डिलीवरी ऑपरेशन के दौरान महिला की मौत, चिता में सर्जिकल ब्लेड मिलने पर हंगामा, अस्पताल का लाइसेंस सस्पेंड

ADVERTISEMENT

परिजनों ने मृतक महिला की चिता से फूल चुने तो उन को चिता की राख में एक सर्जिकल ब्लेड मिला। ब्लेड मिलने के बाद परिजनों ने अस्पताल पर आरोप लगाया कि सर्जिकल ब्लेड महिला के पेट में छोड़ दिया गया था जिसके चलते ही उसकी मौत हुई है।

social share
google news

मेरठ से उस्मान चौधरी की रिपोर्ट

Uttar Pradesh News: मेरठ में एक महिला की प्रसव ऑपरेशन के बाद मौत हो गई और उसका अंतिम संस्कार भी कर दिया गया। परिजनों ने आरोप लगाया कि जब वह महिला की चिता से फूल चुन रहे थे तो उनको चिता में एक सर्जिकल ब्लेड मिलाहै। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल की लापरवाही है जिस महिला की मौत हुई है सर्जिकल ब्लेड महिला के पेट में छोड़ दिया गया था। वहीं इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। परिजनों ने भी सीएमओ ऑफिस पर पहुंच कर सामाजिक संगठन के साथ धरना दिया।

मेरठ में इलाज के दौरान लापरवाही की हद

जिसके बाद मेरठ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने अस्पताल का लाइसेंस निलंबित कर जांच बैठा दी है। दरअसल ये घटना हस्तिनापुर थाना इलाके के गांव राठौरा खुर्द की है। यहां रहने वाले संदीप की पत्नी नवनीत कौर को 22 जून को मेरठ के कस्बा मवाना के जे के अस्पताल में प्रसव के लिए भर्ती कराया गया था। कहा जा रहा है कि सर्जरी के दौरान हालत बिगड़ने पर महिला को मेरठ के लिए रेफर कर दिया गया जहां उसकी मौत हो गई। जिसके बाद परिजनों ने महिला का अंतिम संस्कार कर दिया।

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

ऑपरेशन के दौरान मरीज के पेट में छोड़ा ब्लेड?

आरोप है कि जब परिजनों ने मृतक महिला की चिता से फूल चुने तो उन को चिता की राख में एक सर्जिकल ब्लेड मिला। ब्लेड मिलने के बाद परिजनों ने अस्पताल पर आरोप लगाया कि सर्जिकल ब्लेड महिला के पेट में छोड़ दिया गया था जिसके चलते ही उसकी मौत हुई है। इस घटना का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल है जिसमें परिजन चिता से फूल चुन रहे है और उन को ब्लेड मिलता है। हालांकि क्राइम तक इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है। परिजनों ने इसकी शिकायत मेरठ के सीएमओ से की है। परिजनों  ने अस्पताल को महिला की मौत का जिम्मेदार ठहराते हुए हंगामा किया था।

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...