POK के लोगों ने पाकिस्तान के खिलाफ कर डाला यलगार, तीन लोगों की मौत और 100 से ज्यादा घायल

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

POK: पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (Pakistan occupied Kashmir) में हालात काफी खराब चल रहे हैं. चारों ओर हिंसा फैली हुई है. आसान शब्दों में कहें तो लोगों ने पाकिस्तान सरकार के खिलाफ बिजली और जरूरी चीजों के दाम बढ़ने की वजह से प्रदर्शन शुरू किया हुआ है. पाकिस्तान सरकार के खिलाफ लोग सड़क पर उतरकर प्रदर्शन (Protest) कर रहे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक तीन लोगों की इस प्रदर्शन की वजह से मौत हो गई है और करीब 100 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. इतना ही नहीं घायलों में ज्यादातर लोग पुलिसकर्मी ही हैं क्षेत्र में बढ़ती अशांति को खत्म करने के लिए पाकिस्तान सरकार को तत्काल रूप से 23 अरब रूपये अलॉट करने पड़े. विवादित क्षेत्र में शनिवार से ही प्रदर्शन चल रहा है. पुलिस और मानवाधिकार आंदोलन के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प भी हुई.

POK में आखिर चल क्या रहा है ?

पाक में ये प्रदर्शन जम्मू-कश्मीर ज्वाइंट आवामी एक्शन कमेटी (JAAC) के बैनर तले हो रहा है. इस प्रदर्शन में सबसे ज्यादा छोटे कारोबारी हैं. कमेटी की ओर से पीछले 4 दिनों से ये प्रदर्शन जारी है. सबसे पहले तो स्थानीय कारोबीरियों ने अपनी दुकानों के शटर बंद किए और फिर अचानक से हड़ताल का ऐलान कर दिया. इसके बाद मुजफ्फराबाद के लिए मार्च निकाला गया. इसी बीच JAAC के प्रवक्ता हाफिज हमदानी ने कहा कि प्रदर्शन के दौरान हो रही हिसां की वजह से हमारी कमेटी को बदनाम किया जा रहा है. 

POK
POK

अब जानिए क्यों चल रहा प्रदर्शन

POK में रहने वाले लोग काफी समय से पाकिस्तान सरकार पर भेदभाव के आरोप लगा रहे हैं. वहां के लोगों का कहना है कि जरूरत वाली चीजे जैसे आटा, दूध के दाम आसमान छू रहे हैं. इसी के साथ आटा पर सब्सिडी खत्म करने पर भी लोगों में गुस्सा है. टैक्स और बिजली जैसे बड़े मुद्दों पर भी लोगों में आक्रोश है. लोगों का कहना ये भी है कि पाकिस्तान सरकार बेरोजगारी को लेकर कोई अहम कदम नहीं उठा रही है. 

ADVERTISEMENT

POK
POK

लोगों में इतना गुस्सा क्यों?

स्थानीय लोगों में लाइट को लेकर ज्यादा गुस्सा है क्योंकि पाकिस्तान में जितनी बिजली की जरूरत है उसकी 20% POK के मंडला डैम में पैदा होती है. लेकिन उसका सिर्फ 30% हिस्सा ही POK को मिलता है. बाकी की बिजली पाकिस्तान के पंजाब प्रांत को दी जाती है. ज्यादा गुस्से का कारण ये भी है कि वहां रह रहे अमीरों को 24 घंटे बिजली मिलती है वहीं दूसरी ओर गरीबों को दिनभर में सिर्फ 4 या 6 घंटे ही बिजली मिल पाती है. लोगों का कहना है कि इससे छोटे व्यापारियों को काफी नुक्सान उठाना पड़ता है. 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT