तो इस मामले में हुए महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख गिरफ्तार, ईडी ने किया गिरफ्तार

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

दिव्येश सिंह/मुनीष पांडे के साथ चिराग गोठी की रिपोर्ट

Maharashtra ex home minister Anil Deshmukh arrested by ED : वसूली मामले में ईडी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को गिरफ्तार कर लिया है। 12 घंटे की पूछताछ के बाद ईडी ने पाया कि देशमुख की तरफ से किसी भी सवाल पर संतोषजनक जवाब नहीं दिए गए। ऐसे में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और अब उन्हें कोर्ट में पेश करने की तैयारी है। ऐसे में हम आपको बताते है कि वो कौन सा मामला है जिसको लेकर अनिल देशमुख की गिरफ्तारी हुई है।

पूरा मामला जानिए

ADVERTISEMENT

वैसे जिस मामले में अनिल देशमुख की गिरफ्तारी हुई है, उसी केस में पूर्व गृह मंत्री की पत्नी और बेटे से भी पूछताछ होनी है। उन्हें भी दो बार पूछताछ के लिए समन भेजा गया है, लेकिन अभी तक वे नहीं पहुंचे हैं। केस की बात करें तो मार्च में परमबीर सिंह को मुंबई पुलिस के कमिश्नर पद से हटा दिया गया था। उन्हें होमगार्ड का डीजी बना दिया गया था। इसके बाद परमबीर सिंह की एक चिट्ठी सामने आई थी, जो उन्होंने सीएम उद्धव ठाकरे को लिखी थी। इस चिट्ठी में उन्होंने दावा किया था कि अनिल देशमुख ने गृहमंत्री रहते हर महीने सचिन वाजे से 100 करोड़ रुपये देने की मांग की थी। इसके साथ ही देशमुख पर ये भी आरोप लगाया गया था कि वो पुलिस अधिकारियों की ट्रांसफर और पोस्टिंग के एवज में पैसा लेते हैं।

ईडी को क्या सबूत मिले?

ADVERTISEMENT

देशमुख ने जरूर तमाम आरोपों को झूठ बता दिया था, लेकिन उनके खिलाफ जांच शुरू की गई। पहले इस मामले की जांच सीबीआई द्वारा की जा रही थी, लेकिन बाद में जब मनी लॉन्ड्रिंग का एंगल सामने आया, तो ईडी ने भी जांच शुरू कर दी। अब इडी ने ही देशमुख को गिरफ्तार भी कर लिया है।

ADVERTISEMENT

देखमुख ने बनाया था चैरिटेबल ट्रस्ट

वैसे ईडी को अपनी जांच के दौरान ये भी पता चला था कि सचिन वाजे ने कई आर्केस्ट्रा बार से 4.70 करोड़ रुपये वसूले थे। बाद में यहीं रुपये देशमुख को दे दिए गए थे। इसके बाद ईडी की जांच में ये भी सामने आया कि अनिल देशमुख के परिवार द्वारा Shri Sai Shikshan Sanstha के नाम से एक चैरिटेबल ट्रस्ट चलाया जाता है। उस ट्रस्ट में भी दिल्ली की फर्जी कंपनियों के जरिए 4.18 करोड़ रुपये डाले गए थे। ऐसे में ईडी को एक मनी ट्रेल दिख रहा था और उसी आधार पर देशमुख से 12 घंटे के अंदर कई सवाल किए गए।

कई बार समन भेजा पर नहीं हो रहे थे पेश, आखिकार गिरफ्तार

इससे पहले अनिल देशमुख सोमवार को सुबह 11 बजकर 55 मिनट पर खुद ईडी दफ्तर पहुंच थे। इससे पहले कई बार उन्हें ईडी द्वारा समन भेजा गया था, लेकिन वे पूछताछ में शामिल नहीं हुए थे। सोमवार को वे ईडी दफ्तर भी पहुंचे और फिर पूछताछ में शामिल भी हुए। ईडी ने पूरे 12 घंटे तक देशमुख से सवाल-जवाब किए, लेकिन क्योंकि कोई भी जवाब ईडी को ठीक नहीं लगा, ऐसे में देशमुख की गिरफ्तारी हो गई। ईडी ने स्पष्ट कहा है कि महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री ने जांच में सहयोग नहीं किया। गिरफ्तारी से पहले अनिल देशमुख का बयान दर्ज किया गया था। उन तमाम आरोपियों के बयान भी देशमुख के सामने रखे गए थे जिनका इस अपराध में सक्रिय योगदान था, लेकिन देशमुख किसी भी सवाल पर स्पष्ट जवाब नहीं दे पाए।

100 करोड़ की वसूली मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख गिरफ्तारमुंबई: पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की और बढ़ी मुश्किलें, जबरन उगाही के आरोप में वॉरेंट जारी

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT