क्राइम ब्रांच का दारोगा निकला ड्रग्स के धंधे का मास्टरमाइंड, स्मगलर ने कोर्ट में खोली पुलिसवाले की कुंडली

ADVERTISEMENT

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच का सब इंस्पेक्टर है मोस्टवॉन्टेड
दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच का सब इंस्पेक्टर है मोस्टवॉन्टेड
social share
google news

Drug Racket exposed: फिल्मों में अक्सर कोर्ट रूम का ड्रामा दिखाई देता है, वकील की जिरह, और मुल्जिम की दलील वगैराह वगैराह...इसके अलावा फिल्मी कहानियों में ही कोर्ट के भीतर पुलिस की खाकी वर्दी पर भी दाग लगने की अनगिनत सीन आपकी नजरों के सामने से गुजरे होंगे, लेकिन आप जानकर हैरान रह जाएगे दिल्ली की एक कोर्ट में एक ऐसा ही वाकया सामने आया तो सिर्फ कोर्ट ही नहीं दिल्ली की स्मार्ट कही जाने वाली पुलिस भी हैरत में पड़ गई। 

क्राइम ब्रांच का दारोगा बेनकाब

क्योंकि ये ड्रामा एक ड्रग डीलर ने किया और जब कोर्ट की इजाजत से उसने अपना मुंह खोला तो देखते ही देखते दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच का एक दारोगा नंगा हो गया! अगर आप इसके शाब्दिक अर्थ को न पकड़ें तो यही कहा जा सकता है कि एक अपराधी ने पुलिस की वर्दी में छुपे एक ऐसे मास्टरमाइंड को बेनकाब करके उसकी पूरी क्राइम कुंडली ही अदालत के सामने उजागर कर दी, जिसके बारे में कोई सोच भी नहीं सकता था। 

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच का दारोगा निकला ड्रग्स के धंधे का मास्टरमाइंड

आंखों में धूल झोंककर भाग निकला

लेकिन इसमें कोई नई बात नहीं। ऐसा अक्सर हो जाता है...मगर नई बात तो ये है कि जिस वक़्त कोर्ट की ये कार्रवाई चल रही थी तो जिस सब इंस्पेक्टर की क्राइम कुंडली खोली जा रही थी वो उस वक़्त वहीं उसी कोर्ट में मौजूद भी था। लेकिन उसी कार्रवाई के दौरान वो वहां से ऐसे गायब हुआ जैसे गधे के सिर से सींग। उसके बाद महकमा ढूंढता रह गया और वो सब इंस्पेक्टर हिन्दुस्तान की हद से कहीं दूर जाकर छुप गया, जिसकी परछाईं तक को पकड़ने के लिए अब उसी क्राइम ब्रांच को एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ सकता है। 

ADVERTISEMENT

साढ़े 12 किलो गांजा मिला फ्लैट से

इसी साल जनवरी में साउथईस्ट डिस्ट्रिक्ट पुलिस ने दो ड्रग्स स्मगलरों को दबोचा। उनके पास से अच्छी खासी तादाद में ड्रग्स भी मिली थी। साउथ ईस्ट डिस्ट्रिक की पुलिस को खबर लगी थी कि सिद्धार्थ नगर इलाके में मौजूद सनलाइट कॉलोनी के एक मकान में नशे की कोई खेप पहुँचने वाली है। पुलिस ने इस खबर पर हरकत की और कॉलोनी के इर्द गिर्द अपना घेरा लगा लिया। इसके बाद पुलिस ने छापा मारा तो वहां एक बच्चे समेत दो लोग पुलिस की पकड़ में आ गए। कोर्ट से रिमांड में लेकर पुलिस ने उन दोनों से जब पूछताछ शुरू की तो खुद पुलिस के ही होश उड़ने लगे। क्योंकि नशे के वो स्मगलर पुलिस वालों को वर्दी में छुपे एक ऐसे मास्टरमाइंड का पूरा कच्चा चिट्ठा सुना रहे थे, जिसके बारे में उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था। पुलिस ने उन आरोपियों के पास से 12.5 किलो गांजा भी बरामद किया था। 

दिल्ली एनसीआर में दारोगा था ड्रग्स के धंधे का किंगपिन

ड्रग स्मगलर ने किया कोर्ट में ड्रामा

लेकिन कोर्ट में जब इन दोनों आरोपियों को पेश किया गया तब गजब का तमाशा हुआ। आरोपी चीख चीखकर कहने लगा मुझे अपनी बात कहने दो मुझे अपनी बात कहने दो..। अदालत ने जब उस आरोपी को अपनी बात कहने का मौका दिया तो कोर्ट में पहले तो सन्नाटा छा गया और फिर गहमा गहमी मच गई। 

ADVERTISEMENT

नशे के धंधे के लिए लिया किराए का फ्लैट

ड्रग स्मगलर ने कोर्ट को बताया कि जो गांजा पुलिस ने हमारे पास से पकड़ा है असल में वो उनका है ही नहीं। वो गांजा तो सब इंस्पेक्टर नरेश कुमार का है। कोर्ट में खुसर फुसर शुरू हो गई कि आखिर ये सब इंस्पेक्टर नरेश कुमार कौन है? तब कोर्ट उस स्मगलर की बात को और गौर से सुनने लगी क्योंकि अब वो एक एक करके दारोगा के सारे राज खोल रहा था। उसने कोर्ट को बताया कि सब इंस्पेक्टर नरेश कुमार ने सिद्धार्थ नगर इलाके में एक फ्लैट किराए पर ले रखा है। और वहीं से उसका ड्रग्स का सारा गैरकानी कारोबार चलता है।

ADVERTISEMENT

ड्रग्स के कारोबार का कर दिया पूरा खुलासा 

और जो गांजा उसके पास से पुलिस ने बरामद किया वो असल में पूर्वोत्तर भारत और ओडिशा से लाया गया था। उस स्मगलर ने बताया कि नरेश कुमार की देख रेख में ड्रग्स का ये धंधा आखिर होता कैसे था। आरोपी के दिए गए कोर्ट में बयान के मुताबिक ओडिशा और नॉर्थ ईस्ट के इलाके से ड्रग्स और गांजा उसी फ्लैट पर लाया जाता था और फिर उसे वहीं छोटे छोटे पैकेट्स में पैक करके दिल्ली के अलग अलग हिस्सों में डिस्ट्रीब्यूट किया जाता था। 

सब इंस्पेक्टर के नशे के धंधे का एक स्मगलर ने कोर्ट में खोला राज

नरेश कुमार पूरे रैकेट का रिंगमास्टर 

पुलिस ने जब सनलाइट कॉलोनी के उस फ्लैट पर छापा मारा तो उसे वहां छोटे छोटे पैकेट्स भी मिले थे। कोर्ट में ही पकड़े गए आरोपी युगल ने ये भी बताया कि नरेश कुमार इस पूरे रैकेट का रिंगमास्टर है। वो इस ड्रग्स सप्लाई चेन से जुड़े हरेक पैडलर को निजी तौर पर जानता है। उसकी एक एक हरकत पर नरेश कुमार की नज़र रहती है। 

फोन की सारी कॉल डिटेल निकाली 

एक स्मगलर का भरी अदालत में इस तरह का खुलासा सुनकर खुद कोर्ट भी भौचक रह गई और फिर कोर्ट ने पुलिस महकमें को इस पूरे मामले की गहराई से पड़ताल करने और ड्रग्स रैकेट के रिंगमास्टर नरेश कुमार का सारा काला कच्चा चिट्ठा सामने लाने का हुक्म दिया। कोर्ट ने ऑर्डर दिया कि सबसे पहले नरेश कुमार के फोन की सारी कॉल डिटेल निकाली जाए, और उसकी सीडीआर कोर्ट में पेश की जाए।  पुलिस महकमें ने एक ही झटके में क्राइम ब्रांच के सब इंस्पेक्टर नरेश कुमार की पूरी कुंडली ही खंगाल डाली। लेकिन उस कुंडली से जो सामने आया उसने पुलिस डिपार्टमेंट को ही झकझोरकर रख दिया। 

