दिल्ली में दो दोस्तों ने फिरौती के लिए दोस्त को किया अगवा, मांगी पिरौती, चाकू से गोदकर कर दी हत्या

ADVERTISEMENT

Delhi Crime News: दिल्ली के करावल नगर इलाके में दो लोगों ने अपने एक दोस्त को, उसके परिवार से दो लाख रुपये की फिरौती मांगने के लिए अगवा किया और फिर उसकी हत्या कर दी।

social share
google news

Delhi Crime News: उत्तर पूर्वी दिल्ली के करावल नगर इलाके में दो लोगों ने अपने एक दोस्त को, उसके परिवार से दो लाख रुपये की फिरौती मांगने के लिए अगवा किया और फिर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपियों ने 19 सितंबर को नितिन (22) को कथित रूप से चाकू मार दिया और अगली सुबह उसके परिवार से फिरौती की रकम मांगी। उन्होंने बताया कि जब आरोपियों को पता चला कि मामले में पुलिस जांच कर रही है तो वे फरार हो गए।

पहले की हत्या फिर मांगी फिरौती

पुलिस ने बताया कि मामले में एक आरोपी सचिन कुमार शर्मा (24) को राजस्थान के श्री गंगानगर से गिरफ्तार कर लिया गया। उन्होंने बताया कि अन्य आरोपी अरुण का अब तक पता नहीं चल पाया है। पुलिस ने कहा कि सचिन और नितिन दोनों नयी दिल्ली में करावल नगर में जौहरीपुर के निवासी हैं और पीड़ित शाहदरा में कपड़े की एक दुकान पर काम करता था। पीड़ित की बहन गीता चौधरी ने पुलिस को दी गई अपनी शिकायत में कहा कि 19 सितंबर को नितिन शाम करीब साढ़े पांच बजे घर से निकला था।

दो लाख रुपये की फिरौती के लिए मर्डर

शिकायत के अनुसार, अगले दिन सुबह करीब 10 बजकर 23 मिनट पर उसे एक संदेश मिला जिसमें कहा गया था कि उसके भाई का अपहरण कर लिया गया है और दो लाख रुपये दिए जाने पर ही उसे छोड़ा जाएगा। पुलिस उपायुक्त (उत्तर पूर्व) जॉय तिर्की ने कहा कि इसके तुरंत बाद फिरौती के लिए अपहरण का मामला दर्ज किया गया और जांच शुरू की गई। पुलिस ने पीड़ित के फोन कॉल रिकॉर्ड की जांच की और दो लोगों की संदिग्ध गतिविधि का पता चला लेकिन उनकी पहचान नहीं हो सकी। पुलिस ने बताया कि तकनीकी निगरानी की मदद से इनमें से एक आरोपी सचिन का पता लगा लिया गया और उसे राजस्थान के श्री गंगानगर से पकड़ लिया गया।

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

आरोपी राजस्थान के श्री गंगानगर से गिरफ्तार

उन्होंने बताया कि सचिन करावल नगर में बर्तन की एक दुकान में सेल्समैन का काम करता था और वह 2018 से नितिन को जानता था। सचिन के परिवार में उसकी पत्नी और दो महीने की बेटी है। डीसीपी ने बताया कि बेटी के जन्म के बाद से ही उसे आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था। दो साल पहले सचिन की मुलाकात सह-आरोपी अरुण से हुई थी। तिर्की ने बताया कि करीब 15 दिन पहले सचिन और अरुण ने नितिन को अगवा करने तथा उसके परिवार से दो लाख रुपये की फिरौती मांगने की साजिश रची।

शराब पीने के लिए बुलाया और अपहरण कर लिया

पुलिस ने बताया कि सचिन ने 19 सितंबर की शाम को नितिन को शराब पीने के लिए आमंत्रित किया। इस दौरान अरुण भी मौजूद था। अरुण और सचिन दोनों के पास चाकू थे। दोनों नितिन के करीबी दोस्त थे इसलिए उसे उन पर कोई संदेह नहीं हुआ। पुलिस के अनुसार, नितिन शाम करीब सवा छह बजे जौहरीपुर मेन रोड पर पहुंचा जहां सचिन और अरुण उसका इंतजार कर रहे थे। तीनों गाजियाबाद के बेहटा हाजीपुर रेलवे स्टेशन पहुंचे। डीसीपी ने कहा कि उन्होंने रेल की पटरियों के पास शराब पी और रात करीब नौ बजे सचिन ने कहा कि उन्हें अब घर लौटना चाहिए। 

ADVERTISEMENT

घने अंधेरे में रेलवे पटरियों के पास हत्या

रास्ते में लौटते समय घने अंधेरे में रेलवे पटरियों के पास सुनसान मार्ग पर सचिन और अरुण ने नितिन को पकड़ा और चाकू मारकर उसकी कथित तौर पर हत्या कर दी। तिर्की ने बताया कि उन्होंने शव को रेल पटरियों के पास झाड़ियों में कथित रूप से छिपा दिया और नितिन का मोबाइल लेकर घर लौट आए। अगले दिन सुबह करीब साढ़े 10 बजे दोनों ने गाजियाबाद के लोनी से नितिन के फोन से उसकी बहन को संदेश भेजा और फिरौती की मांग की। डीसीपी ने बताया कि जब आरोपियों को महसूस हुआ कि पुलिस मामले में जांच कर रही है तो उन्होंने दिल्ली छोड़ने का फैसला किया।

(PTI)

    यह भी देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT