Sheena Bora की खोई हड्डियां CBI को मिलीं, अदालत के पास आया गुमनाम ख़त, हुआ बड़ा खुलासा

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

न्यूज़ हाइलाइट्स

point

शीना बोरा की खोई हड्डियां मिलीं

point

अदालत को पहले मिला खत, फिर मिली हड्डियां

point

शीना बोरा मर्डर केस में बड़ा खुलासा

Sheena Bora Murder Case: शीना बोरा की हड्डियां कभी खो जाती है तो कभी मिल जाती है। फिलहाल वो हड्डियां मिल गई हैं। ये जानकारी कोर्ट में सरकारी वकील ने दी। बुधवार को मामले की सुनवाई हुई। सीबीआई ने कोर्ट को बताया कि शीना बोरा की कथित हड्डियां और अवशेष उनके दिल्ली स्थित दफ्तर में हैं। हालांकि ये समझ से परे है कि पहले सीबीआई ने कोर्ट में ही कहा था कि हड्डियां खो गई है।

जब से ये मामला मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ है, तब से ही इस केस में कुछ न कुछ चौंकाने वाला हो रहा है। शीना की हत्या हुई, इसका पता कई सालों बाद चला। शीना के अवशेष मिले, उनकी फोरेंसिक जांच हुई, तब साफ हुआ कि दरअसल मरने वाली शीना बोरा ही थी। इसके बाद इस केस में उसी की मां इंद्राणी का नाम सामने आ गया। 

फिर पुलिस ने इंद्राणी के साथ-साथ उसके पति पीटर मुखर्जी को भी अरेस्ट कर लिया। मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर राकेश मारिया का आरोपी को बचाने को लेकर नाम उछला। इसके बाद उस वक्त इस केस में नाटकीय मोड़ आ गया, जब खुद इंद्राणी ने कहा कि उसने शीना को जिंदा देखा है। इसके बाद अब शीना की हड्डिया खो गईं और फिर मिल भी गईं। 

ADVERTISEMENT

अब सीबीआई ने बुधवार को विशेष सीबीआई अदालत को बताया कि उन्हें वे हड्डियां मिल गई हैं। पिछली सुनवाई के दौरान फोरेंसिक विशेषज्ञ डॉ. ज़ेबा खान गवाह के तौर पर कठघरे में खड़ी थीं। ज़ेबा खान ने शुरुआत में 2012 में हड्डियों की जांच की थी और ये कहा था कि ये मानव अवशेष थे। तब सरकारी वकील सीजे नंदोडे ने कहा था कि हड्डियां गायब हो गई हैं।

बुधवार को जब शीना बोरा हत्याकांड की सुनवाई शुरू हुई, तब सरकारी वकील ने कहा कि शीना की हड्डियां मिल गई हैं। ये सुन कर सभी हैरान रह गए, लेकिन साथ में सीबीआई के वकील ने एक अजीबोगरीब दलील दी। उन्होंने कहा कि अब सबूत भरोसा करने लायक नहीं हैं, लेकिन सीबीआई ने आखिर ऐसा क्यों कहा? ये बात समझ से परे हैं।

ADVERTISEMENT

फोरेंसिक एक्पर्ट ज़ेबा के भाई ने किया बड़ा खुलासा, फिर अचानक मिल गई हड्डियां!

इससे पहले सीबीआई के जज ने भी बड़ा खुलासा किया। विशेष सीबीआई जज एसपी नाइक निंबालकर ने बताया कि फोरेंसिक एक्सपर्ट जेबा खान का भाई होने का दावा करने वाले एक व्यक्ति ने एक ईमेल और एक हार्ड कॉपी भेजी थी। ईमेल में आरोप लगाया गया था कि खान ने विदेश में संपत्तियां खरीदी हैं और आरोपियों के साथ मिलीभगत के कारण उनका बैंक बैलेंस भी बढ़ गया है। शिकायत में आरोप लगाया गया था कि सबूतों के अचानक गायब होने के पीछे जेबा खान का हाथ हो सकता है। आरोपी इंद्राणी मुखर्जी के वकील रंजीत सांगले, पीटर मुखर्जी के वकील मंजुला राव और संजीव खन्ना के वकील श्रेयांश मिठारे ने तुरंत सहमति जताई और जांच की मांग की। कोर्ट ने इन आरोपों पर सीबीआई से जवाब मांगा है।

ADVERTISEMENT

क्या है शीना बोरा मर्डर केस? 

सीबीआई का आरोप है कि शीना बोरा की 2012 में उसकी मां इंद्राणी मुखर्जी, उसके पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्यामवर राय ने गला दबा कर हत्या कर दी थी। उसके बाद शव को पेन गांव ले जाया गया और जला दिया गया। 2012 में पेन पुलिस ने शीना के बरामद अवशेषों को जांच के लिए जेजे अस्पताल भेजा गया था। मामला 2015 तक अनसुलझा रहा जब राय की गिरफ्तारी से इस हत्याकांड का खुलासा हुआ। 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...