Ram Rahim Latest News : हरियाणा सरकार ने राम रहीम को 21 दिन की फरलो मंजूर की, आएंगे जेल से बाहर

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

सत्येंद्र चौहान की रिपोर्ट

Ram Rahim News : डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम से बड़ी खबर सामने आई है. हरियाणा सरकार ने राम रहीम को 21 दिन की फरलो (21 day furlough) दी है. इस तरह फरलो में सजायफ्ता बंदियों को छुट्टी मिलती है.

जिसमें राम रहीम तय समय में घर जा सकते हैं. बता दें कि राम रहीम इस समय रोहतक की सुनारिया जेल में बंद हैं. इन्हें रेप और हत्या का दोषी पाया गया है. इसमें आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं.

ADVERTISEMENT

इससे पहले, भी राम रहीम कई तरह से जमानत पाने के लिए कई बार अपील कर चुके हैं. जमानत नहीं मिलने पर वो जेल से अपने अनुवायियों के लिए लेटर लिखा करते हैं.

क्या है फरलो और परोल में अंतर (What is parole and furlough)

ADVERTISEMENT

हाल में सुप्रीम कोर्ट ने फरलो (furlough) और परोल (parole) के अंतर के बारे में बताया था. सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक, फरलो और परोल वैसे तो दोनों में कुछ समय के लिए किसी सजायफ्ता कैदी को अस्थायी तौर पर रिहाई मिलती है.

ADVERTISEMENT

परोल तब दी जाती है जब कैदी को एक खास और जरूरी आवश्यकता होती है. लेकिन जब बिना किसी कारण के निर्धारित वर्षों की जेल के बाद फरलो दी जा सकती है.

फरलो देना इसलिए होता है क्योंकि जेल में नीरस जीवन बीता रहे कैदी को कुछ समय के लिए अपनों के बीच जाने का मौका मिलता है. इस बारे में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि फरलो जेल की नीरसता को तोड़ने और अपराधी को पारिवारिक जीवन और समाज के साथ फिर से कुछ समय के लिए घुलमिलकर सक्षम बनाने के लिए दी जाती है.

बिना किसी कारण के भी फरलो की मांग की जा सकती है. हालांकि कैदी के पास फरलो का दावा करने के लिए पूर्ण कानूनी अधिकार नहीं है. फरलो की मांग को मना भी किया जा सकता है.

रणजीत मर्डर केस में भी बाबा हैं दोषी

Dera Sacha chief Gurmeet Ram Rahim Singh : बता दें कि इससे पहले, रणजीत मर्डर केस में भी राम रहीम को दोषी करार दिया गया था. 10 जुलाई 2002 को डेरे की प्रबंधन समिति के सदस्य रहे कुरुक्षेत्र के रणजीत सिंह का मर्डर हुआ था। डेरा प्रबंधन को शक था कि रणजीत सिंह ने साध्वी यौन शोषण की गुमनाम चिट्ठी अपनी बहन से ही लिखवाई थी।

पुलिस जांच से असंतुष्ट रणजीत के पिता ने जनवरी 2003 में हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सीबीआई जांच की मांग की थी। सीबीआई ने मामले की जांच करते हुए आरोपियों पर केस दर्ज किया था। 2007 में कोर्ट ने आरोपियों पर चार्ज फ्रेम किए थे।

बाबा किन मामलों में जेल के अंदर हैं?

गुरमीत राम रहीम को साध्वियों से यौन शोषण के मामले में पहले ही 20 साल की सजा हो चुकी है और पत्रकार रामचंद्र छत्रपति हत्याकांड में वह उम्रकैद की सजा सुनारिया जेल में काट रहा है। राम रहीम को इससे पहले सीबीआई जज रहे जगदीप सिंह ने सजा सुनाई थी। जगदीप का इसी साल ट्रांसफर हो गया था। उनकी जगह चंडीगढ़ में सीबीआई जज रहे डॉ. सुशील गर्ग को पंचकूला सीबीआई विशेष अदालत में नियुक्त किया गया है।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT