बिहार पहुंचा 'तालिबान'?

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

पहले उसके कपड़े उतारकर नंगा किया गया, फिर हाथ पांव बांधकर जैसे तैसे उसके बाल काटे गए, उसके बाद गाय खूंटे से बांध कर कई घंटे कड़ी धूप में भी रखा गया, फिर लोगों ने जमकर पिटाई की और आखिर में उसे मरने के लिए उसी हाल में छोड़कर चले गए। और ऊपर से रंगबाज़ी का आलम ये था कि इन सब का वीडियो भी बनाया गया और उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया गया।

आरोपी युवक ने छेड़छाड़ की थी, यकीनन ये गंदा काम था और इसकी सज़ा मिलनी ही मिलनी चाहिए। लेकिन सज़ा कौन देगा? अगर लोग ही सज़ा देने लगें तो कोर्ट कचेहरी और पुलिस थानों में ताले लगा देने का वक्त आ गया है। आप सोच रहे होंगे कि जब ये सब चल रहा था तो पुलिस कहां था? थी ना, बस थोड़ा लेट हो गई। हिंदी फिल्मों की तरह। बाद में पहुंची तो गनीमत रही कि जांच के आदेश दे दिया।

ये सब हुआ बिहार के दरभंगा ज़िले में, जांच की गई तो उसमें युवक की पिटाई करनेवालों छह लोगों की पहचान हो गई और उनके खिलाफ नामजद प्राथमिकी भी दर्ज कर दी गई। कुशेश्वरस्थान इलाके के गोरा गांव मे बीती रात एक युवक पर चोरी और छेड़खानी का आरोप लगा कर कुछ लोगो ने उसे ये तालिबानी सज़ा दी। जमकर लात घूसों के साथ लाठी डंडे से पिटाई की गई, इतने पर भी जी नहीं भरा तो युवक के बाल के साथ साथ कान भी काट दिया गया।

ADVERTISEMENT

मार खाते खाते युवक बुरी तरह जख्मी हो गया, लेकिन पिटाई कर रहे किसी शख्स को उसपर रहम नही आया, बात इतने पर ही नही रुकी बल्कि रात बीतने के बाद सुबह कड़ी धूप में युवक को गाय बांधने वाले खूंटे से बांध कई घंटे रखा गया। पिटाई का वीडियो वायरल हुआ तो दरभंगा के एसएसपी बाबू राम ने इसकी जांच के आदेश दिए। पुलिस ने बंधक बनाए गए युवक को आजाद कराया और इलाज़ के लिए अस्पताल भी पहुंचाया। फिलहाल पूरे मामले में आरोपियों की तलाश की जा रही है।

पिटाई खाने वाले युवक की पहचान राजा शर्मा के रूप में हुई है, बताया जाता है कि राजा शर्मा झोला छाप डॉक्टर है और लोगो का शुरुआती इलाज़ करता है, लोग उन्हें डॉक्टर साहब के नाम से भी जानते है। जानकारी के मुताबिक गांव के ही एक नाबालिग लड़की से डाक्टर साहब को प्यार हो गया दोनो अक्सर छुपते छुपाते एक दूसरे से मिला भी करते थे। लेकिन इस बार नाबालिग लड़की जब डॉक्टर से मिलने उसके क्लिनिक पर पहुंची, पीछे से कुछ लोग भी आ धमके इसके बाद ही लड़की से छेड़खानी के आरोप के बाद पिटाई सुरु कर दी गई।

ADVERTISEMENT

हालांकि बदनामी को छुपाने के लिए बाद में डॉक्टर साहब पर चोरी का इलाज़म लगा दिया गया । हलाकि अब तक डॉक्टर के खिलाफ पुलिस में शिकायत करने कोई नही पहुचा है । पुलिस प्रेम प्रसंग के एंगल से भी इस मामले की जांच कर रही है। मगर सवाल ये है कि अगर युवक ने कोई गलत काम भी किया था तो लोगो ने कानून अपने हाथ मे लेने के बजाय पुलिस से मदद क्यों नहीं मांगी?

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...