पहाड़ी पर मिले तीन 'नरकंकाल' का Suspence गहराया, जमीन पर पड़ी थी महिला की लाश, पेड़ से लटके मिले दो पुरुष, पुलिस को इसलिए है हत्या का शक!

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

वेंकटेश द्विवेदी की रिपोर्ट

Madhya Pradesh Dead Bodies Found: मध्य प्रदेश का मैहर जिला यूं तो धार्मिक नगरी के नाम से मशहूर है। दूर दूर से लोग यहां शारदा मां के दर्शन के लिए आते हैं लेकिन पिछले दिनों यहां मंदिर के पास पहाड़ी के पीछे तीन नर कंकाल मिलने की घटना के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। नर कंकाल मिलने की सूचना पुलिस को मिल चुकी है लेकिन अभी तक ये सस्पेंस खत्म नहीं हुआ कि ये नर कंकाल पहाड़ी के पीछे कैसे पहुँचे। 

तंत्र-मंत्र या कुछ और?

रविवार को जब पुलिस नर कंकालों के मिलने की खबर का पीछा करते हुए मौके पर पहुँची तो उसके सामने यही सवाल था। ये नर कंकाल किसके हैं और इनकी मौत  कैसे हुई। ये तमाम सवाल पुलिस के मन में चल रहे थे। असल में मौका-ए-वारदात पर पुलिस को दिखा कि दो शव फंदे से लटके हुए थे, जबकि एक महिला का शव जमीन पर पड़ा मिला। पुलिस को ये बात समझ में नहीं आ रही है कि क्या ये इत्तेफाक है या फिर कोई साजिश कि कहीं न कहीं किसी को इन तीन लोगों की मौत के बारे में पता क्यों नहीं चला। 

ADVERTISEMENT

नर कंकाल के बदन पर सर्दी के कपड़े

शुरुआती तफ्तीश में पता चला है कि ये नर कंकाल पिछले कई हफ्तों या फिर कई महीनों से यहां इसी हाल में पड़े हुए हैं। असल में कंकालों पर जो कपड़े मिले वो सर्दी वाले थे। पुलिस ने फोरेंसिक टीम को बुलाया। देर रात से ही एफ एस एल की टीम भी जांच में जुट गई थी। पुलिस की शुरुआती तफ्तीश में ये अंदाजा लगाया जा रहा था कि तीनों की मौत फांसी के फंदे से लटकने से हुई। लेकिन ये खुदकुशी की घटना नहीं लगती। बकौल पुलिस मौका-ए-वारदात के आसपास छानबीन करने पर वहां उन्हें कुछ पूजा-पाठ की सामग्री भी मिली है।

मरने वालों की हुई पहचान

ऐसे में कई सवाल अचानक खड़े हो जाते हैं। कहीं इन तीन लोगों की मौत के पीछे तंत्र-मंत्र है या टोना टोटके का कोई मामला तो नहीं है। हालांकि पुलिस अभी साफ तौर पर कुछ नहीं कह पा रही है। पुलिस को मौके से इन लोगों का सामान मिला जिनकी इनकी पहचान मुमकिन हो सकी। मृतक महिला की पहचान छुटकी के तौर पर हुई है जबकि साथ में मरने वाले उसके दो बेटे बताए जा रहे हैं जिनके नाम दीपक और राजकुमार थे। छुटकी 55 साल की थी, जब कि उसके दोनों बच्चों की उम्र करीब 20 से 25 साल के बीच थी।

ADVERTISEMENT

पहाड़ी के पास कैसे पहुँचे

ये भी पता चला है कि मरने वाली छुटकी सीधी जिले की रहने वाली थी। लेकिन ये बात पुलिस की समझ में नहीं आ रही है कि सीधी जिले में रहने वाली छुटकी आखिर मैहर के पास पहाड़ी के पीछे कब और कैसे पहुँची। क्योंकि जिस इलाके में ये नरकंकाल मिले हैं वहां कोई भी आता जाता नहीं है। फिलहाल पुलिस अब हरेक पहलू से इस मामले को खंगालने में जुटी हुई है। 
 

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...