Delhi Crime: शेयर बाजार में 'स्मार्ट प्रॉफिट' के बहाने करोड़ों रुपये की धोखाधड़ी

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Delhi Crime News : आर्थिक अपराध शाखा (EOW) को शिकायत मिली थी कि राजस्थान (Rajasthan) के खाटूश्याम (Khatushyam) मंदिर (Temple) में पुजारी (Priest) और उसके रिश्तेदारों को आरोपी मनीष बोहरा और उसके बेटे कपिल बोहरा, रमेश बोहरा, ललित चंगानी, अमित थानवी और फतेह राज आदि से मिलवाया गया था। पीड़ितों को बताया गया कि आरोपी मनीष बोहरा और उसके साथी शेयर (Share) बाजार (Market) के कारोबारी हैं।

मनीष बोहरा और उसके साथियों ने पीड़ितों को आश्वासन दिया कि यदि वे अपनी मेहनत की कमाई को अलग अलग प्रतिष्ठित कंपनियों के जरिये शेयर बाजार में निवेश करते हैं, तो उन्हें बड़ा फायदा मिलेगा धन दोगुना होगा। उनके आश्वासन पर शिकायतकर्ता और उसके रिश्तेदारों ने 3.32 करोड़ रुपये की रकम कपिल बोहरा को दे दी।

आर्थिक अपराध शाखा के डीसीपी रवि कुमार सिंह के मुताबिक इस संबंध में आरोपी मनीष बोहरा ने पीड़ितों को ईमेल के माध्यम से बताया कि उन्होंने कई कंपनियों में उनके निवेश किए गए पैसे से बड़े पैमाने पर शेयर खरीदे हैं। हैरानी की बात ये है कि 3 करोड़ से ज्यादा के निवेश का कोई भी कागज पीड़ित को नही दिया गया था जिससे शक गहराता गया।

ADVERTISEMENT

बाद में शिकायतकर्ता को पता चला कि उसके करोड़ों रुपए का किसी भी कंपनी में कोई निवेश नहीं किया गया है। जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू की थी।

ईओडब्लू की जांच के दौरान पता चला कि आरोपियों ने पीड़ितों से बैंकिंग चैनल और कैश भी पैसा लिया था। जांच के दौरान आरोपी को धारा 41A सीआरपीसी के तहत एक नोटिस मनीष बोहरा और कपिल बोहरा को जारी किया गया था लेकिन कई रिमाइंडर के बावजूद वो जांच में शामिल नहीं हो रहे थे।

ADVERTISEMENT

इसके बाद आर्थिक अपराध शाखा ने दोनों आरोपियों के खिलाफ कोर्ट से गैर जमानती वारंट हासिल किया गया। 09 जुलाई को मनीष बोहरा को राजस्थान के जोधपुर से गिरफ्तार किया गया।

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...