रिटायर्ड IAS की पत्नी की हत्या में उनके दो ड्राइवरों समेत तीन आरोपी गिरफ्तार, एक आरोपी का एनकाउंटर

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

संतोष शर्मा के साथ चिराग गोठी की रिपोर्ट

Lucknow: लखनऊ में Retd IAS की पत्नी की हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। इस सिलसिले में पुलिस ने रिटायर्ड आईएएस देवेंद्र नाथ दुबे के दोनों ड्राइवरों समेत 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। तीनों ने प्लानिंग के तहत लूट के मकसद से इस घटना को अंजाम दिया था। जब रिटायर्ड आईएएस की पत्नी ने विरोध किया तो उनका मर्डर कर दिया गया। मंगलवार दोपहर पुलिस ने एक मुठभेड़ के बाद आरोपी अखिलेश को गाजीपुर थाना क्षेत्र के कल्याण अपार्टमेंट के पीछे से गिरफ्तार कर लिया। इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों के नाम रवि, अखिलेश और रंजीत हैं। रवि और अखिलेश भाई है। दोनों बतौर ड्राइवर पिछले 13 साल से देवेंद्र नाथ दुबे के यहां काम कर रहे थे।

हत्या के बाद फिर घर पहुंचा आरोपी, उठवाई मृतका की लाश

पुलिस के मुताबिक शनिवार को हुई हत्या के बाद रवि और अखिलेश परिवार के साथ सहानुभूति दिखाते रहे और मौके पर ही मौजूद रहे। यहां तक कि घटना के बाद जब पुलिस मौका-ए-वारदात पर तफ्तीश के लिये पहुंची वो तब भी वहीं थे। यहां तक कि ड्राइवर अखिलेश ने मोहिनी दुबे की लाश उठवा कर गाड़ी पर रखने में भी परिवार की मदद की। पुलिस की तफ्तीश में पता चला कि हत्या के बाद अखिलेश घर चला गया था जबकि देवेंद्र दुबे ड्राइवर रवि के साथ घर लौटे और फिर रवि ने ही अखिलेश को कत्ल के बार में खबर करने का नाटक किया। अखिलेश भी वापस घर आकर दुखी होने का नाटक करता रहा। जबकि ड्राइवर रवि इस केस का मास्टर माइंड था। उसने अपने साथ दूसरे ड्राइवर अखिलेश और उसके दोस्त रंजीत को मिला लिया था।

ADVERTISEMENT

जब गोल्फ खेलने गए थे रिटायर्ड आईएएस, तभी हुआ था वाकया

रिटायर्ड आईएएस देवेंद्र नाथ दुबे के घर पर पत्नी की हत्या के बाद लाखों की ज्वेलरी लूट ली गई थी। आरोपी घर में रखे लॉकर से तकरीबन 50 लाख की ज्वेलरी ले गए थे। पुलिस के मुताबिक वारदात वाली सुबह आरोपी रवि पहले रिटायर्ड आईएएस देवेंद्र नाथ दुबे को गोल्फ क्लब गाड़ी ड्राइव कर ले गया था। ऐसा उसने एक साजिश के तहत किया था। मौका पाकर दूसरा ड्राइवर अखिलेश अपने साथी रंजीत के साथ घर में घुस गया और वारदात को अंजाम दिया। अखिलेश को देखकर ही मोहनी दुबे ने घर का गेट खोला था जिसके बाद अखिलेश ने गला घोंटकर मोहिनी दुबे की हत्या कर दी। हत्याकांड की जांच में जुटी पुलिस को सीसीटीवी में एक नीले बैग के साथ स्कूटी पर हत्यारोपी दिखाई पड़ा था। यही नीला बैग मुठभेड़ में जख्मी हुए अखिलेश के पास से बरामद हुआ है। 

कैसे और कब हुई थी वारदात?

देवेंद्र दुबे की पत्नी का शव किचन और स्टोर रूम के पास मिला था। बदमाश अपने साथ घर में लगे CCTV का डीवीआर भी ले गए थे ताकि उनके खिलाफ कोई सबूत पुलिस को न मिल पाए। एक महीने पहले ही देवेंद्रनाथ दुबे ने मोहिनी दुबे के नाम पर खरीदे गए गोमती नगर की एलडीए सोसाइटी में एक फ्लैट को 90 लाख रुपए में बेचा था। इस फ्लैट को बेचने के बाद देवेंद्रनाथ दुबे दूसरा फ्लैट गोमती नगर विस्तार की एक प्राइवेट सोसाइटी में खरीदने वाले थे। आरोपियों ने इसी कैश पर हाथ साफ करने के लिये लूट की प्लानिंग की थी। हालांकि घर में कैश तो बरामद नहीं हुआ पर आरोपी सेफ में रखे जेवरात लेकर फरार हो गए। बाद में उनके कब्जे से पुलिस ने जेवरात भी बरामद कर लिये।
 

ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT