सुभासपा नेता नंदिनी राजभर का मर्डर, बेडरुम में चाकू से गोदकर हत्या, गुमनाम कातिलों की तलाश में जुटी पुलिस

ADVERTISEMENT

जांच में जुटी पुलिस
जांच में जुटी पुलिस
social share
google news

UP Khalilabad Murder: खलीलाबाद का डीघा इलाका। यहां रहने वाली सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की नेता नंदिनी के घर दोपहर में सन्नाटा पसरा था। नंदिनी के पति शहर में काम करने गए थे और 7 साल का एकलौता बेटा भी खेलने गया था। शाम करीब चार बजे नंदिनी की सास आरती उनके बेडरुम में दाखिल होती हैं। कमरा अंदर से खुला हुआ था। बेडरुम में अंधेरा छाया था। कमरे की लाइट बुझी हुईं थीं। आरती ने दो तीन बार नंदिनी को आवाज़ दी लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। अभी आरती नंदिनी के बेड की तरफ बढ़ी हीं थीं कि उनका पैर किसी भारी चीज़ से जा टकराया। फर्श पर देखा तो नंदिनी बेसुध हालत में पड़ी थीं। कमरे का मंज़र देखकर सास आरती देवी के होश उड़ गए। आरती ने नंदिनी का सिर पकड़ कर उठाने की कोशिश की तो उनका हाथ खून से सन गया। 

घर में फर्श पर खून से लथपथ मिली लाश

आरती चीखती हुई नंदिनी के बेडरुम से बाहर निकलीं। चीख पुकार सुनकर आसपास गांव के लोग जमा हो गए। लोगों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने क्राइम टीम के साथ मौका मुआयना किया। जांच में पता चला कि नंदिनी का किसी धारदार हथियार से कत्ल किया गया था। गोरखपुर से सटे खलीलाबाद में लोकसभा चुनाव से पहले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी की नेता की हत्या ने सनसनी मचा दी। कोतवाली इलाके के डीघा गांव में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी नेता नंदिनी राजभर की घर में खून से लथपथ लाश मिली तो पूरे इलाके के लोग सड़को पर उतर आए। पुलिस के बड़े अफसरों ने समझा बुझाकर लोगों का गुस्सा शांत कराया। आश्वासवन दिया गया कि जल्द आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा। 

29 फरवरी को हुई नंदिनी के रिश्तेदार की हत्या

आपको बता दें कि 30 साल की नंदिनी की शादी अच्छेलाल से हुई थी। नंदिनी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) की महिला शाखा की प्रदेश महासचिव थीं। नंदिनी के परिजनों ने पुलिस को बताया कि रविवार दोपहर वह स्टेडियम में आरएसएस के एक कार्यक्रम में गईं थीं। दोपहर करीब दो बजे वो कार्यक्रम खत्म होने के बाद घर पहुंची थीं और सीधे अपने बेडरुम में चली गईं थीं। घरवालों का कहना है कि कुछ दिनों से नंदिनी को धमकी मिली रही थी। इससे वह तनाव में थीं। दरअसल 29 फरवरी को नंदिनी के रिश्ते के ससुर की भी जमीनी विवाद में हत्या कर दी गई थी। जिसे बाद में आत्महत्या का रूप दे दिया गया था। परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए नंदिनी कानूनी लड़ाई लड़ रही थीं। बताया जा रहा है कि नंदिनी को इसके लिए धमकियां भी मिल रही थीं।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT