अपनी बेटी का प्यार बर्दाश्त नहीं हुआ! पहले तंत्र-मंत्र, फिर एक्सीडेंट का प्लान और आखिर में ऐसे मार डाला!

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

कानपुर से रंजय के साथ चिराग गोठी की रिपोर्ट

Kanpur News: कानपुर में रोंगटे खड़े कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां अपनी बेटी से प्रेम विवाह करने वाले प्रेमी की हत्या के लिए लड़की के बाप और घर वालों ने पहले तो जमकर तंत्र-मंत्र कराया। जब इससे भी बात नहीं बनी तो उसका एक्सीडेंट कराने का प्लान किया। जब ये योजना भी सफल नहीं हो पाई तो उन्होंने प्रेमी के दोस्त को ही अपने साथ मिलाकर उसका अपहरण करके हत्या कर डाली। कानपुर पुलिस ने इस मामले में प्रेमिका के पिता, मां और भाई समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

क्या था पूरा मामला?

कानपुर के सचेंडी इलाके में रहने वाले अजय कमल का अपने घर के पास रहने वाले राज बहादुर की बेटी आकृति सिंह से अफेयर हो गया। इन लोगों ने एक साल पहले घर से भाग कर चुपचाप शादी कर ली थी। आकृति क्षत्रिय बिरादरी से थी जबकि अजय हरिजन बिरादरी से। आकृति के परिवार वालों को यह शादी बर्दाश्त नहीं हुई। ये बात अजय और आकृति दोनों को पता थी इसीलिये परिवार के डर से दोनों कानपुर से कुछ दूरी पर रहने लगे। बीती 17 मई को अजय जिस फैक्ट्री में काम करता था अचानक वहां से लौटते समय रास्ते से गायब हो गया। 18 मई को उसका शव हाइवे किनारे मिला। पुलिस ने तहकीकात शुरू की। इस दौरान अजय के घर वालों ने इस मामले में सीधे-सीधे आकृति के परिजनों पर उसकी हत्या करने का आरोप लगाया। 19 मई को पोस्टमार्टम के बाद बॉडी मिलते ही सचेंडी थाने के बाहर अजय के परिजनों ने प्रदर्शन भी किया। 

ADVERTISEMENT

ऑनर किलिंग का सच!

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हुआ कि अजय की मौत गला दबाने से हुई थी। पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए आकृति के पिता राज बहादुर, उसकी मां मीना, भाई शरद समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। डीसीपी पश्चिम विजय ढुल का कहना है कि दोनों ने प्रेम विवाह किया था। इससे राज बहादुर काफी नाराज थे। जिसके चलते अजय को रास्ते से हटाने की प्लानिंग की गई। 

ऐसे बनाई मारने की योजना

प्लान के मुताबिक इस साजिश में महावीर नाम के शख्स को भी शामिल किया गया। इसके लिए उसे बाकायदा 30 हजार रुपए दिए गए। इस हत्याकांड में एक महिला का भी रोल था। महिला ने अजय के बारे में सारी जानकारी राज बहादुर को दी थी। ऐसा उसने क्यों किया इसकी जांच जारी है। महावीर और वो महिला अजय के पड़ोस में रहते थे। महावीर ने अजय से दोस्ती की। इसके बाद अजय के बारे में जानकारी आकृति के भाई शरद को दे दी। 17 मई को शरद और उसके पिता ने अजय को कार में खींच लिया। उसका अपहरण किया और फिर हत्या कर दी। हत्या करने के बाद उसके शव को एक शोरूम के पास हाइवे पर फेंक दिया। पुलिस के मुताबिक, इसमें पांच लोग पकड़े गए हैं। पड़ोसी महिला अभी तक फरार है। 

ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT