मराठा आरक्षण मुद्दे पर युवक ने की आत्महत्या, लिखा-यह मेरे लिए सरकारी नौकरी का सवाल है 'एक मराठा, लाख मराठा'

ADVERTISEMENT

जांच में जुटी पुलिस
जांच में जुटी पुलिस
social share
google news

Maharashtra News: महाराष्ट्र के नांदेड़ शहर में आरक्षण के मुद्दे पर मराठा समुदाय के 23 वर्षीय एक व्यक्ति ने जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस के एक अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि मार्लाक गांव का निवासी दाजिबा रामदास कदम किसी काम से शहर आया था और 11 नवंबर को जेंडा चौक क्षेत्र में उसने जहरीला पदार्थ खा लिया।

जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या 

उन्होंने कहा कि दाजिबा बेहोश हालत में मिला था और उसके रिश्तेदारों को इस बारे में सूचित किया गया। अधिकारी ने बताया कि उसे अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान 12 नवंबर को उसकी मौत हो गई। अधिकारी ने बताया कि पुलिस को दाजिबा के पास से एक नोट मिला जिसमें लिखा था, 'यह मेरे लिए सरकारी नौकरी का सवाल है। 'एक मराठा, लाख मराठा'।'

मेरे लिए सरकारी नौकरी का सवाल

उन्होंने कहा कि इस संबंध में भाग्यनगर थाने में दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज किया गया है। महाराष्ट्र में मराठाओं की आबादी 30 प्रतिशत से अधिक है और वे शिक्षा तथा सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग करते रहे हैं। मराठा आरक्षण कार्यकर्ता मनोज जरांगे ने राज्य सरकार को 24 दिसंबर तक आरक्षण घोषित करने की नयी समयसीमा दी है।

ADVERTISEMENT

(PTI)

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT