दर्दनाक: मैनपुरी में बीमार छात्रा को अस्पताल से बाहर फेेंका, तड़प-तड़प कर मर गई बच्ची, शव भी बाहर फेंका, अस्पताल सील

ADVERTISEMENT

UP Shocking News: मैनपुरी में इलाज में लापरवाही बरतने के चलते एक नाबालिग छात्रा की मौत हो गई, शव को अस्पताल से बाहर फेंक दिया गया।

social share
google news

UP Shocking News: मैनपुरी में कथित तौर पर उपचार में लापरवाही बरतने के कारण एक नाबालिग छात्रा की मौत होने और उसके शव को अस्पताल से बाहर फेंकने के मामले को गंभीरता से लेते हुए संबंधित राधा स्वामी अस्पताल को ‘सील’ कर उसके लाइसेंस को रद्द कर दिया गया है। यह कार्रवाई स्‍वास्‍थ्‍य और चिकित्‍सा विभाग संभाल रहे राज्य के उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक के निर्देश पर की गयी। पाठक ने बृहस्पतिवार को सोशल मीडिया साइट ‘एक्स’ पर कहा, ‘‘राधा स्वामी अस्पताल, मैनपुरी में शव को बाइक पर रखने संबंधी मामले के संज्ञान में आते ही मुख्य चिकित्साधिकारी, मैनपुरी को इस संबंध में तत्काल कठोर कार्रवाई किये जाने के आदेश दिये गये हैं। इस संबंध में नोडल अधिकारी की प्राथमिक जांच की रिपोर्ट के क्रम में करहल रोड पर स्थित उक्त राधास्वामी अस्पताल को सील कर दिया गया है।’’

लापरवाही बरतने के कारण एक नाबालिग छात्रा की मौत

इसी पोस्ट में पाठक ने कहा, ‘‘अस्पताल प्रशासन को नोटिस जारी करते हुए उक्त अस्पताल में भर्ती अन्य मरीजों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, घिरोर में भर्ती करा दिया गया है एवं अस्पताल का लाइसेंस निलंबित करते हुए मामले की विस्तृत जांच के लिए अपर मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी (एसीएमओ) की अध्यक्षता में दो सदस्यीय समिति गठित कर दी गयी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मामले में मुख्य चिकित्साधिकारी से एक सप्ताह के अन्दर रिपोर्ट मांगी गयी है। अस्पताल का पंजीकरण रद्द करते हुए प्राथमिकी दर्ज कराये जाने की भी कार्रवाई की जायेगी। किसी भी दशा में ऐसी घटनाएं बर्दाश्त नहीं की जायेंगी। दोषियों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की जायेगी।’’

शव को अस्पताल से बाहर फेंका

मैनपुरी से मिली खबर के अनुसार, उपचार में लापरवाही के कारण बालिका की मौत के मामले में उप मुख्यमंत्री के आदेश पर राधा स्वामी अस्पताल को ‘सील’ कर दिया गया है और उसका पंजीकरण भी रद्द कर दिया गया है। घटना के संदर्भ में परिजनों से मिली जानकारी के अनुसार, घिरोर थाना क्षेत्र के ओय निवासी गिरीश चंद्र की पुत्री भारती (17) कक्षा 12वीं की छात्रा थी। मंगलवार को उसे तेज बुखार आया था। परिजनों ने उसे घिरोर के राधा स्वामी अस्पताल में भर्ती कराया और वहां उपचार शुरू हुआ। परिजनों के अनुसार, अस्पताल में इलाज में लापरवाही के कारण भारती की मौत हो गयी और अस्पताल संचालकों ने परिजनों को जानकारी दिये बिना भारती को निकालकर सड़क पर रख दिया।

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

दोषियों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की जायेगी

मृतका के चाचा प्रदीप कुमार ने आरोप लगाया कि राधास्वामी अस्पताल के डॉक्टरों ने गलत इलाज कर उसकी भतीजी की जान ले ली और फिर सड़क पर छोड़ भाग गये। इस घटना के बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो प्रसारित हुआ, जिसमें दो लोग छात्रा को मोटरसाइकिल पर रखते हुए दिख रहे हैं, जिसके बाद छात्रा बाइक पर ही लुढ़क जाती है। वीडियो में किसी की आवाज सुनाई देती है कि ‘‘तुमने पेशेंट को बाहर निकालकर डाल दिया’’। वीडियो में किसी को यह भी कहते सुना जा सकता है कि ‘‘रुको वीडियो बनाते हैं’’। इसके बाद वीडियो में एक महिला छात्रा को पकड़कर फफक फफक कर रोती हुई और ‘‘लल्ली-लल्ली’’ (बेटी-बेटी) कहते सुनी जा सकती है। 58 सेकेंड के इस वीडियो के आखिरी दृश्य में महिला के साथ एक पुरुष भी छात्रा के शव को बाइक से उतारते दिख रहा है।

योगी सरकार ने दिखाई सख्ती

मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी डॉक्टर आरसी गुप्ता ने बताया कि अस्पताल का पंजीकरण निरस्त कर उसे सील कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि कुछ मरीज भी वहां भर्ती थे, जिन्हें सामुदायिक स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र में भर्ती कराया गया है। उन्होंने कहा कि तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया गया है, जो तीन दिन में अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी। इस समिति में एसीएमओ संजूराव व डिप्टी सीएमओ अजय कुमार को शामिल किया गया है। घिरोर के थाना प्रभारी निरीक्षक गोलू सिंह भाटी ने 'पीटीआई-भाषा' को बताया कि मामले में मृतका के परिजनों की तरफ से अभी तक कोई तहरीर नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि तहरीर मिलते ही प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। इसके पहले अमेठी में इलाज में कथित लापरवाही के कारण एक महिला की मौत के बाद संजय गांधी अस्पताल के लाइसेंस को निलंबित कर दिया और फिर उसके बाद अमेठी जिले में ही एक और निजी अस्पताल का लाइसेंस निलंबित कर उसकी सारी सेवाओं पर रोक लगा दी गयी।

ADVERTISEMENT

शव बाहर फेंकने पर अस्पताल सील, रजिस्ट्रेशन रद्द

अमेठी जिले के मुसाफिरखाना में जनता अस्पताल में भर्ती एक महिला की प्रसव के दौरान मौत के मामले में अस्पताल के चिकित्सकों पर लापरवाही का आरोप लगने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को जनता अस्पताल का लाइसेंस निलंबित कर उसे ‘सीज’ कर दिया, यानी अस्पताल पर नोटिस चस्पा दिया गया है और अब यह प्रशासन के अधीन है तथा अस्पताल का कोई व्यक्ति इसमें गतिविधि नहीं कर सकता है। इससे पूर्व 17 सितंबर को जिले के संजय गांधी अस्पताल को 22 वर्षीय विवाहिता की मौत के बाद ‘सीज’ कर दिया गया था।

(PTI)

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...