ऑपरेशन 41 सफल हुआ: राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राजनीतिक नेताओं ने सुरंग में फंसे श्रमिकों को बचाने के अभियान की सराहना की

ADVERTISEMENT

Rescue
Rescue
social share
google news

Uttarakhand News: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तराखंड की सिल्कयारा सुरंग में लगभग 17 दिन तक फंसे रहे 41 श्रमिकों को बचाने के सफल अभियान की सराहना करते हुए कहा कि यह हर किसी के लिए एक भावुक क्षण है।

मुर्मू ने कहा कि राष्ट्र श्रमिकों की सहनशक्ति को सलाम करता है और बड़े व्यक्तिगत जोखिम के बावजूद महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए उनका आभारी है।

उन्होंने ‘एक्स’ (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा, “मैं उन टीमों और सभी विशेषज्ञों को बधाई देती हूं जिन्होंने इतिहास के सबसे कठिन बचाव अभियानों में से एक को पूरा करने के लिए अविश्वसनीय धैर्य और दृढ़ संकल्प के साथ काम किया है।”

ADVERTISEMENT

श्रमिकों को सुरंग से बाहर निकाले जाने के तुरंत बाद, मोदी ने अभियान में शामिल लोगों की भावना को सलाम किया और कहा कि उनके साहस व संकल्प ने श्रमिकों एक नया जीवन दिया है।

मोदी ने ‘एक्स’ (पूर्व में ट्विटर) पर कहा, ‘‘मैं इस बचाव अभियान से जुड़े सभी लोगों के जज्बे को भी सलाम करता हूं। उनकी बहादुरी और संकल्प-शक्ति ने हमारे श्रमिक भाइयों को नया जीवन दिया है। इस मिशन में शामिल हर किसी ने मानवता और टीम वर्क की एक अद्भुत मिसाल कायम की है।’’

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा, ‘‘टनल (सुरंग) में जो साथी फंसे हुए थे, उनसे मैं कहना चाहता हूं कि आपका साहस और धैर्य हर किसी को प्रेरित कर रहा है। मैं आप सभी की कुशलता और उत्तम स्वास्थ्य की कामना करता हूं।’’

ADVERTISEMENT

मोदी ने कहा कि उत्तरकाशी में हमारे श्रमिक भाइयों के बचाव अभियान की सफलता हर किसी को भावुक कर देने वाली है।

उन्होंने लिखा, ‘‘यह अत्यंत संतोष की बात है कि लंबे इंतजार के बाद अब हमारे ये साथी अपने प्रियजनों से मिलेंगे। इन सभी के परिजनों ने भी इस चुनौतीपूर्ण समय में जिस संयम और साहस का परिचय दिया है, उसकी जितनी भी सराहना की जाए वो कम है।’’

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि यह देश के लिए बहुत अच्छी खबर है और वह इतने लंबे समय तक ऐसी चुनौतीपूर्ण स्थिति का सामना करने वाले श्रमिकों के धैर्य को सलाम करते हैं। उन्होंने श्रमिकों की जान बचाने के लिए अथक प्रयास करने वाले सभी लोगों और एजेंसियों के प्रति आभार व्यक्त किया।

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि वह सभी श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकालने पर 'राहत और खुशी' महसूस कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, 'यह कई एजेंसियों का एक समन्वित प्रयास था, जो हाल के वर्षों में सबसे महत्वपूर्ण बचाव अभियानों में से एक है। कई चुनौतियों का सामना करने के बावजूद विभिन्न विभाग और एजेंसियों ने एक दूसरे के साथ मिलकर काम किया।”

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा कि यह सभी के लिए बड़ी राहत और खुशी की बात है कि श्रमिकों को सुरंग से सुरक्षित बाहर निकाला गया है।

उन्होंने सरकार से श्रमिकों को शीघ्र स्वास्थ्य लाभ और उचित मुआवजा प्रदान करने का आग्रह किया और मांग की कि सभी निर्माणाधीन योजनाओं का सुरक्षा ऑडिट कराया जाए ताकि दोबारा ऐसी स्थिति उत्पन्न न हो।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने श्रमिकों की सुरक्षित वापसी पर खुशी जताई है।

उन्होंने ‘एक्स’ पर लिखा, “उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग में फंसे श्रमिक भाइयों की सुरक्षित वापसी बहुत ही खुशी का समाचार है। उन्हें और उनके परिवारों को मेरी दिली बधाई। भारत का निर्माण करने वाले हमारे मज़दूर भाइयों की सुरक्षा सर्वोपरि है। इस मुश्किल अभियान को सफल बनाने वाले सभी जांबाज़ों को मेरा सलाम है।”

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बचाव प्रयासों के दौरान निरंतर सहायता प्रदान करने के लिए मोदी को धन्यवाद देते हुए किसी भी श्रमिक की हालत गंभीर नहीं है, लेकिन घर भेजे जाने से पहले उन सभी को चिकित्सा निगरानी में रखा जाएगा।

उन्होंने कहा कि निकासी सबसे कम उम्र के श्रमिकों से शुरू हुई।

उन्होंने कहा कि वे सभी तंदरुस्त हैं और अपने आप रेंगते हुए मार्ग से बाहर निकले।

धामी ने यह भी कहा कि बचाए गए प्रत्येक श्रमिक को 1-1 लाख रुपये दिए जाएंगे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने श्रमिकों की जान बचाने में अपना अमूल्य योगदान देने वाले सभी लोगों का आभार व्यक्त किया।

उन्होंने ‘एक्स’ पर लिखा,“उत्तराखण्ड स्थित सिलक्यारा टनल में फंसे सभी श्रमिकों को सकुशल बाहर निकालने हेतु आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के मार्गदर्शन और मुख्यमंत्री श्री पुष्कर धामी जी के नेतृत्व में संचालित बचाव अभियान की सफलता पर सभी को बधाई एवं उत्तराखण्ड सरकार का अभिनंदन! श्रमिक भाइयों की प्राण रक्षा में अपना अमूल्य योगदान देने वाले हर व्यक्ति का धन्यवाद!”

असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने एक्स पर लिखा, “सिल्कयारा में सुरंग में फंसे 41 श्रमिकों को बचाने का अभियान सफलतापूर्वक समाप्त हो गया, जिसके साथ ही भारत ने राहत की सांस ली। पिछले 17 दिनों से पूरा देश उनकी सुरक्षित वापसी के लिए प्रार्थना कर रहा था। श्रमिकों ने उल्लेखनीय सहनशक्ति और साहस दिखाया।”

(PTI)

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...