Shinzo Abe : जापान में सबसे लंबे समय तक PM रहे थे शिंजो आबे, अपने चाचा का ही तोड़ा था रिकॉर्ड

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

shinzo shot dead News in hindi : जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे (Ex Pm Shinzo Abe) की गोली मारकर हत्या (Murder) कर दी गई. सभा के दौरान हुई फायरिंग में घायल होने के करीब 6 घंटे बाद उन्होंने दम तोड़ दिया. इंडिया के समयानुसार जापान के पूर्व पीएम को सुबह करीब 8 बजे गोली मारी गई थी.

उस समय जापान में सुबह के करीब साढ़े 11 बज रहे थे. जापान में सबसे लंबे समय तक पीएम रहने का रिकॉर्ड शिंजो आबे के नाम पर रहा. वे 9 साल तक जापान के पीएम रहे. इससे पहले ये रिकॉर्ड उनके चाचा के नाम पर था. चाचा इसाकु सैतो सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे थे.

शिंजो आबे लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी (LDP) से जुड़े थे. उनकी उम्र इस समय 67 साल थी. पहली बार वे साल 2006 से 2007 तक पीएम रहे थे. आबे को तेज-तर्रार और आक्रामक पीएम माना जाता था.

ADVERTISEMENT

साल 2007 में उन्हें आंत से जुड़ी एक बीमारी अल्सरट्रेटिव कोलाइटिस हुई थी. जिसक वजह से उन्होंने 2007 में पीएम पद से इस्तीफा दे दिया था. इसके बाद वे फिर साल 2012 में पीएम बने. और साल 2020 तक लगातार 8 साल तक जापान के पीएम रहे. इस तरह वे जापान के 9 साल तक पीएम रहे थे. ये जापान में सबसे लंबा कार्यकाल है.

Shinzo Abe Murder Behind Story : शिंजो आबे की हत्या करने वाला हमलावार 41 साल का तेत्सुया यामागामी (Tetsuya Yamagami) है. आरोपी यामागामी तेत्सुया 3 साल तक मैरीटाइम सेल्फ डिफेंस फोर्स में रह चुका है. साल 2000 तक ये नौसेना में रहा था.

ADVERTISEMENT

जांच में ये भी पता चला है कि वेस्टर्न जापान के नारा शहर (Nara City) के एक रेलवे स्टेशन के बाहर वो भाषण दे रहे थे. एक सभा को संबोधित कर रहे थे. उसी समय नेवी ब्लू सूट में हमलावर वहां पहुंचा था. इसके पास डबल बैरल हैंडमेड गन डिवाइस मिली थी. जिसे टीवी कैमरे की तरह बनाया गया था. इससे ही उसने शिंजो आबे पर गोली चलाई थी.

ADVERTISEMENT

असल में जापानी मीडिया का दावा है कि इस देश में हथियार खरीदना बेहद ही मुश्किल है. इसलिए इस हमलावर ने हैंडमेड गन बनाई थी और उसी के जरिए हमला किया था. ये भी कहा गया है कि जापान हथियारों के मामले में सबसे सेफ देश है. यहां आसानी से ना कोई हथियार ले सकता है और ना ही उसका इस्तेमाल कर सकता है.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT