Hit & Run का Epicentre बना महाराष्ट्र, 24 घंटे के भीतर दो Case, पुणे में पुलिस का कांस्टेबल हुआ शिकार, मौके पर ही मौत

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

न्यूज़ हाइलाइट्स

point

पुणे में एक और हुआ हिट एंड रन केस

point

पुलिस कांस्टेबल हुआ Hit & Run का शिकार

point

बाइक पर रात में गश्त कर रहा था कांस्टेबल

Pune, Maharashtra: ऐसा लगता है कि महाराष्ट्र इन दिनों हिट एंड रन का एपी सेंटर बन गया है। एक के बाद एक हिट एंड रन के मामले सामने आने के बाद महाराष्ट्र पुलिस हैरत में भी है और अलर्ट भी। लेकिन अजीब इत्तेफाक है कि जिस पुलिसवाले की ड्यूटी थी सड़कों पर बेलगाम होती तेज रफ्तार गाड़ियों पर लगाम लगाना वही पुलिस का सिपाही इस खौफनाक हिट एंड रन वाली वारदात का शिकार हो गया। पुणे में एक और हिट एंड रन का मामला सामने आया जिसमें एक कांस्टेबल की मौत हो गई। ये वारदात 7 और 8 जुलाई की दरम्यानी रात करीब 2 बजे ओल्ड पुणे मुंबई राजमार्ग पर हैरिस ब्रिज के नीचे हुई। 

बाइक पर कर रहे थे गश्त

बताया जा रहा है कि पुणे के खड़की पुलिस स्टेशन के तहत बीट मार्शल के तौर पर तैनात दो पुलिस के कांस्टेबल बाइक से रात में गश्त कर रहे थे। उसी दौरान पीछे से आई एक कार ने पुलिसवालों की बाइक में टक्कर मार दी। कार की टक्कर से बाइक चला रहे एक कांस्टेबल कोली की मौके पर ही मौत हो गई जबकि दूसरा कांस्टेबल पी सी शिंदे को जख्मी हालत में अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। लेकिन इस वारदात में जिस कार ने बाइक को टक्कर मारी थी वो ड्राइवर कार समेत फरार है। हालांकि जिस जगह ये हादसा हुआ उसके आस पास के तमाम सीसीटीवी की फुटेज के आधार पर पुलिस ने अब कार और उसके ड्राइवर की तलाश तेज कर दी है। 

24 घंटे पहले मुंबई में BMW Case

सिर्फ 24 घंटे पहले ही मुंबई में एक BMW कार ने एक स्कूटी पर सवार पति पत्नी को टक्कर मारी और बोनट पर गिरी महिला को करीब 200 मीटर तक घसीटने के बाद वो 'कातिल' BMW कार वहां से फरार हो गई। बाद में पता चला कि बीएमडब्ल्यू कार पालघर के शिवसेना के नेता राजेश शाह का 24 साल का बेटा मिहिर शाह चला रहा था। इस हादसे के बाद से ही मिहिर शाह पुलिस की पकड़ से दूर बना हुआ है। पुलिस ने उसके खिलाफ गैरइरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया है जबकि उसके पिता और शिव सेना के नेता राजेश शाह और उनके ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया है। 

ADVERTISEMENT

पुणे का पोर्श कांड कोई नहीं भूला

ज्यादा पुरानी बात नहीं है जब पुणे में पोर्श एक्सीडेंट का किस्सा मीडिया की सुर्खियों में छाया हुआ था। उस एक्सीडेंट में दो IT प्रोफेशनल्स की मौत हो गई थी। इस हादसे का शिकार हुए दोनों इंजीनियरों की पहचान अनीश अवधिया और अश्विनी कोष्टा के तौर पर हुई थी। इस मामले में गिरफ्तारी के कुछ घंटे बाद ही नाबालिग को जमानत मिल गई थी। उस नाबालिग की जमानत के बाद ही देशभर में हंगामा मच गया था। मामले के तूल पकड़ते ही पुलिस और सरकार एक्शन में आ गई थी। तब कोर्ट की तरफ से आरोपी की जमानत रद्द हो गई। जबकि इस मामले में सबूतों से छेड़छाड़ करने और पूरे मामले में लीपापोती करने के आरोप में नाबालिग आरोपी के माता पिता और दादा को गिरफ्तार किया गया था। 
 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...