नानी अपनी पूरी प्रॉपर्टी उसके नाम न कर दे इसलिए मौसा और मौसी ने ले ली जान

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

दिल्ली के राजौरी गार्डन यहां पर हत्या का एक सनसनीखेज़ मामला सामने आया है। जिसे सुन कर रिश्तों पर से आपका भरोसा उठ जाएगा। यहां पर महज 2 साल के बच्चे की जान उसके मौसा और मौसी ने ले ली क्यों कि उनको ये डर था कि कहीं उसकी नानी अपनी पूरी प्रॉपर्टी उसके नाम न कर दे।पुलिस ने 2 साल के इस बच्चे की मर्डर मिस्ट्री को महज़ 27 घंटे में सुलझा लिया।

पुलिस ने इस हत्या के आरोप में एक महिला सहित दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपीयों से पूछताछ की। उसके बाद जो सच सामने आया उससे पुलिस भी चौंक गई। पुलिस ने बताया कि आरोपी मृत बच्चे के मौसी और मौसा है। आरोपी महिला यमुना और उसकी बहन राजौरी गार्डन मेट्रो स्टेशन के पास रहते हैं।

यमुना की बहन को 2 साल का बेटा था वहीं यमुना के पास 6 साल की बेटी थी। आरोपी महिला को ये लगता था कि घर की मालकिन यानी उसकी मां, उसकी बहन के बेटे को ज्यादा प्यार करती है। महिला को ये भी लगता था कि उसकी बेटी को अपनी नानी से प्यार नहीं मिलता था।

ADVERTISEMENT

पुलिस ने बताया कि आरोपी महिला के मन में ये डर घर कर गया था कि जब ये लड़का बड़ा होगा तो कहीं घर की मुखिया यानी यमुना की मां, यमुना उसके पति और उसकी बेटी को घर से निकाल ना दें।

इसके अलावा दोनों बहनों में आस पास भीख मांगने के एरिया को लेकर भी काफी झगड़ा होता रहता था। केस की पड़ताल में एक बात यह भी सामने आई है कि पीड़िता की गोद में छोटा बच्चा होने की वजह से उसे आरोपी महिला से ज्यादा पैसे मिलते थे।

ADVERTISEMENT

यही कत्ल की वजह बन गई।यमुना इस बात से भी चिढ़ी रहती थी। इन्हीं गलतफहमियों के चलते उसने अपने भांजे को अपने पति और उसके एक साथी के साथ मिलकर किडनैप कर लिया और गला दबाकर उसकी जान ले ली।

ADVERTISEMENT

हत्या के बाद बच्चे के शव को पंजाबी बाग इलाके के गंदा नाला में फेंक दिया। बच्चे की मां ने हर जगह अपने बच्चे की तलाश की जब उसे बच्चे का कहीं पता नहीं चला तो थकहारकर उसने पुलिस में केस दर्ज कराया जिसके बाद पुलिस की एक टीम जांच में जुट गई और आसपास के सीसीटीवी फुटेज को खंगाला तब उनको आरोपी गंदा नाला की ओर जाते हए सीसीटीवी में दिखे।

तब पुलिस ने बच्चे की डेड बॉडी को ढूंढना शुरु किया । उस नाले में बच्चे की लाश को खोजना आसान काम नहीं था। इसके लिए पुलिस ने फ्लड विभाग के 32 वर्करों की मदद ली, वहीं लगभग 90 सिविलियंस से भी मदद मांगी।

बच्चे के शव को ढूंढने के लिए 5 नावों को गंदा नाला में उतारा गया। आखिरकार पुलिस को कड़ी मशक्कत के बाद बच्चे की लाश मिल गई। फिलहाल पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है जबकि एक आरोपी अभी भी फरार है।पुलिस उसकी तलाश में जुटी है।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT