West Bengal Crime: TMC के दो गुट आपस में भिड़े, हाथापायी के दौरान एक पुलिसवाले को मार दी गोली

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

West Bengal Crime: दो के झगड़े में अक्सर तीसरे को ही नुकसान होता है। ऐसी ही एक वारदात पश्चिम बंगाल में देखने को मिली जब उत्तर 24 परगना (24 Pargana) में तृणमूल कांग्रेस के दो गुट (Two Group) आपस में भिड़ गए। उन दोनों गुटों को आपस में उलझता देखकर जब पुलिस (Police) के लोग उन्हें अलग अलग करके झगड़ा शांत कराने पहुँचे तो बात बहुत बिगड़ गई और देखते ही देखते गोली तक चल गई।

और गोली एक पुलिसवाले को लगी। जिस पुलिसवाले को गोली मारी गई है उसका नाम प्रभात सरकार बताया जा रहा है।

ये वाकया वशीरघाट इलाके में हुई। जहां टीएमसी के दो गुटों को बीच बात बातों की हद से निकलकर हाथा पायी तक जा पहुँची थी। इसी बीच पश्चिम बंगाल पुलिस के सिपाही प्रभात सरकार ने बीच बचाव करने की कोशिश की तो उन्हें भीड़ में किसी ने गोली मार दी।

ADVERTISEMENT

West Bengal Crime: प्रभात सरकार को बुरी तरह से घायल हालत में अस्पताल में दाखिल कराया गया। लेकिन इसी बीच इस मामले को लेकर पश्चिम बंगाल में सियासत तेज हो गई है।

बीजेपी नेता दिलीप घोष ने दो गुटों के झगड़े के दौरान पुलिसवाले को गोली मारे जाने की इस घटना पर ममता बनर्जी सरकार को आड़े हाथों लिया है। बीजेपी नेता का आरोप है कि समाज के सारे लुटेरे और बदमाश टीएमसी पार्टी में ही हैं।

ADVERTISEMENT

बीजेपी नेता का आरोप है कि ये सब कुछ चुनाव जीतने और चुनाव के लिए चंदा जमा करने के लिए हो रहा था। और उसी पैसे के बंटवारे को लेकर ही टीएमसी के दो गुट आपस में भिड़ रहे थे जिसमें नुकसान हुआ एक ग़रीब पुलिसवाले का।

ADVERTISEMENT

West Bengal Crime: बीती 8 सितंबर को पश्चिम बंगाल विधान सभा में विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी की हुगली ज़िले के तारकेश्वर में एक रैली थी। इस रैली का विरोध करने के लिए टीएमसी कार्यकर्ताओं ने काले झंडे दिखाए थे और नारेबाजी की थी।

टीएमसी के उस विरोध के बाद बीजेपी के कार्यकर्ताओं के साथ अच्छी खासी झड़प भी हुई थी। इसके बाद दोनों तरफ से पथराव की घटना हुई थी। उस घटना में भी कुछ पुलिसवालों को चोट लगी थी।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT