Shinzo Abe : एक थे शिंजो आबे! नाना से लेकर दादा और पिता सभी राजनीति के सक्रिय नेता रहे

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Who Was Shinzo Abe : जापान के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे शिंजो आबे (Japan Former PM Sinzo Abe) का जन्म 21 सितंबर 1954 को हुआ था. वे राजनीतिक फैमिली से आते थे. इनके चाचा भी पीएम रह चुके हैं. वो जापान में दूसरे नंबर सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे थे.

शिंजो आबे के नाना नोबुसुके किशी द्वितीय विश्व युद्ध में जापान के पीएम हिदेकी टोजो की सरकार में मंत्री रहे थे. शिंजो के नाना को दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अमेरिका ने गिरफ्तार कर जेल भी भेद दिया था.

किशी ने ही 1955 में लिबरल डेमोक्रेटिक पार्टी की बुनियाद बनाई थी. इसके बाद 1957 से 1960 तक जापान के पीएम भी रहे थे. शिंजो आबे ने साल 1977 में सेकेई यूनिवर्सिटी से राजनीति विज्ञान में ग्रेजुएशन किया था.

ADVERTISEMENT

Shinzo Abe Family: शिंजो आबे के दादा कान आबे भी विश्व युद्ध के दौरान सांसद थे. पिता शिंतारो आबे भी राजनीति में सक्रिय रहे. वे 1958 से 1991 तक सांसद रहे थे. इसके अलावा सरकार में मंत्री भी रहे थे. इनके बाद शिंजो आबे भी राजनीति में आए.

राजनीति से पहले वे जापान से ग्रेजुएशन करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका चले गए थे. अमेरिका से लौटने के बाद आबे ने एक कंपनी में नौकरी की. लेकिन कुछ समय बाद नौकरी से रिजाइन कर दिया. इसके बाद राजनीति में सक्रिय हो गए थे.

ADVERTISEMENT

इनके पिता की साल 1991 में मौत हुई थी. इसके 2 साल बाद यानी 1993 में शिंजो आबे पहली बार चुनाव लड़े और सांसद बन गए. इसके बाद वो लगातार राजनीति में बड़े कदम उठाते रहे. उनकी लोकप्रियता की वजह से 26 सितंबर 2006 में प्रधानमंत्री बनने का मौका मिला.

ADVERTISEMENT

52 साल की उम्र में वो देश के पीएम बने थे. लेकिन एक साल बाद ही उनकी तबीयत ज्यादा बिगड़ गई थी. असल में साल 2007 में उन्हें आंत से जुड़ी एक बीमारी अल्सरट्रेटिव कोलाइटिस हुई थी. जिसक वजह से उन्होंने 2007 में पीएम पद से इस्तीफा दे दिया था.

इसके बाद वे फिर साल 2012 में पीएम बने. और साल 2020 तक लगातार 8 साल तक जापान के पीएम रहे. इस तरह वे जापान के 9 साल तक पीएम रहे थे. ये जापान में सबसे लंबा कार्यकाल है. दूसरी बार शिंजो आबे 26 दिसंबर 2012 को प्रधानमंत्री बने थे. और अगस्त 2020 में फिर से स्वास्थ गड़बड़ी की वजह से ही उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT