Taj Mahal : जयपुर के राजपरिवार की सांसद दीया कुमारी का दावा, ताजमहल हमारी प्रॉपर्टी है

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

जयपुर से शरत कुमार की खास रिपोर्ट

Agra Taj Mahal News : आगरा के ताजमहल मामले में नया मोड़ आया है. अब राजस्थान के जयपुर के पूर्व राजपरिवार ने ताजमहल पर अपना दावा किया है. जयपुर के पूर्व राजपरिवार की प्रिंसेस और बीजेपी सांसद दीया कुमारी ने दावा किया कि ताजमहल हमारी प्रॉपर्टी है. जो हमारे परिवार के पैलेस की सम्पत्ति पर बना है.

सांसद दीया कुमारी ने दावा किया कि उनके पास ऐसे डॉक्युमेंट्स मौजूद हैं, जो बताते हैं कि ताजमहल पहले जयपुर के पूर्व राजपरिवार का एक पैलेस था. जिस पर शाहजहां ने कब्जा कर लिया था. दीया कुमारी ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा कि जब शाहजहां ने जयपुर परिवार का वो पैलेस और जमीन ली थी तब उस समय मुगल सरकार थी.

ADVERTISEMENT

इसलिए उसका विरोध नहीं कर सके थे. उन्होंने कहा आज भी कोई भी सरकार किसी जमीन का अधिग्रहण करती है तो उसके बदले में मुआवजा देती है. मैंने सुना है कि उसके बदले में कोई मुआवजा दिया, लेकिन उस समय ऐसा कोई कानून नहीं था कि उसके खिलाफ अपील कर सकते थे या उसके विरोध में कुछ कर सकते थे. अब अच्छा है किसी ने आवाज उठाई और कोर्ट में याचिका दायर की है.

BJP MP Diya Kumari : सांसद दीया कुमारी ने कहा कि मैं यह तो नहीं कहूंगी कि ताजमहल को तोड़ देना चाहिए. लेकिन उसके कमरे खोले जाने चाहिए. उन्होंने कहा कि ताजमहल में कुछ कमरे बंद हैं. कुछ हिस्सा वहां लंबे वक्त से सील है. उस पर निश्चित तौर पर इन्क्वायरी यानी जांच होनी चाहिए और उसे खोलना चाहिए.

ADVERTISEMENT

जिससे यह पता चले कि वहां क्या था और क्या नहीं था. वो सारे फैक्ट्स तभी साबित हो सकेंगे जब एक बार उसकी प्रॉपर जांच होगी और कोर्ट जब आदेश देगा कि पता करना चाहिए कि पहले ताजमहल क्या था? ऐसे में क्या कोर्ट में जयपुर के पूर्व राजपरिवार की ओर से भी याचिका दायर की जाएगी? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि इसे हम अभी देख रहे हैं. सांसद दीया ने कहा कि हम अभी इस पर कानूनी राय लेंगे और फिर देखेंगे की आगे क्या कदम उठाना चाहिए.

ADVERTISEMENT

Jaipur Princess Diya Kumari on Taj Mahal : सांसद दीयाकुमारी ने कहा अगर दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी तो जयपुर के पूर्व राजपरिवार के हमारे ट्रस्ट में पोथीखाना भी है. हम तमाम डॉक्युमेंट्स जरूरत पड़ने पर मुहैया कराएंगे. अगर कोर्ट आदेश देगा तो हम उसे पेश कर सकते हैं.

इन कागजात से साफ है कि शाहजहां को उस वक्त वह पैलेस अच्छा लगा तो उन्होंने उसे ले लिया और अधिग्रहण कर लिया. क्या वहां पर कोई मंदिर था? इस सवाल पर सांसद दीया कुमारी ने कहा मैंने अभी इतना सब डॉक्युमेंट्स को देखा नहीं है. लेकिन वह प्रॉपर्टी हमारे परिवार की थी.

What is Taj Mahal Controversy : ताजमहल को लेकर यूपी में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में अयोध्या के भाजपा नेता डॉ. रजनीश सिंह ने याचिका दायर की है. डॉ. सिंह ने अपनी याचिका में ताजमहल के उन 22 कमरों को खोलकर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) से सर्वे कराने की मांग की है, जो लंबे वक्त से बंद हैं.

याचिकाकर्ता का कहना है कि ताजमहल में हिंदू देवी-देवताओं की मूर्तियां और शिलालेख हो सकते हैं. अगर सर्वे होता है तो इससे मालूम चलेगा कि ताजमहज में हिंदू मूर्तियां और शिलालेख हैं या नहीं?

इससे पहले ताजमहल पर क्या हुआ ?

  • 1965 में इतिहासकार पी.एन. ओक ने अपनी किताब में दावा किया कि ताजमहल एक शिव मंदिर है.

  • 2015 में आगरा के सिविल कोर्ट में ताजमहल को तेजोमहालय मंदिर घोषित करने की याचिका दाखिल हुई।

  • 2017 में बीजेपी सांसद विनय कटियार ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को ताजमहल को तेजोमहल घोषित करने की मांग रखी।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT