Video: बेडरुम में लेडी टीचर की जली लाश, कत्ल से पहले दरवाजे पर लिखा कातिलों का पता, असली कातिल का राज़ खुला तो सन्न रह गई पुलिस

ADVERTISEMENT

Kanpur Murder: दरवाजे पर लिखा मौत का ये इकरारनामा देखकर पुलिस भी हैरान रह गई, पुलिस ने सबूत के तौर पूरा का पूरा दरवाजा उखाड़ लिया।

social share
google news

कानपुर से रंजय सिंह की रिपोर्ट

UP Murder News: यूपी के कानपुर से कत्ल का अजीबोगरीब मामला सामने आया है। बीती 9 जनवरी की तारीख थी। पुलिस को खबर मिली कि कानपुर के रायपुरवा के मकान में लेडी टीचर का कत्ल कर दिया गया है। ये कत्ल पेशे से टीचर अंजू वर्मा का था। कत्ल के बाद कातिल ने अंजू की लाश को आग के हवाले कर दिया था। मौका ए वारदात पर पहुंची पुलिस टीम ने बारीकी से क्राइम सीन को देखा तो पुलिस अफसरों की आंखे घर के दरवाजे पर जाकर टिक गईं। घर के दरवाजे पर सफेद चॉक से कुछ लिखा था। पुलिस ने करीब से देखा तो दरवाजे पर लिखा था कि:

मंजू की अगर अचानक मृत्यू हो जाती है तो इसके जिम्मेदार पड़ोसी होंगे सबूत के तौर पर ये नोट लिख रही हैं। मंजू 2/9/23  

दरवाजे पर लिखा मौत का ये इकरारनामा देखकर पुलिस भी हैरान रह गई। पुलिस ने सबूत के तौर पूरा का पूरा दरवाजा उखाड़ लिया और अपने साथ ले गई। दरवाजे पर हत्या का नोट लिखा हुआ था लिहाजा पुलिस ने कुछ पड़ोसियों को हिरासत में ले लिया। वो पड़ोसी जिनका मंजू से विवाद भी होता था। जब पकड़े गए लोगों से पूछताछ की गई तो माजरा कुछ और ही निकला। जांच में पता चला कि महिला का इसी इलाके के रहने वाले धर्मेंद्र नाम के लड़के से विवाद हुआ था। खास बात यह भी थी की हत्या के बाद से धर्मेंद्र अचानक गायब हो गया था।  

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

दरवाजे पर लिखा मौत का इकरारनामा 

इस दौरान पुलिस ने मोहल्ले मे जब और जांच की तो पता चला महिला का फोन गायब हो गया था उस फोन से आखिरी कॉल मोहल्ले के रहने वाले एक व्यक्ति को की गई थी। पुलिस ने जब उस शख्स से पूछताछ की तो उसने बताया कि ये कॉल उसे धर्मेंद्र ने की थी। धर्मेंद्र ने मंजू के पड़ोसी से पूछा था कि मंजू के केस में कोई पड़ोसी पकड़ा गया है या नहीं। सवाल ये था कि मंजू का फौन धर्मेंद्र के पास कहां से आ गया। यही वो सिरा था जिसने पुलिस को कातिल का पता दे दिया। धर्मेंद्र की तलाश शुरु हुई तो पता चला वह अपने भाई के पास भीलवाड़ा में मौजूद है।  आनन फानन में पुलिस की एक टीम भीलवाड़ा गई वहां से धर्मेंद्र को पूछताछ के लिए कानपुर ले आई।

प्रेमी का बेटा निकला टीचर का कातिल

यहां पूछताछ में धर्मेंद्र की हकीकत खुलती देर नहीं लगी। डीसीपी प्रमोद कुमार का कहना है कि उसने बताया कि मेरे पिताजी के अवैध संबंध टीचर मंजू से थे। धर्मेंद्र इस बात से नाराज था उसके पिता का संबंध टीचर मंजू वर्मा से था। पिता मंजू वर्मा पर काफी पैसा खर्च करते थे। धर्मेंद्र इस से नाराज रहता था। इधर जब उसने देखा की मंजू वर्मा ने अपनी हत्या के लिए दरवाजे पर पड़ोसियों के नाम लिखे हैं। तो उसने कत्ल का प्लान बनाया। प्लान ये था कि कत्ल वो करेगा और पड़ोसी फंस जाएंगे। प्लान के मुताबिक 9 जनवरी को रात में धर्मेंद्र ने जब देखा मंजू  का दरवाजा खुला है तो चुपचाप अंदर गया पहले उसने रजाई से दबाकर मंजू वर्मा का गला घोट दिया।  कत्ल के बाद वो रजाई में आग लगाकर मौके से फरार हो गया। 

ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT