चाकू से रेतकर बच्चों की ले ली जान,पुलिस ने ऐसे सुलझाई मौत की गुत्थी

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

UP का मेरठ जिला यहां पर एक दिल दहला देने वाले वारदात को अंजाम दिया गया है. दरअसल किठौर थाना क्षेत्र के फतेहपुर गांव के रहने वाले दो बच्चों का कत्ल बेहद निर्मम तरीके से कर दिया गया जिसके बाद से पूरे इलाके में दहशत का माहौल है.

दोनों 28 अगस्त की शाम से ही लापता थे. सुबह जंगल में खून से लथपथ उनकी लाश मिली. फौरन पुलिस को जानकारी दी गई. मौके पर पहुंच कर पुलिस ने दोनों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया और केस की जांच शुरू की और कुछ दिनों के बाद ही इस सनसनीखेज हत्याकांड से पर्दा उठा दिया.

दिल दहला देने वाले इस डबल मर्डर केस के मामले में पुलिस ने गुरुवार यानी की 9 सितम्बर को दो आरोपियों को गिरफ्तार करते हुए मामले का खुलासा कर दिया.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

एसएसपी प्रभाकर चौधरी और एसपी देहात केशव कुमार ने बताया कि 28 अगस्त को कस्बा शाहजहांपुर निवासी ई-रिक्शा चालक सादिक पुत्र आलम और उसका दोस्त अमन संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गए थे.

अगली सुबह दोनों की लाश फतेहपुर नारायण के जंगल में आम के बाग से बरामद हुए थे. दोनों की हत्या की गई थी और उनका ई-रिक्शा भी गायब था. जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया है.

ADVERTISEMENT

इंस्पेक्टर अरविंद मोहन शर्मा और मनीष बिष्ट के नेतृत्व में दो टीमें मामले की छानबीन के लिए लगाई गई. पुलिस ने गांव में जांच शुरू की और सर्विलांस टीम ने घटनास्थल के आसपास लगे करीब 60 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली.

ADVERTISEMENT

पुलिस ने फुटेज के आधार पर मुख्य आरोपी जाहिद पुत्र हसनैन निवासी गांव नित्यानंदपुर किठौर और उसके साथी शौकीन पुत्र शहादत निवासी पिपलौती थाना हसनपुर जनपद अमरोहा को गिरफ्तार किया. लूटा गया ई-रिक्शा और जिस चाकू से हत्या की गई थी उसे भी भी बरामद कर लिया गया है.

ई-रिक्शा लूटना था मकसद

एसएसपी ने बताया कि ई-रिक्शा लूटने के लिए जाहिद ने दोनों बच्चों की जान ली थी. आरोपी ने शौकीन को ई-रिक्शा दिलाने की बात कहकर 50 हजार रुपये कर्ज लिया था. उसके बाद उसने 28 अगस्त की शाम ई-रिक्शा लूटने की योजना तैयार की खेत में खाद ले जाने के बहाने उसने सादिक का ई-रिक्शा रुकवाया.

खाद के दो कट्टे लादकर वो उन्हें जंगल में ले गया. अपनी ट्यूबवेल से दूर ई-रिक्शा रुकवा लिया. पहले सादिक को वह नलकूप की मोटर उठाने के बहाने जंगल में ले गया और उसकी गला दबाकर व चाकू से रेतकर हत्या कर दी. अमन को भी इसी तरह मौत की नींद सुला दिया गया और उनका ई-रिक्शा लूट लिया.

सीसीटीवी कैमरे से खुला राज

पुलिस सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही थी तो एक आदमी दोनों बच्चों के साथ जाता दिखा. कई जगह सीसीटीवी कैमरे में वो शख्स बच्चों के साथ कैप्चर हुआ. वारदात को अंजाम देने के बाद बेहद ही शातिराना तरीके से जाहिद ने ई-रिक्शा शौकीन को दे दिया.

शौकीन ने बैटरी अपने घर में रख ली और ई-रिक्शा को एक जगह छोड़ दिया. पुलिस की पूछताछ में आरोपी ने बताया की बच्चे हमें यानी की जाहिद को पहचानते थे. इसलिए उनको मारना पड़ा.

आरोपीयों ने पुलिस को ये भी बताया कि बच्चों अपने गंदे इरादों का शिकार बनाने से पहले उसने भोला नाम के ई-रिक्शा चालक को रोका, लेकिन उसने जंगल में जाने से साफ इनकार कर दिया. जिसके बाद इन दोनों बच्चों को रोका और 150 रुपये में भाड़ा दिया. उसका मकसद केवल ई-रिक्शा लूटना था, लेकिन दोनों बच्चे उसे पहचानते थे, जिसके चलते उनकी हत्या कर दी.

सादिक और अमन के आरोपी को पकड़े जाने की खबर जब लोगों को पता चली तो लोग थाने पहुंच कर पुलिस से आरोपी को बाहर निकालने की मांग करने लगे और खूब हंगामा किया. किशोरों की मां और परिजन हत्यारोपी को कोस रहे थे. पुलिस के समझाने पर परिजन शांत हुए.

आपको बता दें कि सादिक का पिता मजदूरी करते हैं, जबकि अमन का पिता गैस एजेंसी पर काम करते हैं. अमन का एक दूसरा भाई है, जो बीमार रहता है. लोगों के गुस्से को देखते हुए शाहजहांपुर में भी पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT