पैसे नहीं थे इसलिए श्मशान में नहीं कर सका मां का अंतिम संस्कार, जंगल में दफनाई लाश, ये राज़ खुला तो सब चौंक गए!

ADVERTISEMENT

जांच में जुटी पुलिस
जांच में जुटी पुलिस
social share
google news

MP Bhopal News: 13 फरवरी की तारीख। भोपाल का गुनगा इलाका। यहां जंगल में एक शख्स लगातार जमीन को खोदे जा रहा था। हल्की सर्द रात में ये शख्स पसीने से तरबतर बस एक ही काम में लगा था। उसे एक गहरा गड्ढा खोदना था। फावड़े से ये शख्स जमीन का सीना चीरता जा रहा था। उसके नजदीक चादर में लिपटी एक लाश पड़ी थी।

आधी रात में जंगल में लाश

करीब दो घंटे की मशक्कत के बाद युवक ने 6 फुट गड्ढे में लाश को दफन किया और तेज कदमों से जंगल से गांव की तरफ रवाना हो गया। लाश दफना कर ये शख्स बेहद बेचैन था। अब आप सोच रहे होंगे कि ये शख्स कौन है? लाश किसकी थी? ये शख्स लाश को जंगल में क्यों दफना आया? क्या इसने कोई कत्ल किया है।

किसकी थी ये लाश

दरअसल ये पूरा मामला भोपाल के पास स्थित गुनगा थाना क्षेत्र का है। गुनगा टीआई अरुण शर्मा ने बताया, 13 फरवरी को गांव की ही रहने वाली 80 साल की तुलसी बाई की बीमारी की वजह से मौत हो गई थी। अफसोस मां की मौत के बाद बेटे जगदीश ने हिंदू रीति रिवाजों से मां का अंतिम संस्कार ना करते हुए गांव के पास जंगल में खुदे गड्ढे में दफना दिया। गांववालों को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने इसकी जानकारी पुलिस को दी और तुलसी बाई की हत्या का शक जताया गया।

ADVERTISEMENT

नहीं थे अंतिम संस्कार के पैसे

गुनगा टीआई अरुण शर्मा ने बताया कि सूचना पर कार्रवाई करते हुए तुलसी बाई के शव को गड्ढे से खोद कर निकाला गया और उसका पोस्टमॉर्टम करवाया गया। इस बीच पुलिस ने देखरेख में मृतका का रीति रिवाज से अंतिम संस्कार भी करवाया दिया। टीआई के मुताबिक, क्योंकि गांववालों ने बेटे पर हत्या का शक जताया था इसलिए बेटे को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई। तो उसने बताया कि मां की मौत के बाद उसके पास अंतिम संस्कार तक के लिए रुपए नहीं थे, इसलिए उसने जंगल में खुदे गड्ढे में मां को दफना दिया था। 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT