IPS ने सिपाही को कमरे में बुलाकर मुर्गा बनाया, और फिर फैला पूरे महकमें में रायता...

ADVERTISEMENT

कानपुर के महाराजपुर थाने से बाहर आई खबर से महकमे में मचा हड़कंप
कानपुर के महाराजपुर थाने से बाहर आई खबर से महकमे में मचा हड़कंप
social share
google news

Kanpur News: क्या कोई अफसर अपने मातहत को अपने कमरे में बुलाकर उसके साथ बेअदबी कर सकता है? क्या कोई अफसर अपने दफ्तर में किसी मातहत को मुर्गा बना सकता है? असल में ऐसे ही अजीबो गरीब सवालों की इन दिनों बहस सी चल पड़ी है जबसे कानपुर का एक किस्सा सामने आया। ये मामला पुलिस महकमें का है। क्योंकि यहां एक IPS अफसर ने सिपाही को अपने कमरे में बुलाकर उसे मुर्गा बना दिया। और जैसे ही ये खबर आला अफसर के कमरे से बाहर निकली बस तभी से पूरा महकमा और महकमें के सिपाही बांग देते घूम रहे हैं। 

कमरे में बुलाकर मुर्गा बनाया

खुलासा है कि कानपुर में एक सिपाही ने एक आईपीएस अधिकारी के खिलाफ मारपीट और मुर्गा बनाकर सजा देने का आरोप लगा दिया है। और जबसे सिपाही की शिकायत का खुलासा महकमें में बाहर निकलता बस तभी से कानपुर पुलिस में हड़कंप मचा हुआ है। 

आईपीएस आकाश पटेल जिन पर सिपाही ने मारपीट का आरोप लगाया

मानसिक तकलीफ ज्यादा

शिकायत करने वाले सिपाही का कहना है कि उसके साथ जो कुछ हुआ उससे उसे न सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक तकलीफ ज्यादा हुई है। लेकिन इस वाकये के खुलासे से अब कानपुर पुलिस में हर कोई सकते में है। खुलासा है कि अब महकमां इस पूरे मामले की जांच करवाने की बात कर रहा है। 

ADVERTISEMENT

आईपीएस अफसर ने की मारपीट

असल में ये किस्सा कानपुर के महाराजपुर थाने के सिपाही पद्माकर द्विवेदी का है। बात बीती 19 अक्टूबर का है। जब पद्माकर द्विवेदी को उसके अफसर आईपीएस आकाश पटेल ने अपने कमरे में बुलाया और फिर पहले तो उसे खूब खरी खोटी सुनाई फिर उसके साथ हाथापायी भी की इतना ही नहीं जब उनका दिल नहीं भरा तो उन्होंने मुर्गा बना दिया। 

बिना पड़ताल किए

सिपाही का कहना है कि आईपीएस की पिटाई से सिपाही को शारीरिक चोट तो लगी है लेकिन उसके मन में इसका काफी गहरा प्रभाव पड़ा। इसी बीच सिपाही ने पत्रकारों को बताया कि असल में एडीसीपी साहब इस बात पर भड़के हुए थे कि उनके पास एक लड़के के घरवालों ने ये शिकायत कर दी कि सिपाही ने गलत तरीके से उनके मामले की पेशकश की। हुआ ये कि महाराजपुर में एक लड़की के घरवालों उसके प्रेमी की पीट पीटकर हत्या कर दी थी। साथ ही लड़की के घरवालों ने इस घटना का वीडियो भी बनाया था। ये मामला जब पुलिस के पास पहुँचा तो इस मामले में शामिल एक लड़के को सिपाही ने गलत तरीके से धमकाया और समझाया। जिसकी शिकायत उस परिवार ने बड़े अफसरों से कर दी। और उन्हीं की शिकायत के बाद एडीसीपी ने बिना पड़ताल किए सिपाही को बुलाकर मुर्गा बना दिया। 

ADVERTISEMENT

महकमे में फैला रायता

सिपाही का तो यहां तक कहना है कि पुलिस ने पहले से ही धारा 304 के तहत केस दर्ज कर लिया है। ऐसे में सिपाही के किसी मामले में दखल की कोई गुंजाइश ही नहीं बचती। लेकिन जब आईपीएस ने इस मामले में सिपाही को ही सजा दे दी तो फिर एक  तरह से रायता ज्यादा फैल गया। 

ADVERTISEMENT

मीडिया में पहुँचा मामला

सिपाही का कहना है कि कमिश्न के सामने पेश होकर उसने मामले की पूरी जानकारी भी दे दी। लेकिन ये मामला महकमें की दहलीज लांघकर मीडिया की चौखट तक पहुँच गया। मीडिया में आने के बाद अब ये गली गली चटकारे वाली चर्चा का विषय बना हुआ है।  अब इस मामले की जांच कानपुर पुलिस कमिश्नर ने डीसीपी ईस्ट शिवाजी शुक्ला को सौंप दी गई है। डीसीपी का कहना है कि सिपाही और एडीसीपी के बीच के इस मामले की जांच हो रही है। 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...