कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की मुंह बोली 'भांजी' ने किया सुसाइड! तीन मौतों को लेकर खड़े हुए कई सवाल!

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

MP Crime News: मध्य प्रदेश के सागर जिले के खुरई से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। पहले तो यहां मर्डर केस के एक गवाह को राजीनामा करने के लिए बुलाया गया, जब वो राजीनामे के लिए तैयार नहीं हुआ तो आरोपियों ने मिलकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद मृतक का पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन जब बॉडी लेकर घर आ रहे थे रास्ते में मृतक की भतीजी ने शव-वाहन का गेट खोलकर छलांग लगा दी जिससे उसकी भी मौत हो गई। परिजनों के मुताबिक मृतक की भतीजी भी उस केस में चश्मदीद थी। बताया जा रहा है कि मरने वाली लड़की दिग्विजय सिंह की मुंह बोली 'भांजी' थी। एडिशनल एसपी संजीव कुमार ने बताया कि ये घटनाक्रम शनिवार को ही हुआ है। पुलिस अब पूरे मामले की जांच कर रही है ताकि एक हत्या और दूसरी आत्महत्या के पीछे का सच उजागर हो सके और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जा सके।

दिग्विजय सिंह की मुंह बोली 'भांजी' की मौत का सच

इस घटना क्रम के बाद पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह भी मृतक के गांव बरोदिया नैनागिर पहुंचे। पीड़ित परिवार से मिले और नौ महीने पहले जिसे भांजी बनाया था उसके अंतिम संस्कार में शामिल हुए। मीडिया से बातचीत में दिग्विजय ने जिला प्रशासन के रवैया पर नाराजगी जाहिर की और मुख्यमंत्री से जिला प्रशासन में अहम पदों पर बैठे प्रशासनिक अधिकारियों को हटाने की मांग भी की है। 

एक के बाद एक तीन मौतें

दरअसल 9 महीने पहले अगस्त 2023 में नितिन अहिरवार नाम के युवक की गांव के लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी थी। तब यह मामला काफी सुर्खियों में रहा था। राजेंद्र अहिरवार नितिन हत्याकांड का प्रमुख गवाह था। दूसरा पक्ष चाहता था कि राजीनामा हो जाए। इसके लिए उन्होंने राजेंद्र को पप्पू के घर बुलाया। वहां पर राजेंद्र पर राजीनामे का दबाव बनाया गया। इस बात को लेकर राजेंद्र अहिरवार और पप्पू रजक के बीच बीते शनिवार झगड़ा हो गया। बात इतनी बढ़ गई कि राजेंद्र को पप्पू के साथियों ने बुरी तरह से पीटा। राजेंद्र की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इसके बाद गांव में हड़कंप मच  गया था। सूचना मिलते ही भारी संख्या में पुलिस बल भी मौके पर पहुंच गई। राजेंद्र के पिता की शिकायत के आधार पर आशिक, बबलू ,इसराइल, फहीम, टंटु सहित अन्य लोगों पर खुरई थाने में मामला दर्ज किया गया था। राजेंद्र अहिरवार का पोस्टमार्टम रविवार की सुबह बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में कराया गया। इसके बाद राजेंद्र अहिरवार की बॉडी को लेकर परिवार अपने घर जा रहा था। बड़ोदिया पहुंचने से करीब 20 किलोमीटर पहले खुरई केर गांव में अंजना ने शव-वाहन से छलांग लगा कर अपनी जान दे दी।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT