ADJ UTTAM ANAND MURDER CASE : सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड सरकार से 7 दिनों में मांगी रिपोर्ट

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

झारखंड के धनबाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (ADJ) उत्तम आनंद की हत्या के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सख्त रूख अपनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड सरकार से एक हफ्ते के भीतर रिपोर्ट मांगी है. इस सनसनीखेज हत्या को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने झारखंड के चीफ सेक्रेटरी और DGP से पूछा है कि जज की हत्या के मामले में अब तक क्या जांच की गई है.

झारखंड में जज की मौत बनी पहेली, हादसा या हत्या?

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में अधिकारियों से एक हफ्ते के भीतर पूरी रिपोर्ट मांगी है. सीजेआई जस्टिस एनवी रमणा और जस्टिस सूर्यकांत की पीठ ने स्वत: संज्ञान लेते हुए कहा कि झारखंड में हाल के महीनों में न्यायिक अधिकारियों और वकीलों पर जानलेवा हमलों की वारदात बढ़ी हैं. इसका सीधा मतलब कानून व्यवस्था से है. ये स्थिति चिंता बढ़ाने वाली है. लिहाज़ा राज्य सरकार और पुलिस प्रशासन इस बारे में रिपोर्ट दे.

गैंग्स ऑफ वासेपुर की दुश्मनी का शिकार तो नहीं बन गए धनबाद के अतिरिक्त जिला जज

न्यायिक आजादी पर हमला : SCBA

ADVERTISEMENT

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन (SCBA) के अध्यक्ष विकास सिंह ने इस हमले को लेकर कहा था कि ये न्यायिक आजादी पर हमला है. उन्होंने कहा कि अगर न्यायपालिका को स्वतंत्र रहना है तो जजों को सुरक्षित रखना होगा. एक जज की इस तरह से हत्या नहीं की जा सकती है.

DHANBAD ADJ CASE : सीसीटीवी फुटेज से खुला राज़, हादसा नहीं ये हत्या है, 4 तस्वीरों से समझिए पूरा केस

बता दें किझारखंड पुलिस ने ADJ उत्तम आनंद की हत्या के मामले में 2 ऑटो चालक लखन वर्मा और उसके सहयोगी राहुल वर्मा को गिरफ्तार किया गयाथा. लखन ने जुर्म कबूल करते हुए कहा था कि उसने टैंपो से जज को धक्का मारा था. अभी इस मामले की जांच के लिए SIT का गठन भी कर दिया गया है.

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...