लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ को आई कनाडा से धमकी, अर्श डल्ला ने कहा, यमुना में काट कर फेंकेंगे

ADVERTISEMENT

गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई को खुली धमकी अर्श डाला ने भेजी
गोल्डी बराड़ और लॉरेंस बिश्नोई को खुली धमकी अर्श डाला ने भेजी
social share
google news

Gangs Of Pakistan: जिस बात की आशंका पुलिस को महसूस हो रही थी अब ये बात उसे जमीन पर उतरती दिखाई पड़ने लगी है। दिल्ली से लेकर पंजाब तक की पुलिस अलर्ट है क्योंकि अब एक लंबी गैंगवॉर छिड़ने वाली है। सूत्रों की बातों पर यकीन किया जाए तो पुलिस ने आशंका जाहिर की है कि ये गैंगवॉर अब तक हुई तमाम गैंगवॉर के मुकाबले बेहद खतरनाक हो सकती है जिसमें में दिल्ली हरियाणा, राजस्थान और पंजाब में खून बहेगा। 

 सात समंदर पार से आई धमकी

सबसे ताजा खुलासा सामने आया है सात समंदर पार से जब कनाडा में बैठकर ऑपरेट कर रहा आतंकी अर्श डाला ने हिन्दुस्तान की जेल में बंद गैंग्स्टर लॉरेंस बिश्नोई और कनाडा के साथ साथ अमेरिका की जमीन से हिन्दुस्तान में गैंग चला रहे गोल्डी बराड़ को धमकी दी है। एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में अर्शदीप उर्फ अर्श डाला ने साफ साफ कहा है कि जिस तरह लॉरेंस के सबसे खास गुर्गे को उसके घर से उठाकर मारा है, ठीक उसी तरह उन लोगों को भी उनके अंजाम तक पहुँचाया जाएगा। 

कनाडा से आई है लॉरेंस को मारने की धमकी

राजन को मारने का किया खुलासा

उस इंटरव्यू में अर्श डाला ने साफ तौर पर कुबूल किया है कि राजन को मारकर उसे जलाने का काम उसके ही इशारे पर उसके आदमियों ने किया है, जिनका पता अभी तक पुलिस भी नहीं लगा सकी। उसका दावा है कि पुलिस कभी भी उन लोगों तक नहीं पहुँच पाएगी जिन्होंने राजन को उसके किए की सजा दी है। 

ADVERTISEMENT

अर्श डल्ला ने कहा राजन को दी उसके किए की सजा

राजन को मारने के पीछे सिर्फ यही बात थी कि राजन ने हमारे साथ जो जो गलत काम किए उसे उसका सबक सिखाना बहुत जरूरी था। साथ ही अब ये भी साफ कर दिया है कि हमने लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ दोनों के बारे में अच्छी मालूमात हासिल कर ली है। हम जब चाहेंगे तब इन लोगों को इनके किए की सजा दे देंगे। हमें कोई जल्दी नहीं है। 

लॉरेंस के खास शूटर राजन को मारने की वजह का भी अर्श डल्ला ने खुलासा किया

शराब माफिया लक्ष्मण देवासी की हत्या करवाई थी राजन ने

अर्श डाला के मुताबिक राजस्थान के सांचोर में शराब माफिया लक्ष्मण देवासी की हत्या लॉरेंस बिश्नोई गैंग के सबसे खास शूटर राजन ने ही की थी। जिसका बदला हमने उसका काम तमाम करके ले लियाहै। सांचौर जिले में शराब कारोबारी लक्ष्मण देवासी की गोली मारकर हत्या करने वाले शूटर वारदात को अंजाम देने के बाद फरार हो गए थे। इस मामले में सुपारी देकर हत्या करवाने के आरोप में प्रकाश गोदारा व मुकेश खीचड़ तो पकड़े गए थे। लेकिन गोली मारने वाले तीनों शूटर व सुपारी लेने वाला विष्णु पुलिस की पहुंच से दूर बने रहे। 

ADVERTISEMENT

पांच महीने बाद सामने आया सच

उस कांड के करीब पांच महीने के बाद इस बात का पता चला है कि लक्ष्मण देवासी की हत्या के पीछे दरअसल लॉरेंस बिश्नोई गैंग का हाथ था। और बंबीहा गैंग के सबसे खास रहे अर्श डाला की बातों पर यकीन किया जाए तो लॉरेंस के इशारे पर ही लक्ष्मण देवासी की हत्या की गई थी और उसे गोली मारने की जिम्मेदारी राजन को खुद लॉरेंस ने सौंपी थी। 

ADVERTISEMENT

5 महीने बाद सामने आया शराब माफिया लक्ष्मण देवासी की हत्या का सच

लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी को दी डल्ला ने धमकी

लॉरेंस बिश्नोई और गोल्डी बराड़ के बारे में अर्श डल्ला ने कहा है कि हम ये तो नहीं कहते कि अगला नंबर लॉरेंस बिश्नोई या गोल्डी बराड़ का है लेकिन इतना तय है कि हम इन दोनों का काटकर यमुना में ही फेंकेगे। अर्श डल्ला ने खुद को खालिस्तानी होने की बात से इनकार करते हुए कहा कि दिल्ली पुलिस ने उसके खिलाफ जो केस बनाया है वो एकदम गलत है। अर्श डाला ने ये भी कहा है कि जिस हिन्दू की हत्या के सिलसिले में दो आदमियों को गिरफ्तार करके उन्हें मेरा आदमी बताया जा रहा है वो भी एकदम गलत है। मेरा उन लोगों से कभी कोई नाता नहीं रही। जीरो परसेंट हम इसमामले में जानते हैं। दिल्ली पुलिस ने जो केस बनाया है तो बनाया है लेकिन ये बात मैं अपनी तरफ से बता रहा हूं कि मेरा दिल्ली में उस हत्या से कोई लेना देना नहीं। और साथ ही मैं न तो किसी संगठन के संपर्क में हूं।

हम बड़ी बड़ी नहीं हांकते

अपने बंबीहा गैंग के बारे में अर्श डल्ला ने साफ किया कि हम सभी भाई हैं कोई भी गैंग लीडर नहीं होता। लेकिन हम लॉरेंग और गोल्डी बराड़ गैंग की तरफ हवा में बात नहीं करते। इन लोगों को मीडिया में रहने का चस्का है। और इसी लिए ये लोग बड़ी बड़ी हांकते रहते हैं, लेकिन हम छोटी मोटी बात नहीं कहते बस इतना कहते हैं कि इन लोगों को हम बताएंगे कि दुश्मनी होती क्या है, जब हम इन्हें काट काटकर यमुना में बहाएंगे। राजन को तो सिर्फ सिर में गोली मारकर उसे जलाया है। इन्हें तो हम काटेंगे, लेकिन हम ये सब अपनी तसल्ली के हिसाब से करेंगे। हम किसी भी तरह से जल्दबाजी में कोई काम नहीं करते। हमारे सारे भाई अपने अपने काम में लगे हुए हैं। 

बंबीहा गैंग का फेसबुक पोस्ट जिसमें राजन को मारने की बात कबूल की

खून से लाल होने वाली है जमीन

पंजाब से लेकर दिल्ली तक ये बात अब साफ हो चुकी है कि लॉरेंस और बंबीहा गैंग की लड़ाई में अब तक कई लोग मौत के घाट उतर चुके हैं। और जब जब इन दोनों गैंग के लोग आमने सामने आते हैं तो सड़क या जमीन खून से लाल हो जाती है। और इसी की सबसे ताजा मिसाल है लॉरेंस गैंग के बंबीहा गैंग की तरफ से दी गई गहरी चोट जो उसके शूटर राजन को मौत के घाट उतारकर दी गई। 

 पंजाब से लेकर दिल्ली तक की पुलिस अलर्ट मोड पर 

हालांकि राजन का मारा जाना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है। वो पहले से ही घोषित अपराधी है और उसका कई मामलों में नाम सामने आ चुका है। इसके बावजूद बंबीहा गैंग की तरफ से अरसे बाद पहली बार लॉरेंस गैंग के किसी गुर्गो को मारा गया है। जिसकी जिम्मेदारी उसने खुलकर सोशल मीडिया पोस्ट में ली है। ऐसे में अब ये माना जा रहा है कि लॉरेंस अपने शूटर की मौत का बदला लेने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है और जेल से लेकर दिल्ली तक वो कहीं भी बंबीहा गैंग या उसका साथ देने वाले गैंग्स्टरों के खिलाफ निशाना साध सकता है। लिहाजा इसी पलटवार की वजह से गैंगवॉर की आशंका के मद्देनजर पंजाब से लेकर दिल्ली तक की पुलिस अलर्ट मोड पर आ चुकी है। 

गैंगवॉर की आशंका में दिल्ली से लेकर पंजाब तक पुलिस अलर्ट

अर्श डल्ला का भी हाथ

लॉरेंस गैंग के शूटर राजन की हत्या की जिम्मेदार जब बंबीहा गैंग ने सोशल मीडिया पर ली तो ये बात भी निकलकर सामने आ गई कि राजन के मर्डर में कनाडा में बैठे गैंग्स्टर और भारत की सबसे बड़ी जांच एजेंसी NIA के मुताबिक आतंकी अर्श डल्ला का भी हाथ हो सकता है। कहा तो यहां तक जा रहा है कि अर्श डल्ला के अलावा इस हत्या का इशारा गौरव उर्फ लकी पटियाल की तरफ से आया है। गौरव या लकी पटियाल विदेश में रहता है और वहीं से बंबिहा गैंग को ऑपरेट कर रहा है। 

ये दुश्मनी बहुत पुरानी है

हालांकि पंजाब से लेकर दिल्ली तक की पुलिस जानती है कि लॉरेंग गैंग और बंबीहा गैंग के बीच की ये दुश्मनी बहुत पुरानी है। असल में इसकी शुरूआत करीब 14 साल पहले हुई थी जब बंबीहा गैंग के सरगना दविंदर बंबीहा था और वो महज एक कबड्डी खिलाड़ी हुआ करता था। उसका जुर्म की दुनिया से कोई लेना देना नहीं था। लेकिन सार 2010 में एक कत्ल के केस में उसका नाम पहली बार सामने आया। उस समय दविंदर बंबीहा ग्रेजुएशन कर रहा था। 

बंबीहा गैंग की पूरी कहानी

असल में गांव के दो गुटों में हुए एक झगड़े के दौरान एक शख्स की मौत हो गई थी और उसके कत्ल का इल्जाम दविंदर बंबीहा पर लगाकर उसे जेल भेज दिया गया था। जेल में ही दविंदर बंबीहा कई गैंग्स्टरों के संपर्क में आया और उसके बाद दविंदर बंबीहा ने अपना गैंग बना लिया था। लेकिन 2016 में बठिंडा के पास एक पुलिस मुठभेड़ में दविंदर बंबीहा मार गिराया गया। मगर उसका गैंग खत्म नहीं हुआ। 

लॉरेंस बिश्नोई का गैंग 

गैंग्स्टर लॉरेंस बिश्नोई भी जेल में रहकर अपना गैंग चलाता है। बिश्नोई पर सलमान खान पर 2 बार हमले की साजिश रचने, विदेशों से हथियार मंगाने और सिद्धू मूसेवाला की हत्या में शामिल होने का आरोप है। इसके गुर्गे पंजाब, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, और राजस्थान में एक्टिव हैं...जबकि इस गैंग का सबसे बड़ा नाम गोल्डी बराड़  कनाडा से ऑपरेट करता है। 

ऐसे हुई दोनों गैंग के बीच दुश्मनी

असल में बंबीहा गैंग ने अक्टूबर 2020 में चंडीगढ़ में गुरलाल बराड़ की हत्या कर दी थी। गुरलाल गोल्डी बराड़ का छोटा भाई था। गोल्डी बिश्नोई गैंग का ही सदस्य है और लॉरेंस का पक्का दोस्त। वह कनाडा में है और वहीं से गैंग को ऑपरेट करता है। गुरलाल भी लॉरेंस का करीबी था। जब लॉरेंस को ये पता चला कि गुरलाल की हत्या की साजिश बंबीहा गैंग ने रची। तो उसके बाद से ही बिश्नोई गैंग और बंबीहा गैंग के बीच दुश्मनी बढ़ती गई। असल में बंबीहा गैंग ने अक्टूबर 2020 में चंडीगढ़ में गुरलाल बराड़ की हत्या कर दी थी। गुरलाल गोल्डी बराड़ का छोटा भाई था। गोल्डी बिश्नोई गैंग का ही सदस्य है और लॉरेंस का पक्का दोस्त। वह कनाडा में है और वहीं से गैंग को ऑपरेट करता है। गुरलाल भी लॉरेंस का करीबी था। जब लॉरेंस को ये पता चला कि गुरलाल की हत्या की साजिश बंबीहा गैंग ने रची। तो उसके बाद से ही बिश्नोई गैंग और बंबीहा गैंग के बीच दुश्मनी बढ़ती गई। 

विक्की मिद्दूखेड़ा के मर्डर से आया टर्निंग प्वाइंट

बात उस वक्त बहुत ज़्यादा बिगड़ गई जब अगस्त 2021 में मोहाली में विक्की मिद्दूखेड़ा की हत्या हुई। विकी मिद्दुखेड़ा की हत्या के बाद बंबीहा गैंग ने इसकी जिम्मेदारी ली थी। क्योंकि मिद्दूखेड़ा युवा अकाली दल का एक नेता था और 2009 में मिद्दूखेड़ा लॉरेंस बिश्नोई के संगठन स्टूडेंट ऑर्गनाइजेशन ऑफ पंजाब यूनिवर्सिटी का अध्यक्ष बना था। कहा जाता है कि विक्की लॉरेंस बिश्नोई का खास आदमी था। विक्की मिद्दूखेड़ा हत्याकांड में सिद्धू मूसेवाला के मैनेजर शगुनप्रीत सिंह का भी नाम सामने आया था। शगुनप्रीत पर आरोप है कि उसने हत्या को अंजाम देने वाले शूटरों को सुपारी दी थी। सुपारी देने के बाद शगुनप्रीत ऑस्ट्रेलिया भाग गया था। 

सिद्धू मूसेवाला की हत्या पंजाब के गैंगवॉर का टर्निंग प्वाइंट है

लॉरेंस गैंग ने लिया बदला

मिद्दूखेड़ा की हत्या के बाद लॉरेंस बिश्नोई गैंग ने 29 मई 2022 को सिद्धू मूसेवाला की हत्या करके गुरलाल और मिद्दूखेड़ा की मौत का बदला लिया। सिद्धू पर कार से आए शूटरों ने अंधाधुंध गोलियां चलाई थीं। उस वक्त सिद्धू अपनी थार कार से कहीं  रहे थे। सिद्धू मूसेवाला को 19 गोलियां लगीं थी। सिद्धू की हत्या की जिम्मेदारी बिश्नोई गैंग ने ली थी। गोल्डी बराड़ ने कनाडा में बैठकर इसे पूरे हत्याकांड की साजिश रची थी। गोल्डी बराड़ ने मूसेवाला की हत्या के बाद फेसबुक पोस्ट में लिखा था, हम मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी लेते हैं. मूसेवाला ने हमारे भाई विक्की की हत्या में मदद की थी. इसका बदला लिया गया।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT