37 किलोमीटर की खूनी साजिश, पिंकी ने की मदद तो जाकिर ने किया मर्डर, खंजर से गला काटा, चेहरे को तेजाब से जलाया!

ADVERTISEMENT

Delhi Shocking Murder: पुलिस ने देखा की युवती के गले पर धारदार हथियार से हमला किया गया था और शव को तेजाब से जलाने की कोशिश भी की गई थी।

social share
google news

Delhi Shocking Murder Case: तारीख 8 सितंबर शाम के वक्त नोएडा पुलिस को नॉलेज पार्क इलाके में एक युवती की अधजली लाश मिलने की खबर मिली। वारदात की संजीदगी को देखते हुए ग्रेटर नोएडा पुलिस फौरन ही मौका ए वारदात पर रवाना हो गई। मौका ए वारदात पर पहुंची पुलिस ने देखा की युवती के गले पर धारदार हथियार से हमला किया गया था और शव को तेजाब से जलाने की कोशिश भी की गई थी। पुलिस को यहां साफ हो गया कि हो ना हो युवती का कत्ल किया गया है। 

शव को तेजाब से जलाने की कोशिश

अब पुलिस को कातिल की तलाश करनी थी। अभी नोएडा पुलिस लाश की शिनाख्त में जुटी थी कि साऊथ दिल्ली के अंबेडकरनगर इलाके में एक युवती की गुमशुदगी दर्ज की गई। इस बीच नोएडा पुलिस ने युवती का शव मिलने की खबर दिल्ली पुलिस को दी तो पता चला कि ये शव पिंकी नाम की युवती का है जो कि अंबेडकर नगर से 8 सितंबर को घर से निकली थी और वापस नहीं आई।    

 

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

पिंकी का शोकाकुल परिवार

 

तेजधार खंजर से काटा गला

जांच के दौरान, टीम ने शिकायतकर्ता और उसके परिवार के सदस्यों से किसी के साथ पिछली दुश्मनी के बारे में कोई सुराग पाने के लिए गहन पूछताछ की और पता चला कि वर्ष 2018-2019 में शिकायतकर्ता की मां ने एक युवक को 11 लाख रुपये दिए थे। पता चला कि पिंकी ने अपने एक सहयोगी मो. जाकिर को 11 लाख रुपए उधार दिए थे। पिंकी ने दोस्त के लिए पर्सनल लोन लिया था और आज तक जाकिर ने पैसे नहीं लौटाए। इससे उसकी मां तनाव में थी और उसका जाकिर से विवाद चल रहा था। 

दोस्त को दिए थे 11 लाख रुपए

ये क्लू दिल्ली पुलिस के लिए काफी था लिहाजा पुलिस ने पिंकी के जानकार जाकिर की तलाश शुरु कर दी। पुलिस टीम ने सभी संभावित तकनीकी सुराग और सबूत एकत्र किए और उनका गहन विश्लेषण किया। पूछताछ में पता चला कि मृतिका दिनांक 08 सितंबर को करीब 2-3 बजे अपने ऑफिस से निकली थी तथा मो. जाकिर पिछले एक सप्ताह से छुट्टी पर था। जांच के दौरान जाकिर का मोबाइल नंबर बंद पाया गया, जिससे उस पर संदेह गहराता गया। 

ADVERTISEMENT

सीसीटीवी में दिखा कातिल का चेहरा

पुलिस टीम ने घटना के बारे में कोई सुराग पाने के लिए मृतक के कार्यालय और अपराध स्थल के पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज की जांच की। स्थानीय सोर्स मुखबिरों से पूछताछ की गई। पुलिस टीम के अथक प्रयासों का फल तब मिला जब संदिग्ध का पता सुभाष विहार दिल्ली पहचाना गया। टीम तुरंत हरकत में आई और आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए सुभाष विहार के 60 से ज्यादा ठिकानों पर 20 घंटे तक लगातार छापेमारी की। आख़िरकार उसे दिल्ली के सुभाष विहार स्थित एक घर से गिरफ्तार कर लिया गया। जाकिर ने पिंकी की हत्या करने का जुर्म कबूल कर लिया। जाकिर की निशानदेही पर सेक्टर 148 सफीपुर, ग्रेटर नोएडा, यूपी से अपराध में प्रयुक्त 01 लोहे का खंजर और एसिड की बोतल बरामद की गई।

60 से ज्यादा ठिकानों पर 20 घंटे तक लगातार छापेमारी 

पूछताछ के क्रम में आरोपी जाकिर ने खुलासा किया कि वह निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पर तकनीकी पर्यवेक्षक के रूप में काम करता है। उसने वर्ष 2018-2019 के दौरान मृतक महिला से 11 लाख रुपये लिए थे। अब मृतक महिला उस पर पैसे लौटाने का दबाव बना रही थी। इसके चलते उसने उसकी हत्या की योजना बनाई। इसलिए वह उसे नॉलेज पार्क, नोएडा ले गया और लोहे के खंजर से उसकी हत्या कर दी और पहचान छिपाने के लिए उसके चेहरे और शरीर पर तेजाब डाल दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद उसने हथियार और एसिड को सेक्टर 148, नोएडा, यूपी में एक बिजली के खंभे की झाड़ियों के पास छिपा दिया था।

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...