Pune Hit and Run Case: 600 करोड़ की दौलत के मालिक विशाल अग्रवाल का बड़ा बेटा भी कर चुका ऐसा एक्सीडेंट

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Pune: पुणे का पोर्श कांड यानी 18 और 19 मई की दरम्यानी रात को हिट एंड रन केस में बिल्डर विशाल अग्रवाल के 17 साल के लड़के ने अपनी स्पोर्ट्स कार से दो इंजीनियरों को रौंद दिया था। इस हादसे में कार की चपेट में आए दोनों पीड़ितों की मौत हो गई, मगर हादसे में हुई इस मौत की घटना के बावजूद महज 15 घंटे के अंदर ही नाबालिग को कोर्ट से शर्तों के साथ जमानत दे दी गई। 

सोशल मीडिया पर खड़ा हुआ तूफान

लेकिन इस घटना के खुलासे और नाबालिग को मिली जमानत के बाद तो जैसे सोशल मीडिया पर तूफान खड़ा हो गया। हर कोई एक ही सवाल पूछ रहा था कि 17 साल आठ महीने का लड़का शराब के नशे में 150 से 200 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से कार उड़ाता है और दो लोगों की जान ले लेता है  इसके बावजूद इसके उसे जमानत मिल जाती है। सोशल मीडिया पर इस घटना को लेकर तरह तरह के सवाल खड़े किए जाने लगे। खासतौर पर नाबालिग के पिता विशाल अग्रवाल और उनके बेशुमार दौलत को लेकर। हर तरफ यही कहा जा रहा है कि बिल्डर पिता के रसूख ने एक दो करोड़ की कार के पहियों तले कानून को रौंद दिया है। 

विशाल का बड़ा बेटा भी कर चुका ऐसा गुनाह

इस बीच आरोपी के परिवार के बारे में भी कई बातें सामने आई। खुलासा हुआ है कि करोड़ों रुपये की स्पोर्ट्स कार से दो नौजवानों को रसूख के पहियों तले कुचलने वाला कोई आम बिल्डर का बेटा नहीं है, बल्कि शहर में पांच सितारा होटल जैसे बड़े प्रॉजेक्ट और बिल्डिंग निर्माण करने वाली कंपनी के मालिक का बिगड़ा रईसजादा है। खुलासा यही है कि आरोपी का बड़ा बेटा भी ऐसे गुनाह कर चुका है। तेज रफ्तार कार चलाकर उसका भी एक्सीडेंट हुआ था। उस वक़्त विशाल अग्रवाल के बड़े बेटे ने वडगांव शेरी इलाके में ब्रह्मा मल्टी स्पेस बिल्डिंग के सामने तेज रफ्तार से गाड़ी चलाकर सड़क पर दूसरे वाहन और बिजली के खंभों को नुकसान पहुंचाया था। 

ADVERTISEMENT

600 करोड़ की हैसियत है विशाल की

जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक आरोपी विशाल अग्रवाल का पूरा खानदान या यूं भी कहें कि पिछली कई पीढ़ी इसी कंस्ट्रक्शन के बिजनेस में रही है। ब्रम्हा कॉर्प नाम की कंस्ट्रक्शन कंपनी को नाबालिक के परदादा ब्रम्हदत्त अग्रवाल ने शुरू की थी। मौजूदा समय में विशाल अग्रवाल इस 40 साल पुरानी कंपनी के मालिक हैं।  ब्रम्हदत्त अग्रवाल ने कई कंपनियां शुरू की थी। उनकी कंपनी ने पुणे के वडगांव शेरी, खराड़ी, विमान नगर इलाकों में कई बड़े हाउसिंग प्रॉजेक्ट किए। इसके अलावा आरोपी के परिवार का ब्रम्हा मल्टीस्पेस, ब्रम्हा मल्टीकॉन जैसी बिजनेस कंपनियां भी हैं। उनकी कंस्ट्रक्शन कंपनी ने पुणे में 5 स्टार होटेल्स बनाए हैं। मौजूदा वक्त में विशाल अग्रवाल के अलग अलग कंपनियों की कुल नेट वर्थ 601 करोड़ रुपये के आसपास बताई जा रही है। 

नाबालिग की सजा पर मचा बवाल

इस मामले में सबसे हैरान करने वाला पहलू तो अदालत का रहा क्योंकि वहां उस नाबालिग को उसके किए की सजा के तौर पर 300 शब्दों का निबंध लिखवाया गया। इस घटना ने सड़क से लेकर सियासी गलियारों तक में तूफान खड़ा कर दिया। जाहिर है ऐसे में महाराष्ट्र पुलिस पर जब जबरदस्त दबाव पड़ा तो उसे नाबालिग लड़के के पिता बिल्डर विशाल अग्रवाल को गिरफ्तार करना पड़ा। साथ ही साथ उस बार को भी सील कर दिया गया जहां उस नाबालिग और उसके दोस्तों ने पार्टी की थी। सीलिंग के पीछे यही आरोप था कि बार ने नाबालिग को शराब परोसी। सीसीटीवी और चश्मदीदों के जरिए जो बात सामने आई वो यही है कि उस नाबालिग ने अपने दोस्तों के संग शराब पी थी और 48 हजार रुपये का बिल चुकाया था। पुलिस ने बार के मालिक और मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया है। 
 

ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT