धार्मिक स्थल टूटने से नाराज भीड़ ने कलेक्टर ऑफिस को लगाई आग, उग्र प्रदर्शन

ADVERTISEMENT

Chattisgarh: छत्तीसगढ़ के बलौदाबाजार (Baloda Bazar) में हजारों लोगों की भीड़ ने कलेक्टर ऑफिस को घेरा, ऑफिस में खड़ी गाड़ियों को किया आग के हवाले. सामने आई ये बड़ी वजह.

social share
google news

Chattisgarh: छत्तीसगढ़ के बलौदा बाजार (Baloda Bazar) में बड़ा हंगामा देखने को मिला. हजारों लोगों की भीड़ ने कलेक्टर ऑफिस (Collector office) को घेर लिया. कलेक्टर ऑफिस में खड़ी गाड़ियों को प्रदर्शनकारियों ने आग के हवाले कर दिया. इतना ही नहीं तहसील ऑफिस में भी खड़ी गाड़ियों को आग लगा दी गई. इस हादसे में पुलिस और प्रदर्शकारियों के बीच झड़प भी हुई. ये पूरा दंगा अमर गुफा में जैतखाम (Jaitkham) को तोड़ने को लेकर हुआ. मामला सतनामी समाज से जुड़ा है. इसी समाज के लोग अपने धार्मिक स्थल पर असमाजिक तत्वों द्वारा तोड़फोड़ को लेकर कलेक्टर ऑफिस प्रदर्शन करने पहुंचे थे. बताया जाता है कि प्रदर्शन के दौरान कुछ प्रदर्शनकारियों की पुलिसवालों से झड़प हो गई थी जिसके बाद हिंसा भड़क उठी। 

ये है पूरे बवाल की वजह 

गुस्साए प्रदर्शकारियों ने कलेक्टर परिसर और तहसील कार्यालय में आग लगा दी, कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. मौके पर पहुंची दमकल की गाड़ियों में भी तोड़फोड़ की गई. लगभग 3 दर्जन बाइक और 1 दर्जन गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया. दरअसल बलौदा बाजार के गिरौदपुरी के महकोनी गांव में संत अमरदास तपोभूमि को ये समाज अपना आराध्य मानता है. कुछ ही दिन पहले कुछ असमाजिक तत्वों ने सतनामी समाज के प्रतीक माने जाने वाले जैतखाम को नुकसान पहुंचाया था. इसके बाद से समाज के लोग गुस्से में थे. सतनामी समाज से जुड़े लोग तभी से आरोपियों की पहचान और गिरफ्तारी के लिये प्रदर्शन कर रहे थे. 

क्या है जैतखाम?

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 145 km दूर बाबा गुरू घासीदास की जन्मस्थली गिरौदपुरी में विशाल जैतखाम (धार्मिक स्तंभ) का निर्माण किया गया था. गिरौदपुरी का ये स्तंभ सतनामी समाज के लोगों का सबसे बड़ा धार्मिक स्थल है. यहां हर साल फागुल पंचमी पर तीन दिन का मेला लगता है. जैतखाम की ऊंचाई 77 मीटर बताई जाती है और इसे बनाने के लिए सात खंभों का इस्तेमाल किया गया है. 

ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT