NIA Raid: पाकिस्तान से हो रही है गैंग्स्टरों को फंडिंग, नकेल कसने के लिए NIA की 8 राज्यों के 72 ठिकानों पर छापे

ADVERTISEMENT

देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी NIA ने गैंग्स्टरों पर नकेल कसने के लिए 72 ठिकानों पर छापे डाले
देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी NIA ने गैंग्स्टरों पर नकेल कसने के लिए 72 ठिकानों पर छापे डाले
social share
google news

NIA Raid: देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी यानी NIAने गुंडों...बदमाशों और गैंग्स्टरों के साथ साथ आतंकियों पर नकेल कसने की मुहिम पर एक बार फिर निकली। और इसी गरज से मंगलवार की सुबह NIA की टीमों ने आठ राज्यों में 72 ऐसे ठिकानों पर छापामारी की जिनका ताल्लुक किसी न किसी सूरत में ऐसे लोगों से हो सकता है। नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी से जुड़े सूत्रों की बातों पर यकीन किया जाएतो ये छापामारी पंजाब के गैंग्स्टर लॉरेंस बिश्नोई और उसकी गैंग के साथ साथ गैंग्स ऑफ पंजाब के लोगों के घर पर या ठिकानों पर की गई। राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, चंडीगढ़, मध्यप्रदेश, गुजरात और उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में NIA की टीम ने दबिश डाली। 

केंद्रीय जांच एजेंसी को ये खबर मिली है कि लॉरेंस बिश्नोई और दिल्ली के नीरज बवाना गैंग जैसे कई गैंग्स्टरों को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI फंडिंग कर रही है। एजेंसी का अंदाजा है कि ये गैंग और उसके गुर्गे देश के खिलाफ होने वाली तमाम गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं। 

देश की सबसे बड़ी एजेंसी NIA ने आठ राज्यों में 72 ठिकानों पर छापामारी की

इसी बीच ये बात भी खुली है कि पिछले साल मई महीने में पंजाब के मानसा जिले में सिंगर सिद्धू मूसेवाला मर्डर मामले में लॉरेंस बिश्नोई और नीरज बवाना ने भी हथियार सप्लाई करने वाले गिरोह के साथ संपर्क करने की बात कबूल की थी। साथ ही साथ इस बात के भी पक्के सबूत मिले हैं कि गैंग के कई गुर्गों का नाता टेरर फंडिंग ग्रुप के साथ भी है। सूत्रों से मिली जानकारी पर यकीन किया जाए तो केंद्रीय जांच एजेंसी की छापामारी में कई ठिकानों से हथियार भी बरामद हुए हैं। 

ADVERTISEMENT

ऐसा बताया जा रहा है कि NIA ने सितंबर 2022 से अब तक पंजाब के साथ साथ दिल्ली और हरियाणा में एक्टिव लॉरेंस बिश्नोई,नीरज बवाना और बंबीहा गैंग और उनके सिंडीकेट से जुड़े गुर्गों के खिलाफ एक्शन लिया है। 

इसी बीच एनआईए ने राजस्थान में लॉरेंस बिश्नोई और नीरज बवाना से जुड़े नेटवर्क को खंगालने का काम तेज कर दिया है। एनआईए के इस ऑपरेशन के निशाने पर वो तमाम गैंग हैं जो दिल्ली हरियाणा और राजस्थान में सक्रिय हैं। ऐसी खबर मिली है कि एनआईए को इस गैंग से जुड़े लोगों के ठिकानों खासतौर पर जोधपुर, सीकर, चुरू, झुंझुनू, बीकानेर और श्रीगंगानगर जैसे इलाक़ों पर छापामारी के दौरान तस्करी के कई विदेशी हथियार बरामद हुए हैं। जाहिर है कि एनआईए अब इस सबूत और सुराग की दम पर बड़ी और सख्त कार्रवाई करने की तैयारी में है। 

ADVERTISEMENT

NIA के नज़दीकी सूत्रों के हवाले से मिली खबरों पर यकीन किया जाए तो NIAने उन गैंग्स्टरों से नाता रखने वाले ठिकानों पर भी छापा मारा है जो देश की सरहद से बाहर बैठकर हिन्दुस्तान में न सिर्फ गैंग ऑपरेट किया बल्कि जुर्म भी किया है। इस फेहरिस्त में सबसे ऊपर नाम लखबीर सिंह लंडा और गोल्डी बराड़ का नाम शामिल है। बताया जा रहा है कि गोल्डी बराड़ का नाम सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस में काफी प्रमुखता से सामने आया था। 

ADVERTISEMENT

ये भी खुलासा हुआ है कि गोल्डी बराड़ ने ही सिद्धू मूसेवाला के मर्डर के लिए हथियारों के साथ साथ शूटरों का इंतजाम भी कनाडा में बैठे गोल्डी बराड़ ने किया था। और इस मर्डर को पूरी तरह से करवाने के लिए गोल्डी बराड़ अपने शूटरों के संपर्क में लगातार बना हुआ था। ऐसे में एनआईए के सूत्रों से पता चला है कि जांच एजेंसी ने उन तमाम लोगों को रडार पर ले लिया है जो किसी न किसी तरह गोल्डी बराड़ और उसके गैंग से जुड़े हुए हैं। 

लॉरेंस बिश्नोई जैसे गैंग्स्टरों को पाकिस्तान से फंडिंग हो रही इसी अंदेशे में एनआईए की छापामारी हुई

खबर सामने आ रही है कि हरियाणा के नारनौल में NIA ने मंगलवार की सुबह गैंग्स्टर सुरेंदर उर्फ चीकू के ठिकानों पर दबिश डाली। इतना ही नहीं, एनआईए की टीम ने सुरेंदर के रिश्तेदारों के घरों को भी निशाने पर ले लिया। 

इसी बीच एनआईए के सूत्र ने बताया कि UAPA एक्ट में बंद एक गैंग्स्टर्स ने पूछताछ के दौरान खुलासा किया है कि लॉरेंस बिश्नोई और नीरज बवाना गैंग को पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई फंडिंग कर रही है। और इस फंडिंग के जरिए ये गैंग उन तमाम गतिविधियों में शामिल हैं जो देश विरोधी हैं। 

खबर उत्तर प्रदेश के तराई इलाके से सामने आई जहां पीली भीत और प्रतापगढ़ में भी केंद्रीय जांच एजेंसी की टीम छापा मारती नज़र आई। NIA की टीम पंजाब की जेल में बंद एक कैदी के घर पीलीभीत पहुँची। उस वक़्त वहां लोकल पुलिस भी मौजूद थी। जबकि लॉरेंस बिश्नोई गैंग से ताल्लुक रखने वाले शख्स के घर एनआईए की टीम प्रतापगढ़ जा धमकी। 

मध्य प्रदेश के उज्जैन के नागदा में भी केंद्रीय जांच एजेंसी ने छापा मारा और योगेश भाटी के साथसाथ राजपाल चंदावत के ठिकानों पर दबिश दी। एनआईए को पता चला है कि मोहाली में इंटेलिजेंस के दफ्तर में रॉकेट लॉन्चर से हमला करने वाले आरोपियों मं एक दीपक रमदा भी है जिसका ताल्लुक योगेश और राजपाल जैसे गैंग्सटरों के साथ है। असल में पुलिस ने दीपक को नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार किया था और उसी वक़्त पूछताछ के दौरान दीपक ने इन दोनों गैंग के नाम लिए थे। 

एनआईए ने उज्जैन के नागदा से योगेश भाटी और राजपाल चंद्रावत को गिरफ्तार भी किया है। खुलासा है कि ये दोनों गैंग्स्टर कुछ अरसा पहले ही तिहाड़ से ज़मानत पर बाहर आए थे। असल में योगेश भाटी और उसका घर तभी से केंद्रीय जांच एजेंसी के रडार पर बना हुआ था जब सिद्धू मर्डर के आरोपियों ने उसके घर पर पनाह ली थी। 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...