International Job Gang: शानदार नौकरी के लालच में फंसे इतने भारतीयों को वापस लौटाया

International Gang: अच्छी नौकरी की चाहत में अंतरराष्ट्रीय अपराध गिरोह के झांसे में फंसे 38 भारतीय म्यांमा से वापस भारत भेज दिया गया है।
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

International Gang: विदेशों (Foreign) में नौकरी (Job) का झांसा इतना जबरदस्त है कि कोई भी बड़ी आसानी से इसमें फंस सकता है। अच्छी नौकरी और शानदार जीवन (Good Life style) जीने की ललक किसी भी सामान्य इंसान को इस चाशनी से भरे दलदल में बहुत बुरी तरह से फंसा देती है और इसी का फायदा उठाकर कुछ शातिर लोग अपनी तिजोरी भरते रहते हैं।

ऐसा ही एक मामला म्यांमार से सामने आया। म्यांमा के म्यावाडी इलाके में अंतरराष्ट्रीय गिरोह के नौकरी के झांसे में फंसे 38 भारतीयों को बृहस्पतिवार को स्वदेश भेजा गया।

International Gang: असल में म्यांमां के अधिकारियों को इत्तेला मिली थी कि उनके इलाक़े में कुछ ऐसे गिरोह सक्रिय हैं जो आस पड़ोस के मुल्कों के कुछ बेरोजगारों को अपने जाल में फंसा कर यहां लेकर आ गए हैं।

इसी इत्तेला पर काम करते हुए म्यांमां की सुरक्षा एजेंसियों ने पिछले महीने म्यावाडी इलाके में फंसे समूह में से 13 को बचाया था। म्यांमा और थाईलैंड में भारतीय दूतावासों की मिली जुली कोशिश के बाद सितंबर में 32 भारतीयों को म्यावाडी से बचाया गया था।

International Gang: म्यांमा में भारतीय दूतावास के ट्वीट से पता चलता है कि ‘‘म्यांमा के म्यावाडी में नौकरी की पेशकश करने वाले अंतरराष्ट्रीय गिरोह के झांसे में फंसे 38 लोगों को म्यांमा में भारतीय दूतावास ने स्वदेश भेज दिया है।’’

International Gang: दूतावास ने कहा कि वे म्यांमा के यांगून से कोलकाता के लिए रवाना हुए, जहां से वे अपने-अपने मूल स्थानों को भेजे जाएंगे।

International Gang: यांगून स्थित भारतीय दूतावास ने कहा, ‘‘हम म्यांमा के अधिकारियों और अन्य द्वारा प्रदान की गई सहायता की सराहना करते हैं। हम शेष भारतीय नागरिकों की रिहाई के लिए अपने प्रयास जारी रखे हुए हैं।

इसके साथ हम अंतरराष्ट्रीय अपराध गिरोह द्वारा नौकरी की पेशकश के झांसे में नहीं फंसने के खिलाफ लोगों को फिर से आगाह करते हैं।’’

इसके अलावा म्यांमां के अधिकारियों ने उन गिरोहों की पहचान करके उन्हें क़ानूनी शिकंजे में लाने के लिए तफ्तीश भी शुरू कर दी है और उन पर नज़र रखने के लिए एक टीम भी तैयार की है।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in