तरह कर डाली अपनी ही “हत्या”

Murder Mystery: एक ऐसा अपराधी की है जिसने सीआईडी और क्राइम पेट्रोल जैसे सीरियल के एक क्राइम सीन को अपनी असल जिंदगी में प्लान कर दिया, ऐसी साजिश का तानाबाना तैयार कि क्राइम थ्रिलर फिल्म भी फेल हो जाए।
इस क्राइम मास्टर के आगे क्राइम थ्रिलर फिल्म भी फेल
इस क्राइम मास्टर के आगे क्राइम थ्रिलर फिल्म भी फेल

Crime Story in Hindi:  यह सच्ची कहानी यूपी के प्रयागराज (Prayagraj) की है। यहां रहने वाले एक खतरनाक अपराधी (Dreaded Criminal) फिरोज अहमद पर दर्जनों मुकदमें दर्ज थे। हर रोज उसे पुलिस का डर सताता था यहां तक कि जेल आने-जाने और मुकदमा लड़ने के लिए उसने लाखों का कर्ज ले ले रखा था। हां अब वो इस मुसीबत से हमेशा हमेशा के लिए छुटकारा पाना चाहता था।

इसी दौरान इस अपराधी ने एक क्राइम सीरियल देखा और तैयार की खुद के कत्ल की साजिश। दरअसल क्राइम सीरियल में फिरोज अहमद ने देखा कि क्रिमिनवल रिकार्ड और कर्ज से छुटकारा पाने के लिए एक शख्स अपने जैसे हुलिए का आदमी तलाश करता है। फिर एक कत्ल कर देता है।

साजिश के तहत शुरु की खुद जैसे शख्स की तलाश

अब साजिश का आईडिया फिरोज खान के दिमाग में आ चुका था लिहाजा उसने अपने जैसे दिखने वाले एक शख्स की तलाश शुरु कर दी। इस काम में फिरोज ने अपने दो साथियों की मदद ली। ये दो साथी शिवबाबू और शमशेर अली थे। जल्द ही फिरोज अहमद की तलाश पूरी हो गई और प्रयागराज के छिवकी रेलवे स्टेशन पर इन तीनों को फिरोज के हुलिए से मिलता-जुलता शख्स मिल गया।

फिरोज और उसलके साथियों का शिकार सूरज गुप्ता नाम का शख्स था। तीनों ने सूरज को अपने साख शराब पीने का न्योता दिया जिसे सूरज ने स्वीकरा कर लिया। प्लानिंग के तहत 16 अक्टूबर की शाम फिरोज, शिव बाबू और शमशेर ने सूरज गुप्ता को करछना ले गए जहां उसे शराब पिलाई और मौका देखकर उसका गला काट दिया।

पुलिस ने किया फिरोज का एनकाउंटर
पुलिस ने किया फिरोज का एनकाउंटर

अब चूंकि सूरज हिंदू था और फिरोज मुसलमान लिहाजा उसने सूरज के गुप्तांग को चाकू से रेत दिया। सिर धड़ से अलग कर उसे नहर में फेंक दिया और लाश को जला दिया। प्लानिंग के मुताबिक फिरोज ने बिना सिर की लाश के पास अपना लाइसेंस और पर्स छोड़ दिया। क्राइम की स्क्रिप्ट केस मुताबिक फिरोज साबित करना चाहता था कि ये लाश उसी की है।

पुलिस को मिली सिरकटी लाश

दूसरे दिन यानि 17 अक्टूबर को पुलिस को मर्दापुर ढाबे के पास एक सिरकटी लाश मिलने की सूचना मिली। मौका ए वारदात पर पहुंच कर पुलिस ने जांच शुरु तो शुरआत में लगा कि यह लाश फिरोज नाम के अपराधी की है। जांच आगे बढ़ी तो हर बात पुलिस को चौंका रही थी। मसलन मरने वाले का गुप्तांग कटा हुआ था लेकिन उसके हाथ पर त्रिशूल गोदा हुआ था।

पुलिस ने मृतक के अंडरवियर की तलाशी ली तो उसमें एक कागज मिला। इस पर्ची पर एक मोबाइल नंबर लिखा था जो कि मृतक के परिजनों का था। पुलिस ने इस नंबर पर कॉल की तो पता चला कि मरने वाले का नाम सूरज गुप्ता है। जो कि बक्सर बिहार का रहने वाला है।

गुप्तांग कटा और शरीर पर त्रिशूल का टैटू!

अब पुलिस को समझते देर नहीं लगी कि कातिल ने अपने ही कत्ल की साजिश रची थी लिहाजा पुलिस ने फिरोज की तलाश शुरु कर दी। फिरोज की तलाश में पुलिस उसके घर पहुंची तो पता चला कि वो कई दिनों से घर नहीं आया। फिरोज की तलाश में पुलिस ने पूरे इलाके में नाकेबंदी की और एक एनकाउंटर के बाद पुलिस ने फिरोज को गिरफ्तार कर लिया।

फिरोज के पैर में पुलिस की गोली लगी। सूरत का कत्ल करने के बाद फिरोज ने अपना हुलिया बदल लिया था। उसने सिर और दाढ़ी के बाल मुंडवा लिए थे। वह गले में रुद्राक्ष की माला पहन रखी थी। कहते हैं कातिल कितना भी चालाक वो कहीं ना कहीं चूक जरुर करता है।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in