खातों को खंगाला तो निकला बड़ा राज

पुलिस के इस दारोगा के सीडीआर से ये खुलासा हुआ कि वो लगातार ड्रग्स के धंधे से जुड़े लोगों के साथ संपर्क में रहता है और उनके साथ उसकी बातचीत लगातार हो रही थी। तब पुलिस ने खुफिया तरीके से उस फ्लैट के आस पास लगे सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल डाले। पता चला कि उन फुटेज में वो और उससे मिलने वाले संदिग्ध लोगों के कई ऐसे विजुअल मिले जिनमें वो किसी भारी और बड़े बैग के साथ नज़र आ रहे हैं। इसके बाद पुलिस ने नरेश कुमार के कई खातों को खंगालना शुरू किया तो उसमें भी बड़ी बेनामी और बेहिसाब रकम का लेन देन नजर आया। 

नॉर्थ ईस्ट में करता था ड्रग्स की डील

मजे की बात ये है कि उस सब इंस्पेक्टर को अपने महकमें पर किस कदर यकीन था कि उसने ये फ्लैट अपने ही असली दस्तावेजों के आधार पर किराए पर लिया था। पुलिस की तफ्तीश में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि नरेश कुमार अक्सर फ्लाइट से नॉर्थ ईस्ट और ओडिशा आता जाता रहता था। खुलासा यही है कि उसकी ये यात्रा कोई पुलिस की कार्रवाई के लिए नहीं बल्कि अपने धंधे को दोस्तों से मिलने और उनसे नशे की खेप की सप्लाई की डील पक्की करने के लिए ही जाता था। वहां डील पक्की होने के बाद ही कुमार दिल्ली लौट आता था। 

कोर्ट से फरार हो गया सब इंस्पेक्टर

इस केस का सबसे चौंकाने वाला पहलू ये है कि जिस वक्त कोर्ट में स्मगलर अपनी बात सुना रहा था और कोर्ट इस मामले में सुनवाई कर रही थी, क्राइम ब्रांच का वो सब इंस्पेक्टर नरेश कुमार भी वहां मौजूद था। लेकिन उसी सुनवाई के दौरान ही अचानक नरेश कुमार वहां से नदारद हो गया। उसके बाद तो वो कहां हवा हुआ किसी को हवा तक नहीं लगी। 

साउथ अफ्रीका में मिली लोकेशन

पुलिस की तफ्तीश कहती है कि SI नरेश कुमार की ताजा लोकेशन भारत की हद से हजारों किलोमीटर दूर दक्षिण अफ्रीका में कहीं नज़र आ रही है। यानी वो भारत की हद से भागकर अपने सबसे महफूज ठिकाने तक जा पहुँचा। पुलिस को पता चला है कि वो दारोगा पहले भारत से भागकर नेपाल गया वहां से सीरिया होता हुआ दक्षिण अफ्रीका चला गया। हालांकि अभी भी पुलिस वाले उसकी असली लोकेशन के बारे में पुख्तातौर पर कुछ नहीं कह सकते। ऐसा माना जा रहा है कि वो VPN सिस्टम का इस्तेमाल कर रहा हो और अपने संपर्कों से संपर्क कर रहा हो। 

सब इंस्पेक्टर के साउथ अफ्रीका भागने की है खबर

वर्दी पर दाग लगाने वाला दारोगा सस्पेंड

क्राइम ब्रांच के एक सीनियर पुलिस अफसर के मुताबिक इस खुलासे के बाद ही जब सब इंस्पेक्टर लापता हो गया तो महकमें ने कार्रवाई करते हुए उसे तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया। इतना ही नहीं, महकमें की तरफ से उसके खिलाफ गहराई से पड़ताल करने के लिए बाकायदा टीम तक बना दी हैं।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT